script राजस्थान में रचने जा रहा इतिहास : विधानसभा में कल पहली बार महिला वित्त मंत्री दिया कुमारी करेगी लेखानुदान पेश | Finance Minister will present Vote on Account in the Assembly tomorrow | Patrika News

राजस्थान में रचने जा रहा इतिहास : विधानसभा में कल पहली बार महिला वित्त मंत्री दिया कुमारी करेगी लेखानुदान पेश

locationजयपुरPublished: Feb 07, 2024 12:29:24 pm

Submitted by:

Manish Chaturvedi

राजस्थान विधानसभा में कल लेखानुदान सदन में प्रस्तुत किया जाएगा।

Diya Kumari
Diya Kumari,Diya Kumari,राजस्थान में पार्टी की सरकार आने से कार्यकर्ता अहम नहीं पाले, लोगों का काम करें : दीया कुमारी,राजस्थान में पार्टी की सरकार आने से कार्यकर्ता अहम नहीं पाले, लोगों का काम करें : दीया कुमारी,राजस्थान में पार्टी की सरकार आने से कार्यकर्ता अहम नहीं पाले, लोगों का काम करें : दीया कुमारी

जयपुर। राजस्थान विधानसभा में कल लेखानुदान सदन में प्रस्तुत किया जाएगा। जिसे पारित भी करवाया जाएगा। हालांकि यह बजट पूर्णकालिक नहीं होकर लेखानुदान होगा। प्रदेश में पहली बार ऐसा होने जा रहा है कि कोई महिला स्वतंत्र रूप से वित्तमंत्री के रूप में बजट पेश करेंगी। इससे पहले मुख्यमंत्री ही बजट पेश करते थे। वर्ष 2003 से 2023 तक दो बार मुख्यमंत्री के रूप में वसुंधरा राजे और दो बार ही अशोक गहलोत ने वित्त मंत्री के तौर पर बजट पेश किया। कल पहली बार स्वतंत्र रूप से वित्तमंत्री का जिम्मा संभाल रहीं दिया कुमारी लेखानुदान पेश करेगी। हालांकि, यह बजट पूर्णकालिक नहीं होकर लेखानुदान होगा। जिसमें सरकार 3 महीने के लिए अपना लेखानुदान सदन में पेश कर उसे बहुमत के साथ पारित करवाएगी।

बता दें कि कोई भी नई सरकार बनती है तो उसे अपना बजट पेश करना होता है। राजस्थान में हमेशा सरकार का गठन दिसम्बर माह में ही होता है। जबकि 1 अप्रैल से नया वित्तीय वर्ष शुरू होता है। ऐसे में कुछ महीनो के लिए सरकारी कर्मचारियों के वेतन, पेंशन और अन्य सरकारी कार्यों के लिए राजकोष की जरूरत होती है। ऐसे में प्रावधान के अनुसार सरकार 3 महीने के लिए लेखानुदान प्रस्तुत करती है। जिसे विधानसभा से मंजूरी लेनी होती है।

माना जा रहा है कि बजट लोकसभा चुनाव को ध्यान में रखकर ही पेश किया जाएगा। लेखानुदान में पूर्णकालिक बजट की छाया दिखाई दे सकती है। महिलाओं के लिए खजाना खुल सकता है। जबकि युवाओं के लिए नौकरियों की घोषणाएं हो सकती है। इसके साथ चुनाव के बीच आम और ख़ास को देखते हुए पेट्रोल-डीजल पर लगाने वाले वेट को लेकर घोषणा हो सकती है।

ट्रेंडिंग वीडियो