scriptA drop of blood will tell the health of the lungs | खून की एक बूंद बता देगी फेफड़ों की सेहत, जानिए कैसे | Patrika News

खून की एक बूंद बता देगी फेफड़ों की सेहत, जानिए कैसे

ovid-19 के दौरान Oxygen Level कम हुआ तो पहली बार हमें फेफड़ों की अहमियत पता चली होगी, लेकिन हजारों लोग ऐसे भी हैं कि जिन्हें फेफड़ों की सेहत का पता चलता है, तब तक वे लाइलाज बीमारी के शिकंजे में फंस चुके होते हैं। अब ऐसा विशेष किट विकसित हो गया है, जिससे खून की एक बूंद कुछ ही मिनटों में फेफड़ों की सेहत उजागर कर देगी। इससे TB और Silicosis जैसी जानलेवा बीमारी का शुरु में ही पता चल सकेगा।

जोधपुर

Updated: April 27, 2022 06:14:31 pm

जोधपुर। भारतीय स्वास्थ्य अनुसंधान परिषद (ICMR) के अधीन कार्यरत नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ ऑक्यूपेशनल हैल्थ (NIOH) ने एक ऐसा बायो मार्कर कार्ड विकसित किया है, जो चंद मिनटों में इंसान के फेफड़ों की सेहत बता देगा। इसे आईसीएमआर ने मंजूरी दे दी है। उत्पादन व विपणन की प्रक्रिया अंतिम चरण में है। जल्द ही यह विशेष किट उपयोग के लिए उपलब्ध हो जाएगा। इसकी मदद से हर साल हजारों पत्थर मजदूरों की जान लेने वाली लाइलाज बीमारी Silicosis ही नहीं, TB जैसी बीमारी पर भी प्रभावी अंकुश लग सकेगा, क्योंकि विशेष किट की मदद से ये बीमारियां शुरू में ही पकड़ में आ सकेगी।
खून की एक बूंद बता देगी फेफड़ों की सेहत, जानिए कैसे
खून की एक बूंद बता देगी फेफड़ों की सेहत, जानिए कैसे
देश में लगभग तीस लाख मजदूर Mining और पत्थर उद्योग में लगे हैं। इनमें धूलकणों के कारण फेफड़े खोखले कर देने वाली सिलिकोसिस जैसी जानलेवा बीमारी की चपेट में आने की आशंका बनी रहती है। राजस्थान में ही जोधपुर, करौली, सिरोही, नागौर व भरतपुर जैसे जिले इस बीमारी से सर्वाधिक प्रभावित हैं। प्रदेश में पिछले तीन साल में 15 हजार से ज्यादा मजदूरों की मौत हो चुकी है।
एनआईओएच अहमदाबाद के वैज्ञानिकों ने इन हालात के मद्देनजर लम्बे अनुसंधान में पाया कि फेफड़ों की कोशिकाओं में मौजूद सीसी-16 नामक एक सीरम प्रोटीन फेफड़ों की सटीक स्थिति बता सकता है। इस आधार पर विशेष किट बनाया गया। इसमें कार्ड स्ट्रिप पर खून की एक बूंद रखकर ही सीसी-16 प्रोटीन सीरम से फेफड़ों का स्वास्थ्य जांचा जा सकता है।
दो कंपनियों को लाइसेंस

एनआईओएच की खोज के बाद आईसीएमआर ने दो कम्पनियों को उत्पादन का लाइसेंस दिया है। संभवतः अगले कुछ दिनों में उत्पाद की वेलिडेशन रिपोर्ट को ड्रग कंट्रोलर से मान्यता के साथ ही इसका व्यावसायिक उत्पादन शुरू किया जा सकेगा।
kamalesh-sarkar.jpgएक्सपर्ट कमेंट....

खून की एक बूंद काफी

सिलिकोसिस का पता लक्षणों के आधार पर एक्स-रे आदि करने से पता चलता है, तब तक पीड़ित श्रमिक के फेफड़े पूरी तरह खराब हो चुके होते हैं। ऐसे श्रमिक सांस नहीं ले पाते और कुछ अरसे बाद तड़प-तड़प कर इनकी मौत हो जाती है। दुनिया में कहीं भी इस बीमारी का इलाज नहीं है, लेकिन शुरुआत में पकड़ में आ जाए तो फेफड़े पूरी तरह खराब होने से रोके जा सकते हैं। एनआईओएच में विकसित कार्ड स्ट्रिप पर खून की एक बूंद रखने से यह फेफड़ों में सीरम सीसी-16 का लेवल बता देता है। सामान्य शरीर में यह लेवल 16 नैनोग्राम प्रति मिलीग्राम होना चाहिए। यह मात्रा 9 व 12 नैनोग्राम/एमएल हो तो इसे अदृश्य सिलिकोसिस या शुरुआती चरण मानकर इलाज शुरू किया जा सकता है। इससे टीबी का भी शुरुआत में ही पता चल सकता है। इस किट के बारे में दक्षिण अफ्रीका जैसे देशों से भी क्वेरी आनी शुरू हो चुकी है।
-डॉ. कमलेश सरकार,

निदेशक एनआईओएच, अहमदाबाद

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Weather. राजस्थान में आज 18 जिलों में होगी बरसात, येलो अलर्ट जारीसंस्कारी बहू साबित होती हैं इन राशियों की लड़कियां, ससुराल वालों का तुरंत जीत लेती हैं दिलशुक्र ग्रह जल्द मिथुन राशि में करेगा प्रवेश, इन राशि वालों का चमकेगा करियरउदयपुर से निकले कन्हैया के हत्या आरोपी तो प्रशासन ने शहर को दी ये खुश खबरी... झूम उठी झीलों की नगरीजयपुर संभाग के तीन जिलों मे बंद रहेगा इंटरनेट, यहां हुआ शुरूज्योतिष: धन और करियर की हर समस्या को दूर कर सकते हैं रोटी के ये 4 आसान उपायछात्र बनकर कक्षा में बैठ गए कलक्टर, शिक्षक से कहा- अब आप मुझे कोई भी एक विषय पढ़ाइएUdaipur Murder: जयपुर में एक लाख से ज्यादा हिन्दू करेंगे प्रदर्शन, यह रहेगा जुलूस का रूट

बड़ी खबरें

Eknath Shinde Property: मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे से 12 गुना ज्यादा अमीर हैं शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे, जानें किसके पास कितनी संपत्तिपश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री के आवास में घुसने वाले शख्स ने परिसर को समझ लिया था कोलकाता पुलिस का मुख्यालयबीजेपी नेता कपिल मिश्रा को मिली जान से मारने की धमकी, ईमेल में लिखा - 'हम तुम्हें जीने नहीं देंगे'हैदराबाद के एक कार्यक्रम में भाग लेने पहुंचे RCP सिंह तो BJP में शामिल होने की लगने लगी अटकलें, भाजपा ने कही ये बातप्रदेश के भोपाल, इंदौर समेत 11 नगर निगमों में मतदान 6 को, चुनावी शोर थमाकानपुर मेट्रो: टनल बनाने का काम शुरू, देश को समर्पित करने के विषय में मिली ये जानकारीउदयपुर कन्हैया हत्याकांड का वीडियो सोशल मीडिया पर पोस्ट करने पर युवक गिरफ्तारवरिष्ठता क्रम सही करने आरक्षकों की याचिका पर विभाग को 21 दिन में निर्णय लेने का आदेश
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.