scriptRoti stuck due to internet shutdown in Jodhpur | जोधपुर में इंटरनेट बंद से अटकी रोटी | Patrika News

जोधपुर में इंटरनेट बंद से अटकी रोटी

शहर में साम्प्रदायिक उपद्रव के बाद सरकार ने जोधपुर में इंटरनेट बंद कर दिया। शनिवार को पांचवा दिन था। इंटरनेट बंद होने से सर्वाधिक परेशानी सुदूर ग्रामीण इलाकों मेें हैं जहां चूल्हे ठण्डे होने के कगार पर आ गए हैं। इंटरनेट बंद होने से इनके तवों पर रोटी नहीं सिक रही है। ये लोग जल्द से जल्द शांति व सद्भाव की प्रार्थना कर रहे हैं ताकि इंटरनेट शुरू हो और इन्हें दो जून की रोटी की मिल सके।

जयपुर

Published: May 08, 2022 10:06:27 pm

जोधपुर.

शहर में साम्प्रदायिक उपद्रव के बाद सरकार ने जोधपुर में इंटरनेट बंद कर दिया। शनिवार को पांचवा दिन था। इंटरनेट बंद होने से सर्वाधिक परेशानी सुदूर ग्रामीण इलाकों मेें हैं जहां चूल्हे ठण्डे होने के कगार पर आ गए हैं। इंटरनेट बंद होने से इनके तवों पर रोटी नहीं सिक रही है। ये लोग जल्द से जल्द शांति व सद्भाव की प्रार्थना कर रहे हैं ताकि इंटरनेट शुरू हो और इन्हें दो जून की रोटी की मिल सके।
Jodhpur Curfew Internet LIVE Update - कर्फ्यूग्रस्त क्षेत्रों में नेटबंदी के बावजूद चल रहा मोबाइल इंटरनेट, जाने कैसे
Jodhpur Curfew Internet LIVE Update - कर्फ्यूग्रस्त क्षेत्रों में नेटबंदी के बावजूद चल रहा मोबाइल इंटरनेट, जाने कैसे
दरअसल राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा योजना एनएफएसए के अंतर्गत राशन की दुकानों से गेहूं का वितरण ऑनलाइन ट्रांजेक्शन से पोस मशीनों पॉइंट ऑफ सेल के माध्यम से होता है। राशन डीलर अपने मोबाइल इंटरनेट से पोस मशीनें चलाते हैं। सरकार हर महीने की शुरुआत में अगले महीने का गेहूं एडवांस देती है। एक मई से जून के गेहूं का वितरण शुरू हो गया था लेकिन जोधपुर में दो दिन गेहूं वितरण के बाद 3 मई को इंटरनेट बंद हो गया। कर्फ्यू शहर के केवल दस पुलिस थाना क्षेत्रों में है लेकिन इंटरनेट पूरे जिले में बंद पड़ा है। पांच दिनों से एनएफएसए से जुड़े जोधपुर के 21 लाख परिवार नेट शुरू होने का इंतजार कर रहे हैं।
केवल 8 प्रतिशत गेहूं का वितरण

● जोधपुर में मई के दो दिन में राशन की दुकानों से 7.80 प्रतिशत गेहूं का वितरण हुआ है।

● जिले के बापिणी, लोहावट व फलोदी में तो एक प्रतिशत से भी कम लाभार्थियों ने गेहूं लिया था। इसके बाद कर्फ्यू लग गया था।
● जबकि प्रदेश के कई जिलों में आधे से अधिक लोगों ने अपने हिस्से का गेहूं ले लिया।

● बूंदी में अब तक 64.19 प्रतिशत, झुंझनूं में 56.49 प्रतिशत, जयपुर में 51.47 प्रतिशत, दौसा में 51.16 प्रतिशत, कोटा में 49.65 और हनुमानगढ़ में 49.51 प्रतिशत लोग गेहूं ले चुके हैं।
21.19 लाख लाभार्थी हैं पूरे जिले में

303616 लाख सर्वाधिक लाभार्थी है जोधपुर शहर में

हम एक-दो दिन और देख रहे हैं। अगर नेट शुरू नहीं होता है तो सरकार से मार्गदर्शन लेकर अन्य विकल्प से गेहूं का वितरण किया जाएगा।
अनिल पंवार, जिला रसद अधिकारी जोधपुर

जोधपुर में राशन का गेहूं वितरण
10442 मीट्रिक टन गेहूं का वितरण होता है हर महीने 7.80 प्रतिशत केवल गेहूं वितरित हुआ है मई के दो दिन में 1274 राशन की दुकानें है जिले में 486175 परिवार लेते हैं राशन का गेहूं
1274 राशन की दुकानों पर सन्नाटा

जोधपुर जिले में राशन की 1274 दुकानें हैं। शहर में 265 दुकानें है। बीते पांच दिनों से यहां सन्नाटा पसरा है। लोग गेहूं लेने आते हैं लेकिन खाली हाथ लौट जाते हैं। सरकार एनएफएसए के अंतर्गत लाभार्थियों को 2 रुपए किलो गेहूं देती है। प्रत्येक व्यक्ति को हर महीने 5 किलो गेहूं मिलता है। इस समय प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना का 5 किलो गेहूं अतिरिक्त नि:शुल्क दिया जा रहा है। ऐसे में हरेक व्यक्ति को अपने हिस्से के 10 किलो गेहूं का इंतजार है।
newsletter

Anand Mani Tripathi

आनंद मणि त्रिपाठी (@aanandmani) राजनीति, अपराध, विदेश, रक्षा एवं सामरिक मामलों के पत्रकार हैं। पत्रकारिता के तीनों माध्यम प्रिंट, टीवी और आनलाइन में गहरा और अपनी तेज तर्रार रिपोर्टिंग के लिए जाने जाते हैं। पश्चिम बंगाल के कलकत्ता में जन्म हुआ। प्रारंभिक शिक्षा उत्तर प्रदेश के कानपुर और बस्ती में हुई। माध्यमिक शिक्षा नवोदय विद्यालय बस्ती, फैजाबाद और पूर्वोत्तर त्रिपुरा के धलाई जिले में हुई। अयोध्या के साकेत महाविद्यालय से स्नातक और 2009 में जेआईआईएमसी,दिल्ली से पत्रकारिता का डिप्लोमा किया। हरियाणा से पत्रकारिता आरंभ की। शिक्षा, विज्ञान, मौसम, रेलवे, प्रशासन, कृषि विभाग और मंत्रालय की रिपोर्टिंग की। इंवेस्टिगेटिव रिपोर्टिंग से शिक्षा और रेलवे विभाग के कई भ्रष्टाचार का खुलासा किया। रक्षा मंत्रालय के रक्षा संवाददाता पाठयक्रम-2016 पूरा किया। इसके बाद रक्षा मामलों की पत्रकारिता शुरू कर दी। चीन, पाकिस्तान और कश्मीर मामलों पर तीक्ष्ण नजर रहती है। लेफ्टिनेंट उमर फैयाज की हत्या 2017, राइफलमैन औरंगजेब की हत्या 2018, जम्मू—कश्मीर में बदले 2018 में बदले राजनीतिक समीकरण, पुलवामा हमला 2019, कश्मीर से 370 का हटना, गलवान घाटी मुठभेड़ 2020 को बेहद करीब से जम्मू और कश्मीर में रहकर ही कवर किया। कोरोना काल 2020 में भी लददाख से नेपाल तक की यात्रा चीन के बदलते समीकरण को लेकर की। इसके साथ ही लोकसभा चुनाव 2019 में जम्मू कश्मीर, हिमाचल प्रदेश, हरियाणा और पंजाब की रिपोर्टिंग की। 9 नवंबर 2019 को श्रीराम जन्म भूमि अयोध्या मामले में आए फैसले की अयोध्या से कवर किया। 2022 उत्तरप्रदेश् चुनाव को सहारनपुर से सोनभद्र तक मोटर साइकिल के माध्यम से कवर किया। पत्रकारिता से इतर आनंद मणि त्रिपाठी को संगीत और पर्यटन का जबरदस्त शौक है। इन्हें किसी भी कार्य में असंभव शब्द न प्रयोग करने के लिए जाना जाता है...

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

जयपुर में एक स्वीमिंग पूल में रात का सीसीटीवी आया सामने, पुलिसवालें भी दंग रह गएकचौरी में छिपकली निकलने का मामला, कहानी में आया नया ट्विस्टइन 4 राशियों के लोग होते हैं सबसे ज्यादा बुद्धिमान, देखें क्या आपकी राशि भी है इसमें शामिलचेन्नई सेंट्रल से बनारस के बीच चली ट्रेन, इन स्टेशनों पर भी रुकेगीNumerology: इस मूलांक वालों के पास धन की नहीं होती कमी, स्वभाव से होते हैं थोड़े घमंडीबुध जल्द अपनी स्वराशि मिथुन में करेंगे प्रवेश, जानें किन राशि वालों का होगा भाग्योदयधन कमाने की योजना बनाने में माहिर होती हैं इन बर्थ डेट वाली लड़कियां, दूसरों की चमका देती हैं किस्मतCBSE ने बदला सिलेबस: छात्र अब नहीं पढ़ेगे फैज की कविता, इस्लाम और मुगल साम्राज्य सहित कई चैप्टर हटाए

बड़ी खबरें

Maharashtra Political Crisis: शिंदे गुट के दीपक केसरक का बड़ा बयान, कहा- हमें डिसक्वालीफिकेशन की दी जा रही हैं धमकीMaharashtra Politics Crisis: शिवसेना की कार्यकारिणी बैठक खत्म, जानें कौन-कौन से प्रस्ताव हुए पारितMaharashtra Political Crisis: आदित्य ठाकरे का बागी विधायकों पर निशाना, कहा- नहीं भूलेंगे विश्वासघात, हमारी जीत तय हैTeesta Setalvad detained: तीस्ता सीतलवाड़ को गुजरात ATS ने लिया हिरासत में, विदेशी फंडिंग पर होगी पूछताछकर्नाटक में पुजारियों ने मंदिर के नाम पर बनाई फर्जी वेबसाइट, ठगे 20 करोड़ रुपए'अग्निपथ' के विरोध में तेलंगाना के सिकंदराबाद में ट्रेन में आग लगाने वालों की वायरल हो रही वीडियो, पुलिस ने पहचान कर किया गिरफ्तारसावधान! विदेशी शैतानों के निशाने पर हमारी बेटियां... नाबालिग का अपहरण करने कतर से आया था बांदीकुई, दरभंगा से धरा गयाBPSC Paper Leak: पेपर लीक मामले में गिरफ्तार हुए JDU नेता शक्ति कुमार, सबसे पहले पेपर स्कैन कर WhatsApp पर था भेजा
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.