प्रधानमंत्री आवास योजना: एक लाख से ज्यादा लोगों के नाम सूची से कटेंगे

pmay list 2019: राजस्थान के गांवों में गरीबों को आवास मुहैया कराने वाली प्रधानमंत्री आवास योजना- ग्रामीण की चयन सूची में सरकार ने एक लाख से अधिक लोगों को अपात्र मान लिया है।

By: santosh

Published: 13 Sep 2019, 12:06 PM IST

जयपुर। pmay list 2019: राजस्थान के गांवों में गरीबों को आवास मुहैया कराने वाली प्रधानमंत्री आवास योजना- ग्रामीण की चयन सूची में सरकार ने एक लाख से अधिक लोगों को अपात्र मान लिया है। पंचायत ने मंजूरी दी तो जल्द ही ये नाम लाभार्थियों की सूची से काटे जाएंगे। योजना के तहत पूरे राज्य में 16.99 लाख लाभार्थी चयन सूची में शामिल हैं।

 

राजस्थान जन सूचना पोर्टल-2019: अब घर बैठे लें सरकारी डिपार्टमेंट्स की जानकारी, जानें कैसे होगा काम

 

ग्रामीण विकास विभाग ने इन लाभार्थियों की सूची तैयार कर ली है। ये सूची अब फिर से ग्राम पंचायतों को अनुमोदन के लिए भेजी जाएगी। पंचायत भी यदि इन लाभार्थियों को अपात्र मानती है तो विभाग इनके नाम सूची से काट देगा। योजना के तहत प्रति लाभार्थी आवास निर्माण के लिए 1.20 लाख रुपए की सहायता सरकार की ओर से दी जाती है।

 

पीसीसीबी एमडी को खाद्य मंत्री की फटकार : बोले-सरकार बदल गई है... अब मैं मंत्री हूं, मनरेगा की तरह हाजरी भरने दूसरे अधिकारी को क्यों भेज दिया

 

14 मानदंडों पर हुए अपात्र
पंचायतों से सूची आने के बाद विभाग ने जब भूमि की जिओ टैगिंग के लिए टीमें भेजी तो इस दौरान ये लाभार्थी योजना के 14 बिन्दुओं वाले मानदंड़ों पर अपात्र मिले। इन बिन्दुओं में वाहन, मैकेनाइज्ड कृषि उपकरण, 50 हजार रुपए या इससे अधिक के क्रेडिट कार्ड, परिवार के किसी सदस्य की आय 10 हजार रुपए प्रतिमाह से अधिक होने जैसी शर्तें शािमल हैं। ये सुविधाएं होने पर व्यक्ति योजना के तहत पात्र नहीं माना जाता है।

 

राजस्थान में नया मोटर व्हीकल एक्ट लागू होने से पहले ड्राइविंग लाइसेंस को लेकर आई बड़ी खबर

 

सर्वाधिक नाम उदयपुर की सूची में
विभाग ने काटे जाने वाले नामों की जो सूची तैयार की है, उसमें सर्वाधिक 16 हजार से अधिक लाभार्थी उदयपुर जिले के हैं। जबकि सबसे कम 275 चयनितों की सूची झुन्झुनूं जिले की पंचायतों से है।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned