scriptMallikarjun Kharge Big Statement that PM Modi Abusing The Congress Party For Years And Now He Is Not Leaving Me Too | Rajasthan Election 2023: भाजपा के विभाजनकारी कैंपेन को नकार रही जनता, गारंटी योजनाएं पड़ रही भारी- खरगे | Patrika News

Rajasthan Election 2023: भाजपा के विभाजनकारी कैंपेन को नकार रही जनता, गारंटी योजनाएं पड़ रही भारी- खरगे

locationजयपुरPublished: Nov 25, 2023 07:20:51 am

Submitted by:

Kirti Verma

Rajasthan Election 2023: कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी सालों से कांग्रेस पार्टी, सोनिया गांधी, राहुल गांधी को गालियां दे रहे हैं और अब मुझे भी नहीं छोड़ रहे। वे तो एक एक गाली की हिसाब भी रखते हैं।

Mallikarjun Kharge

शादाब अहमद
Rajasthan election 2023 कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी सालों से कांग्रेस पार्टी, सोनिया गांधी, राहुल गांधी को गालियां दे रहे हैं और अब मुझे भी नहीं छोड़ रहे। वे तो एक एक गाली की हिसाब भी रखते हैं और हम पर रोज़ाना गालियों की बौछार करते हैं। क्या ये किसी प्रधानमंत्री पद पर आसीन व्यक्ति को शोभा देता है? खरगे ने कहा कि भाजपा की विभाजनकारी कैंपेन को जनता अब नकार रही है, जिस पर गारंटी योजनाएं भारी पड़ रही है। उन्होंने चिंरजीवी से लेकर सरकार की हर योजना के बारे में तथ्यात्मक जानकारी रखी। वहीं इंडिया गठबंधन के भविष्य, मोदी केपिता पर टिप्पणी, लाल डायरी, पेपर लीक, कन्हैयालाल हत्याकांड से लेकर अन्य सवालों पर बेबाक जवाब दिए। पेश है बातचीत के मुख्य अंश......


सवाल: चुनाव वाले पांचों राज्यों में आपको कैसा माहौल नजर आया?
जवाब: हमें पूरा विश्वास है कि कांग्रेस पार्टी पांचों राज्यों में बेहतरीन प्रदर्शन करेगी। हम पांचों राज्यों के चुनाव जीतेंगे। राजस्थान और छत्तीसगढ़ में हमारी सरकार रिपीट हो रही है। मध्यप्रदेश में साढ़े 18 सालों की भाजपा सरकार को जनता बाहर का दरवाज़ा दिखा चुकी है। तेलंगाना में हम जीत के मार्जिन को लगातार बढ़ा रहे हैं। मिज़ोरम में भी माहौल हमारे पक्ष में है। इन चुनावों में पार्टी और हमारे कार्यकर्ताओं ने केवल पॉजीटिव प्रचार किया है। हमने गारंटी की बात की है, जिसका परिणाम है कि प्रधानमंत्री मोदी जी को भी हमारी नक़ल कर के ‘मोदी की गारंटी’ प्रस्तुत करनी पड़ी है। भाजपा की विभाजनकारी कैंपेन को जनता नकार रही है। हमारा विकास और कल्याणकारी योजनाओं का नैरेटिव भाजपा पर भारी पड़ रहा है। खासकर राजस्थान में आप लोगों ने ये गौर किया होगा।

