जोधपुर के महाराजा को ़अजमेर के व्यवसायी ने भेंट किया था हवाई जहाज

रेट्रो पिक .़.

By: Nandkishor Sharma

Published: 15 Apr 2021, 11:06 AM IST

जोधपुर. आधुनिक मारवाड़ के निर्माता व जोधपुर के महाराजा उम्मेदसिंह के शासनकाल में सबसे महत्वपूर्ण कार्य उड्डयन विभाग की स्थापना करना रहा था। महाराजा उम्मेदसिंह स्वयं एक उत्तम विमान चालक थे । उनकी विमान सेवाओं तथा उनके विस्तार व विकास से प्रभावित होकर ब्रिटिश सरकार ने 23 जून 1931 को उन्हें वायुसेना में एयर कमोडोर तथा 1945-46 में एयर वाइस मार्शल का पद प्रदान किया । इन पदों को प्राप्त कर उन्होंने मारवाड़ के नाम को ही नहीं अपितु पूरे राजपूताने के नाम को सुशोभित किया । जोधपुर महाराजा के स्वयं के उपयोग के लिए तीन निजी हवाई जहाज थे उनमें मोनो स्पाट एसटी -4 ( वीटी - एजीबी ) , क्रोम्पर स्वीट ( वीटी- एकेवाई ) और परसीवलगल- ( वीटी - एजीकी ) शामिल थे । वर्ष 1936 में अजमेर के व्यवसायी राय बहादुर सेठ भागचन्द सोनी ने जोधपुर महाराजा को राज्य के उपयोग के लिए एक हवाई जहाज लियोपार्ड मोथ - वीटी - एएचएच भेंट किया था । वर्ष 1945-46 में जोधपुर एरोड्रम के अतिरिक्त दस 'सिविल लेण्डिग ग्राउन्डस पाली , सोजत , फालना , जालोर , सांचोर , नागौर , मेड़ता रोड़ , तिलवाड़ा , गडरारोड़ और उत्तरलाई में थे।

Patrika
Nandkishor Sharma Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned