scriptPower crisis is getting deeper in madhya pradesh know reason | इस राज्य में गहराता जा रहा है बिजली संकट, जानिए इसके पीछे क्या है वजह | Patrika News

इस राज्य में गहराता जा रहा है बिजली संकट, जानिए इसके पीछे क्या है वजह

सरकार डिमांड और सप्लाई में 571 मेगावाट कमी की बात कर रही है, जबकि बिजली के जानकार 1500 से 2000 मेगावाट बिजली कम होने की जानकारी दे रहे हैं।

जबलपुर

Published: April 30, 2022 04:37:40 pm

जबलपुर. मध्य प्रदेश में बिजली संकट लगातार बढ़ता जा रहा है। शहरी इलाकों में हालात तो फिर सामान्य हैं, लेकिन ग्रामीण इलाकों में मौजूदा समय में चार से छह घंटे बिजली गुल हो रही है। हालांकि, सरकार डिमांड और सप्लाई में 571 मेगावाट कमी की बात कर रही है, जबकि बिजली के जानकार 1500 से 2000 मेगावाट बिजली कम होने की जानकारी दे रहे हैं। शुक्रवार को मध्य प्रदेश में पीक ऑवर में 12 हजार 533 मेगावाट बिजली की आपूर्ति हुई है।

News
इस राज्य में गहराता जा रहा है बिजली संकट, जानिए इसके पीछे क्या है वजह


पिछले दिनों पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने भी बिजली संकट को लकेर ट्वीट करते हुए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और प्रदेश सरकार से कई सवाल किये थे। कमलनाथ ने कहा था कि, 'अभी भी झूठे आंकड़े पेश कर बिजली संकट, जल संकट और कोयले के संकट को नकारा जा रहा है। सरकार इस दिशा में तत्काल जरूरी कदम उठाकर जनता को राहत पहुंचाने की व्यवस्था करे। साथ ही, मध्य प्रदेश वासियों को कोयला संकट, बिजली की मांग और आपूर्ति के साथ साथ जलसंकट की हकीकत बताए।


वहीं प्रदेश में बिजली संकट के मद्देनजर ऊर्जा मंत्री प्रद्युमन सिंह तोमर ने बीते दिनों दिल्ली पहुंचकर रेलमंत्री अश्विनी वैष्णव से मुलाकात की थी। उन्होंने रेल मंत्री को प्रदेश के हालातों से अवगत कराया था। तोमर ने कहा कि, मध्य प्रदेश में कोयले के परिवहन के लिए रोजाना 12.5 रैक की जरूरत होती है, जबकि 8.6 रैक ही मिल पा रहे हैं। इस वजह से रोजाना 15 हजार 600 मीट्रिक टन कोयला कम पड़ रहा है। इसपर ऊर्जा मंत्री ने जवाब दिया कि, मध्य प्रदेश में थर्मल पॉवर हाउस से बिजली उत्पादन क्षमता 4570 मेगावाट है। तय प्रावधान के मुताबिक 26 दिन का कोयला होना जरूरी है। इन 26 दिनों के लिए 40 लाख 5600 मीट्रिक टन कोयला होना जरूरी है।

यह भी पढ़ें- नर्मदा को प्रदूषण मुक्त बनाने के लिए शुरु हो रही है ये खास व्यवस्था, कांच की तरह साफ हो जाएगा पानी


कितना कोयला है और कितने की जरूरत है

यहां बता दें कि इस वक्त मध्य प्रदेश के चार थर्मल पावर प्लांट में सिर्फ 2 लाख 60 हजार 500 मिट्रिक टन कोयला ही मौजूद है। पूरी क्षमता से पावर प्लांट चलाने के लिए रोजाना कोयले की खपत 80 हजार मिट्रिक टन होती है। इस हिसाब से पावर प्लांट में सिर्फ साढ़े तीन दिन का कोयला है, लेकिन पूरी क्षमता से थर्मल पावर प्लांट न चलाने की वजह से शुक्रवार को सिर्फ 58 हजार मिट्रिक टन कोयला खर्च हुआ, जबकि 68 मिट्रिक टन कोयला पावर प्लांट्स में आया। मध्य प्रदेश में बिजली बोर्ड से रिटायर्ड चीफ इंजीनियर आर.के अग्रवाल के अनुसार, सरकार जान बूझकर संकट से मुंह मोड़ रही है। ये बिजली अधिकारियों की अदूरदर्शिता थी, जो उन्होंने मार्च के महीने में एनटीपीसी की 1000 मेगावाट बिजली सरेंडर कर दी थी। आज ये बिजली होती तो संकट इतना गंभीर न होता।

मध्य प्रदेश में ऑटो- शो 2022 की धूम, वीडियो में देखें आकर्षक कारें

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

यहाँ बचपन से बच्ची को पाल-पोसकर बड़ा करता है पिता, जैसे हुई जवान बन जाता है पतियूपी में घर बनवाना हुआ आसान, सस्ती हुई सीमेंट, स्टील के दाम भी धड़ामName Astrology: पिता के लिए भाग्यशाली होती हैं इन नाम की लड़कियां, कहलाती हैं 'पापा की परी'इन 4 राशियों के लड़के अपनी लाइफ पार्टनर को रखते हैं बेहद खुश, Best Husband होते हैं साबितजून में इन 4 राशि वालों के करियर को मिलेगी नई दिशा, प्रमोशन और तरक्की के जबरदस्त आसारमस्तमौला होते हैं इन 4 बर्थ डेट वाले लोग, खुलकर जीते हैं अपनी जिंदगी, धन की नहीं होती कमी1119 किलोमीटर लंबी 13 सड़कों पर पर्सनल कारों का नहीं लगेगा टोल टैक्ससंयुक्त राष्ट्र की चेतावनी: दुनिया के पास बचा सिर्फ 70 दिन का गेहूं, भारत पर दुनिया की नजर

बड़ी खबरें

आंध्र प्रदेश में जिले का नाम बदलने पर हिंसा, मंत्री का घर जलाया, कई घायलपंजाब के पूर्व स्वास्थ्य मंत्री के OSD प्रदीप कुमार भी हुए गिरफ्तार, 27 मई तक पुलिस रिमांड में विजय सिंगलारिलीज से पहले 1 जून को गृहमंत्री अमित शाह देखेंगे अक्षय कुमार की 'पृथ्वीराज', जानिए किस वजह से रखी जा रहीं स्पेशल स्क्रीनिंगGujrat कांग्रेस के वरिष्ठ नेता का विवादित बयान, बोले- मंदिर की ईंटों पर कुत्ते करते हैं पेशाबIPL 2022, Qualifier 1 RR vs GT: मिलर के तूफान में उड़ा राजस्थान, गुजरात ने पहले ही सीजन में फाइनल में बनाई जगहRajya Sabha Election 2022: राजस्थान से मुस्लिम-आदिवासी नेता को उतार सकती है कांग्रेस'तुम्हारे कदम से मेरी आँखों में आँसू आ गए', सिंगला के खिलाफ भगवंत मान के एक्शन पर बोले केजरीवालसमलैंगिकता पर बोले CM नीतीश कुमार- 'लड़का-लड़का शादी कर लेंगे तो कोई पैदा कैसे होगा'
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.