सवाल: आपने सभी जगह प्रचार किया है। मध्यप्रदेश में भाजपा और राजस्थान व छत्तीसगढ़ में कांग्रेस की सरकारें है। ऐसे में इन प्रदेशों में प्रचार के दौरान आपको क्या अंतर दिखा?
जवाब: अंतर बहुत साफ़ है। राजस्थान और छत्तीसगढ़ में लोग अब समझ चुके हैं कि कांग्रेस जो कहती है वो कर के दिखाती है। राजस्थान सरकार ने 2018 के चुनावी घोषणा के 90 फीसदी वादे पूरे किए। हमने 21 लाख किसानों का 14 हजार 527 करोड़ का कर्जा माफ़ किया। सरकार आने के बाद 2 लाख तक का कर्जा ब्याज मुक्त होगा। हम सरकार आते ही दूध पर 10 रुपए का बोनस देंगे। गोधन योजना के तहत 2 रुपए किलो गोबर खऱीदेंगे। हम 8 रुपए में इंदिरा रसोई के माध्यम से भोजन देते हैं। हमने महंगाई राहत कैंप लगाकर भाजपा निर्मित महंगाई से करोड़ों लोगों को राहत दी। 500 रुपए का गैस सिलेंडर गऱीबों को दिया। पुरानी पेंशन योजना समेत इन सभी योजनाओं से सबको फ़ायदा मिला है। मध्यप्रदेश में 2018 में सरकार तो हमारी ही बनी थी, जिसको पिछले दरवाज़े से भाजपा ने चुरा लिया। हमने 11 महीने अच्छा काम किया, पर सरकार जाने के बाद, भाजपा के लोग कुशासन पर उतर आए भय, भ्रष्टाचार, अन्याय और अत्याचार की ये राजनीति भाजपा को मध्य प्रदेश में इस बार भारी पड़ी है। हर तरफ़ बस एक ही शोर था, बदलाव-बदलाव!!

सवाल: आप हर राज्य में गारंटी स्कीम्स की बात कर रहे हैं, भाजपा भी मोदी गारंटी की बात कर रही है। जनता आपकी गारंटी पर क्यों भरोसा करें?
जवाब: हमने भाजपा और मोदी जी करारी शिकस्त दी, जिसके जवाब में वो ‘मोदी की गारंटी’ ले कर आए, पर मोदी जी की बातों पर लोगों को अब भरोसा नहीं रहा। लोगों के खातों में 15 लाख रुपए, सालाना 2 करोड़ नौकरी, किसानों कि आय दोगुनी, बुलेट ट्रेन सब हवा हवाई बातें निकली। वहीं कांग्रेस ने कर्नाटक में अपनी गारंटी लागू कर के दिखाई है। नि:शुल्क बस टिकट से करोड़ों महिलाएं अब पूरे राज्य में कहीं भी जा सकती हैं। मंदिर, मस्जिद या कोई भी धर्म स्थानों में जा सकती हैं। अपने काम पर जा सकतीं हैं। पैसा बचा सकतीं है। ये कोई मामूली बात नहीं है। ये आर्थिक और सामाजिक सुरक्षा है, सशक्तिकरण है। इसी तरह बिजली के बिल में बचत हुई है। करोड़ों लोगों को किफ़ायती अनाज मिला है। परंतु मोदी जी ने इसे रेवड़ी कहा। अगर ये रेवड़ी है तो जो वो अब 5 राज्यों में हमारी नक़ल कर के बांटने को कह रहें हैं, वो क्या है ? उनके हिसाब से सारी सहूलियतें सिर्फ़ अमीरों को मिलनी चाहिए। कर्ज़़ माफ़ी हो या कम ब्याज पर पैसे सभी उनके पूँजीपति दोस्तों के लिए है।

सवाल: राजस्थान में चिरंजीवी की लिमिट 50 लाख और गैस सिलेंडर 400 रुपए में करने की जरूरत क्यों पड़ी। चिरंजीवी से लाभांवितों की संख्या पर भाजपा सवाल खड़े कर रही है।
जवाब: भाजपा का काम है झूठ बोलकर जनता को भ्रमित करना। देश में औसतन हर 10 में से 4 लोगों के पास स्वास्थ्य बीमा है, लेकिन राजस्थान में हर 10 में से 9 लोगों के पास स्वास्थ्य बीमा है। राजस्थान के 1.5 करोड़ परिवार चिरंजीवी से लाभान्वित हुए हैं। मोदी जी तो देश में 5 लाख का स्वास्थ्य बीमा देते हैं, हमने राजस्थान में 25 लाख का दिया था, जिसे बढ़ाकर 50 लाख कर रहे हैं। इससे गंभीरतम बीमारी का भी मुफ़्त इलाज हो सके। गैस सिलेंडर के दाम हमने ज़रूरतमंदों के लिए 500 पए किए, लेकिन बीपीएल परिवारों के लोग और राहत चाहते थे। इसलिए हम उन्हें 400 रुपए में देंगे। ये हमारी गारंटी है। मत भूलिए, हमने 3 करोड़ से अधिक लोगों का मत लेकर जन घोषणा पत्र जारी किया है। भाजपा के पास राजस्थान में कोई मुद्दा नहीं है। इसलिए ऊल-जलूल बातें कर रहे हैं।

सवाल: भाजपा आक्रमक तरीके से दलितों के अत्याचार, मुस्लिम तुष्टिकरण के मुद्दे को उछाल रही है। हिन्दू त्योहारों पर गहलोत सरकार के प्रतिबंध लगाने और उदयपुर के कन्हैयालाल हत्याकांड जैसे मुद्दे लाए जा रहे हैं?
जवाब-भाजपा को दलितों के अत्याचार पर बोलने का कोई नैतिक अधिकार नहीं है। अभी हाल ही में मैं और मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने हर्षाधिपति वाल्मीकि से मिले। उन्हें विधायक, गिर्राज मलिंगा ने इतना मारा कि वो डेढ़ सालों से अस्पताल में हैं। उसके इलाज में गहलोत जी ने खूब मदद की। कई बार अस्पताल जाकर उनका हाल पूछते रहे हैं। जब हम मिलने गए तो हर्षाधिपति के पिता और बहन ने गहलोत के मदद करने की बात कही थी। जिस गिर्राज मलिंगा ने उस दलित युवक को इस हालत में पहुंचाया, हमने उसका टिकट काटा। खुद को गरीबों का मसीहा बताने वाले प्रधानमंत्री मोदी ने गिर्राज मलिंगा को टिकट दे दिया। अब बात करते हैं उदयपुर में कन्हैयालाल जी की निर्मम हत्या की। कुछ ही घंटे के भीतर किसने हत्यारों को गिरफ़्तार किया? उन हत्यारों का कनेक्शन किन किन भाजपा नेताओं से पाया गया? किसान त्वरित कार्रवाई करके स्थिति को नियंत्रण में रखा? भाजपा केवल समाज में बंटवारा कर के अपनी राजनीतिक रोटियां सेंकती है। वह लोगों को जोडऩे की बात नहीं करती, उनको तोड़ने की बात करती है। हम नफरत कम करते हैं-लोगों को जोड़ते हैं। भारत जोड़ो यात्रा के दौरान राहुल गांधी ने 4500 किलोमीटर पैदल चले ताकि ये नफऱत कम हो और देश में सौहार्दपूर्ण वातावरण बने। कोई भाजपा का नेता भला ऐसा कुछ कर सकता है?

यह भी पढ़ें

हैलो मैं अशोक गहलोत बोल रहा हूं... क्या आपके पास भी आया है फोन




सवाल: पेपर लीक का मुद्दा बना हुआ है, ईडी ने कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा के घर तक छापा मारा है। क्या कहेंगे?
जवाब-पेपर लीक दुर्भाग्यपूर्ण है। यह विद्यार्थियों के साथ अन्याय है। इसलिए हमने इसके खिलाफ निर्णायक कदम उठाया। राजस्थान इकलौता राज्य है, जिसने पेपर लीक के खिलाफ कानून बनाया है। इसमें आजीवन कारावास और दस करोड़ तक का जुर्माना का प्रावधान है।भाजपा के किसी भी राज्य इस तरह का क़ानून क्यों नहीं बनाया? पिछले साल विभिन्न राज्यों और केंद्र स्तर पर एक अनुमान के मुताबिक़ 70 पेपर लीक हुए। इनमें राजस्थान समेत देश के कई भाजपा शासित डबल इंजन प्रदेश शामिल हैं। मध्य प्रदेश के व्यापम को कोई कैसे भूल सकता है? केंद्र और राज्य सरकारों को इस समस्या से मिलकर निपटना चाहिए, क्योंकि ये हमारे युवाओं के भविष्य की बात है। हमारे निर्दोष लोगों की छवि खऱाब करने के लिए ईडी छापेमारी करती है। अपने देखा छत्तीसगढ़ के महादेव एप का सरकारी गवाह भी लिखित बयान दे रहा है कि उससे सीएम बघेल के खिलाफ ज़बदरस्ती बयान दिलवाया गया। ईडी, सीबीआई, आईटी जैसी एजेंसी की साख भाजपा ने राजनीतिक इस्तेमाल करके बिलकुल ख़त्म कर दी। एजेंसीज़ ने भी अपने आप को भाजपा का स्टार प्रचारक बना लिया।

यह भी पढ़ें

राजस्थान चुनाव: बुलडोजर बाबा के जयकारों से गूंजा ये रोड, 51 जेसीबी से पुष्प वर्षा



सवाल: महिलाओं से बलात्कार, अपराधों में राजस्थान को नंबर वन बनाने का आरोप कांग्रेस सरकार पर लगे हैं, क्या कहेंगे?
जवाब-महिलाओं पर अत्याचार कहीं नहीं होना चाहिए। राजस्थान की सरकार ख़ासकर इस मामले में बहुत संवेदनशील है। उन्होंने सरकारी आदेश से किसी भी मामले में पीडि़त का एफआईआर लिखना अनिवार्य कर दिया। वैसे, बयानबाज़ी करने के पहले प्रधानमंत्री को पड़ोसी भाजपा शासित राज्य मध्यप्रदेश में भी ग़ौर कर लेना चाहिए था। यूपी, मध्य प्रदेश, दिल्ली, जिसकी क़ानून व्यवस्था खुद केंद्र सरकार के अंतर्गत है, उस पर मोदी जी चुप क्यों रहते हैं। मणिपुर में जो हुआ, उसका पूरा देश गवाह है। विपक्ष के दबाव में संसद के बाहर दो शब्द बोलने के अलावा महिलाओं की सुरक्षा अथवा उन्हें न्याय दिलाने के लिए मोदी जी ने कुछ किया? 7 महीने से मणिपुर में हिंसा चल रही है, वो मोदी जी को नहीं दिखता, अहमदाबाद में क्रिकेट का मैच दिख जाता है।

सवाल: लाल डायरी का मुद्दा उठाया जा रहा है, क्या कहेंगे?
जवाब: लाल डायरी में केवल एक ही बात लिखी है, राजस्थान में कांग्रेस पार्टी की सरकार फिर से बनने जा रही है। अगर कुछ और लिखा हो तो उसकी मोदी सरकार जांच करा लें। सबसे बड़ी बात कुछ गड़बड़ होता तो क्या मोदी जी भाषण-भाषण खेल रहे होते? वो तो बिना बात रेड करनेवाले लोग हैं।

सवाल: राजस्थान में मतदान से ठीक पहले नेशनल हेराल्ड केस में संपत्तियों को कुर्क करने पर क्या कहेंगे?
जवाब: नेशनल हेराल्ड स्वतंत्रता आंदोलन की आवाज और धरोहर है। यह स्वाधीनता संग्राम की पहचान और कांग्रेस के कार्यकर्ताओं की संपत्ति है। भाजपा को स्वतंत्रता संग्राम से चिढ़ है, नफरत है क्योंकि उनका इसमें कोई योगदान नहीं है। उनके लोगों ने ना कोई क़ुर्बानी दी, ना कोई बलिदान दिया। भाजपा 5 राज्यों में अपनी हार से बौखला गई है, इसीलिए ईडी से ये सब करवा रही है। जनता उनकी इस बदले की भावना से प्रेरित कदम का बराबर जवाब देगी।

सवाल: राजस्थान में प्रचार के दौरान कई मंत्रियों और विधायकों का विरोध हुआ है। क्या आपको लगता है कि कुछ और विधायकों के टिकट काट जा सकते थे?
जवाब: अब तो एक दिन बाद ही वोटिंग है। हां, हमने जी भी किया वो फीडबैक के आधार पर किया। हम अपेक्षा करते हैं, कि हमारे उम्मीदवार जनता का विश्वास जीतने में सफल होंगे। सरकार के बेहतरीन काम को राजस्थान के लोग जारी रखना चाहेंगे। क्योंकि भाजपा के आते ही कांग्रेस की सारी योजनाएँ बंद कर दी जाएंगीं।

सवाल: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आप पर उनके पिता पर टिप्पणी करने का आरोप लगाया, क्या कहेंगे?
जवाब: मैं कैंपेन के दौरान जनता से पूछता हूं कि उन्हें मोदी जी के 15 लाख रुपए मिले? 18 करोड़ नौकरियों मिलीं? किसानों की आय दोगुनी हुई। जनता सभी का जवाब देते हुए कहती है, प्रधानमंत्री झूठ बोलते हैं। तेलंगाना में मैंने कहा कि वहां के सीएम, केसीआर मोदी जी से भी ज्यादा झूठ बोलते हैं। इसको प्रधानमंत्री ने अपने पिता का अपमान मान लिया। मैंने कहा, उनके पिताजी तो राजनीति में है ही नहीं, तो फिर उनके पिताजी के बारे में कुछ भी बोलने का सवाल ही नहीं पैदा होता। मोदी जी सहानुभूति बटोरने के लिए तथ्यों के तोड़ मरोड़ कर पेश करते हैं। मैंने यही कहा, वे झूठ बोलते हैं। पर जनता अब उनके बहकावे में आने वाली नहीं है।

सवाल: चुनाव प्रचार में मूर्खों का सरदार, पनौती जैसे शब्दों को क्या आप उचित मानते हैं?
जवाब: मोदी जी सालों से कांग्रेस, सोनिया गांधी, राहुल गांधी को गालियां देते रहे हैं और अब मुझे भी नहीं छोड़ रहे। आपको ये सवाल उनसे भी पूछना चाहिए? वे तो एक एक गाली की हिसाब भी रखते हैं। पर हम पर रोज़ाना गालियों की बौछार करते हैं। क्या ये किसी प्रधानमंत्री पद पर आसीन व्यक्ति को शोभा देता है?

सवाल: इंडिया गठबंधन का क्या भविष्य है? सपा नेता अखिलेश यादव कई तरह की बातें कर रहे हैं। क्या आपने नीतीश कुमार, अखिलेश यादव से बात की है या फिर आगे करेंगे?
जवाब: हमने पहले भी कहा है, हम फिर से कह रहें हैं, 5 राज्यों के चुनाव के बाद हम इंडिया गठबंधन के सभी साथियों के साथ मिलकर बात करेंगे। ये गठबंधन लोक सभा चुनाव के संबंध में है। हमारे सभी घटकदल एकता की शक्ति में विश्व रखते हैं, और आने वाले दिनों में इसके प्रमाण भी आपको देखने को मिलेंगे।

सवाल: आपको सबसे ज्यादा सीटें किस राज्य में मिलने की उम्मीद है?
जवाब:-हम सभी राज्यों में सरकार बनाने जा रहे हैं। बाक़ी जनता तय करेगी।

सवाल: आप पार्टी आलाकमान है, आप बताइए राजस्थान में कौन मुख्यमंत्री बनेगा?
जवाब: आलाकमान का मतलब मैं नहीं है। हमारी एक स्पष्ट प्रक्रिया है। सभी विधायकों की राय लेकर आलाकमान को दी जाती है। आलाकमान में सभी वरिष्ठ नेता है। मैं भी हूं । पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी व अन्य वरिष्ठ नेता हैं। हम सब लोकतांत्रिक ढंग से मिलकर मुख्यमंत्री तय करते हैं।

ट्रेंडिंग वीडियो