दावेदारों को टिकट नहीं मिलने का मलाल

बिलाड़ा (जोधपुर). दोनों प्रमुख राजनीतिक दलों की ओर से अपने अधिकृत प्रत्याशियों की सूची ने यह साबित कर दिया है कि इस बार दोनों दलों ने नए चेहरों पर अपना दाव आजमाया है। इन सूचियों के आने के साथ ही भाजपा में नाराजगी प्रकट हो रही है वहीं कांग्रेस सभी 35 वार्डों में अपने प्रत्याशी खड़े नहीं कर पाई है।

By: pawan pareek

Updated: 29 Nov 2020, 10:05 AM IST

बिलाड़ा (जोधपुर). दोनों प्रमुख राजनीतिक दलों की ओर से अपने अधिकृत प्रत्याशियों की सूची ने यह साबित कर दिया है कि इस बार दोनों दलों ने नए चेहरों पर अपना दाव आजमाया है। इन सूचियों के आने के साथ ही भाजपा में नाराजगी प्रकट हो रही है वहीं कांग्रेस सभी 35 वार्डों में अपने प्रत्याशी खड़े नहीं कर पाई है।

नगरपालिका में अब तक के बने बोर्ड में सर्वाधिक बार भाजपा के ही बोर्ड गठित हुए हैं तथा बिलाड़ा को पूरे जिले में भाजपा का गढ़ माना जाता है। इस बार वार्डों के परिसीमन से वार्डों की संख्या बढ़ी तो भाजपा प्रत्याशियों की भी अपेक्षा बढ़ी और सर्वाधिक लोगों ने भाजपा का टिकट चाहने के लिए अपनी दावेदारी पेश की।

यही कारण रहा कि इन संभावित प्रत्याशियों ने अपने पर्चे भाजपा प्रत्याशी के रूप में प्रस्तुत करने के अलावा साथ ही साथ निर्दलीय प्रत्याशी के रूप मे भी पर्चा प्रस्तुत किया। जिला अध्यक्ष जगराम विश्नोई द्वारा जारी सूची जगजाहिर होने के बाद जिन लोगों के टिकट कट गए,वे आज शनिवार को नाराजगी जताते नजर आए ।

कुमावत समाज में रोष

नगरपालिका क्षेत्र मे सर्वाधिक मतदाता सीरवी समाज के होने के बाद दूसरे नम्बर पर पटेल कुमावत समाज का आता है। अब तक बने बोर्ड में सीरवी समाज के बाद कुमावत समाज के लोगों को भाजपा की ओर से पांच से सात वार्डों में टिकट दिया जाता रहा है। लेकिन इस बार परिसीमन के बाद 35 वार्ड हो जाने पर भी कुमावत समाज के लोगों को मात्र तीन वार्डों में टिकट दिए गए।

इससे शनिवार को पटेल समाज के गणमान्य लोगों एवं पूर्व प्रतिनिधियों ने रोष व्यक्त किया है। वृहद बहुधंधी सहकारी समिति के उपाध्यक्ष सोहनलाल गोयल, कृषि उपज मंडी व्यापार संघ के सचिव बाबूलाल तिलायचा, स्टोन मार्ट व्यापारी चेतन प्रकाश के अलावा पटेल समाज के कोटवाल ने भी भाजपा के टिकट वितरण की आलोचना की है।

अध्यक्ष पद के दावेदारों को भी नहीं मिला टिकट

भैरोसिंह शेखावत सरकार में उपराजस्वमंत्री रह चुकने के बाद एक बार पालिकाध्यक्ष रह चुके मिश्रीलाल चौधरी भी इस बार पालिकाध्यक्ष बनने की दौड़ में रहे हैं, वहीं पूर्व पालिकाध्यक्ष मदनसिंह राठौड़ द्वारा आवेदन करने के बावजूद टिकट नहीं मिला।

इसी प्रकार नगरपालिका में उपाध्यक्ष रह चुके बेणाराम पटेल, मंडल अध्यक्ष बाबूलाल राठौड़, पूर्व पार्षद रतनलाल चोयल आदि ऐसे कई नाम हैं, जिन्हें इस बार पार्टी ने पार्षद के रूप में चुनाव लड़ने के लिए अवसर नहीं दिया। मंत्री रह चुके अर्जुनलाल गर्ग ने भी चुप्पी साध रखी है। शनिवार को जब उनसे इस बारे में जानकारी चाही तो उन्होंने बताया कि वे अपने पेट्रोल पम्प के निमार्ण कार्य में व्यस्त हैं।

निर्दलीय खिलांएगे गुल

यह पहला अवसर है जब सर्वाधिक संख्या में निर्दलीय प्रत्याशियों ने पर्चे भरे हैं। 35 वार्डों में से सात वार्डों को छोड़कर सभी 28 वार्डो में एक, दो या उससे अधिक लोगों ने निर्दलीय रूप में पर्चे भर रखे हैं।

pawan pareek Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned