जबलपुर के 10 ब्लैक स्पॉट जहां जिंदगी हार जाती है सडक़ हादसे में

-ट्रैफिक पुलिस ने 2019 सहित पिछले तीन वर्षों में हुए हादसे को देखते हुए किया चिन्हित

By: santosh singh

Published: 22 Aug 2020, 09:48 AM IST

जबलपुर। जिले में 10 ऐसे ब्लैक स्पॉट हैं, जहां हादसे का खतरा अन्य स्थानों की तुलना में सबसे अधिक होती है। कहीं लेफ्ट टर्न समस्या बनी हुई है तो कहीं संकरे रोड या फिर क्रासिंग की वजह से हादसे हो रहे हैं। पिछले तीन वर्षों में हुए हादसों के विश£ेषण के बाद ट्रैफिक पुलिस ने ब्लैक स्पॉट चिन्हित किए हैं। इन स्थानों की रोड इंजीनियरिंग की खामी को भी चिन्हित किया है और हादसों को रोकने के लिए प्लान भी तैयार किया है।
जानकारी के अनुसार वर्ष 2018 में चिन्हित किए गए सात ब्लैक स्पॉट में शामिल रहा पनेहरा पेट्रोल पम्म के सामने की समस्या जस की तस बनी हुई है। दरअसल पनेहरा पेट्रोल पम्प से लेकर सतपुला ब्रिज तक का हिस्सा जीसीएफ के स्वामित्व में आता है। यहां सडक़ की चौड़ाई बढ़ाने से लेकर निर्माण कार्य या अन्य फेरबदल के लिए जीसीएफ प्रबंधन को निर्णय लेना है। पनेहरा पेट्रोल पम्प का पिछले दिनों ट्रैफिक डीएसपी मधुकर चौकीकर ने निगम के कार्यपालन यंत्री संजय पांडे और स्मार्ट सिटी के इंजीनियर अनिकेत गोरिया के साथ निरीक्षण किया था। वहीं ट्रैफिक डीएसपी मयंक सिंह चौहान ने भी अधिकारियों के साथ संयुक्त निरीक्षण कर ब्लैक स्पॉट की खामियों को चिन्हित करते हुए सुधार कराने का सुझाव दिया है।
आंकड़ों से समझे हादसों की गणित-
श्रेणी-वर्ष 2019-2018-कमी प्रतिशत में
मौत-210-260-19.2
घायल-1747-2142-18.44
हादसा-1613-2070-22.30
--------
माहवार हादसे में मरने वालों की संख्या-
जनवरी-46
फरवरी-34
मार्च-36
अप्रैल-10
मई-27
जून-18
जुलाई-39

chungi_chuki.jpg
IMAGE CREDIT: patrika

संयुक्त जांच में ये मिली खामिया-
पनेहरा पेट्रोल पम्प-
थाना-रांझी
-पनेहरा पेट्रोल पम्प मुख्य रोड से 20 फीट की दुरी पर हे। वाहन रोड क्रास कर पम्प पर जाते हैं। पेट्रोल पम्प अन्यत्र शिफ्ट किया जाए।
-मुख्य रोड पर मार्किंग चेतावनी व स्पीड लिमितट बोर्ड के साथ ब्लिंकर लगाया जाए।
-रोड डिवाइडर बनाया जाय। इसके लिए जीसीएफ से पत्राचार किया जाए।
-पनेहरा पेट्रोल पम्प के आगे संकीर्ण पुलिया का चौड़ीकरण किया जाए।
-----
उर्दना नाला से सुहागी हनुमान मंदिर-
थाना-अधारताल
-उर्दना नाला से सुहागी हनुमान मंदिर होते हुए महाराजपुर चौराहे तक खस्ताहाल रोड को नया बनाया जाए।
-रोड पर मार्किंग, लाईनिंग, चेतावनी बोर्ड, जेब्रा क्रासिंग, फुटपाथ, रोड डिवाईडर, स्ट्रीट लाईट, रेड लाईट ब्लिंकर लगाया जाए।
-महाराजपुर चौराहे का ट्रैफिक इंजीनियिरंग के हिसाब से निर्माण किया जाए।
-----
चुंगी चौकी से डॉक्टर बुधराज के सामने
थाना-घमापुर-
-डॉ. बुधराज रोड पर एमपी हाउसिंग बोर्ड मार्केट के सामने, पीपल पेड़ के सामने कांचघर रोड पर स्पीड ब्रेकर बनाना होगा।
-इस मार्ग पर चेतावनी बोर्ड, फुटपाथ, रोड डिवाईर, रेड लाईट ब्लिंकर लगाया जाए।
-रोड की डामरीकरण व रोड लाइटिंग का काम हो चुका है।
-----
सूपाताल रामायण मंदिर-
थाना-गढ़ा
-यहां मार्ग घुमावदार व संकरा है। तेज गति से वाहन चलाने पर हादसे होते हैं।
-यहां रम्बल स्ट्रिप, संकेतक बोर्ड और प्रकाश व्यवस्था करानी होगी।
-यहां ट्रैफिक की पेट्रोलिंग लगायी जाए।
-----
रिछाई तिराहा-
थाना-बरेला
-राज्य मार्ग 30 पर यह पीडब्ल्यूडी के अंतर्गत आती है।
-रोड मोडयुक्त व संकीर्ण होने से, अंधेरा होने और संकेतक नहीं लगने से हादसे होते हैं।
-सडक़ मार्ग पर रम्बल स्ट्रिप व संकेतक बोर्ड लगाए गए हैं।
-प्रकाश के लिए सम्बंधित विभाग से पत्राचार किया गया है।
---
मदनमहल से होमसाइंस कॉलेज रोड 300 मीटर-
थाना-मदनमहल
-यहां डिवाइडर नहीं होने और कई मार्ग जुड़े होने से वाहनों के अचानक मुख्य मार्ग पर आने पर हादसे होते हैं।
-संकेतक बोर्ड, गति निर्धारण बोर्ड और सडक़ के दोनों ओर मार्किंग कराना होगा।
-यातायात पुलिस द्वारा यहां पेट्रोलिंग लगायी जाती है

mankedi.jpg
IMAGE CREDIT: patrika

पाटन बायपास से कटंगी बायपास के बीच
थाना-माढ़ोताल
-एनएच-7 पर स्थित है और राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण के अंतर्गत आता है।
-इस हिस्से में पाटन व कटंगी का मार्ग जुड़ा है। यहां ओवरफ्लाई का निर्माण होने के बाद भी सर्विस रोड से वाहनों की आवाजाही होने से हादसे होते हैं।
-सीमित गति निर्धारण बोर्ड, दुर्घटना सम्भावित क्षेत्र का संकेतक बोर्ड लगाया गया है
-ट्रैफिक की हाईवे पेट्रोलिंग व्यवस्था लगायी गई है।
---
रोझा गांव से उडऩा के बीच-
थाना-पाटन
-पाटन से ग्राम उडऩा 5.4 किमी दूरी पर स्थित है और वाहनों की ओवर स्पीड व लापरवाही से हादसे होते हैं।
-स्पीड बम्प, सीमित गति व दुर्घटना सम्भावित क्षेत्र का संकेतक बोर्ड लगाएं।
-रोड के दोनों ओर मार्किंग कराया जाए। इसके लिए सम्बंधित विभाग से पत्राचार किया गया है।
-पाटन थाना पुलिस से पट्रोलिंग करायी जा रही है।
----
मनकेड़ी-
थाना बेलखेड़ा
-बेलखेड़ा थाने से 6 किमी दूर स्थित है। मार्ग निर्माणाधीन है। अस्थाई एकांकी मार्ग, तेज रफ्तार से हादसे होते हैं।
-मार्ग निर्माण के बाद यहां संकेतक बोर्ड, स्पीड बम्प, रोड मार्किंग, प्रकाश व्यवस्था कराना होगा।
-बेलखेड़ा पुलिस की पेट्रोलिंग करायी जा रही है।
----
सुंदरादेही-
थाना बेलखेड़ा
-बेलखेड़ा से छह किमी दूर स्थित है। यह मार्ग भी निर्माणाधीन है। एकांकी मार्ग होने के चलते हादसे होते हैं।
-मार्ग निर्माण के बाद यहां संकेतक बोर्ड, स्पीड बम्प, रोड मार्किंग, प्रकाश व्यवस्था कराना होगा।
-बेलखेड़ा पुलिस की पेट्रोलिंग करायी जा रही है।
----
2020 में ये बना ब्लैक स्पॉट-
रमनपुर घाटी-
थाना-बरगी
इस घाटी में तीन बड़े हादसे में 9 लोगों से अधिक की मौतें हो चुकी हैं। वहीं कई घायल हो चुके हैं। अक्सर यहां वाहन दुर्घटनाग्रस्त हो जाते हैं। ट्रैफिक एएसपी के पत्राचार के बार राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण द्वारा यहां दुर्घटना सम्भावित का बोर्ड लगाया गया। अंधामोड़ का संकेतक बोर्ड लगाते हुए टर्न की एक मीटर चौड़ाई बढ़ाई गई। स्पीड कम करने के लिए ढलान पर 50 मीटर की दूरी पर दो रम्बल स्ट्रिप 75 एमएम का बनाया गया।
वर्जन-
सडक़ हादसों में कमी लाने के लिए ब्लैक स्पॉट चिन्हित कर उसकी खामियों को दूसरे विभाग के समन्वय से दूर करने का प्रयास किया जा रहा है। इसके लिए दोनों डीएसपी ट्रैफिक ने अन्य विभागों के साथ स्थल निरीक्षण कर खामियों को चिन्हित किया है। प्रयासों का नतीजा है कि सात महीने में कुल हादसे, मरने वाले व घायल होने वालों की संख्या में कमी आयी है।
अगम जैन, एएसपी ट्रैफिक

Show More
santosh singh Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned