उम्मेद भवन में घुसे चार आतंकी, बीस गेस्ट बंधक बनाए!

-ढाई घंटे में कोना-कोना तलाशने के बाद चारों डमी आतंकी पकड़े

-सुरक्षा इंतजाम जांचने के लिए मॉक ड्रिल

By: Vikas Choudhary

Published: 01 Mar 2020, 12:50 AM IST

जोधपुर.

विश्व प्रसिद्ध उम्मेद भवन पैलेस में संचालित ताज होटल में शनिवार शाम चार आतंकियों के घुसने व बीस गेस्ट को बंधक बना लेने की सूचना से हडक़ंप मच गया। पुलिस, बम निरोधक दस्ता, क्यूआरटी-ईआरटी और सभी सुरक्षा एजेंसियां मौके पर पहुंची। ढाई घंटे में कोना-कोना तलाशने के बाद चारों ‘आतंकियों’ को पकड़ लिया गया, लेकिन जांच में यह मॉक ड्रिल निकली। जो आतंकियों से निपटने के लिए सुरक्षा बंदोबस्त जांचने के लिए की गई थी।

पुलिस के अनुसार पुलिस कंट्रोल रूम में शाम ३.५० बजे उम्मेद भवन पैलेस में दीवार फांदकर तीन आतंकियों के घुसने और होटल परिसर के चौदह कमरों में २० गेस्ट को बंधक बनाने की सूचना मिली। वायरलैस सैट पर संदेश प्रसारित होते ही हडक़ंप मच गया। पुलिस व प्रशासनिक अधिकारियों के साथ ही एंबुलेंस, दमकल, बम निरोधक दस्ता, खुफिया एजेंसियां, ईआरटी और क्यूआरटी के अधिकारी व जवान मौके पर पहुंचे। पुलिस ने पूरे पैलेस व उसमें संचालित होटल परिसर को घेर लिया। यातायात पुलिस ने पैलेस की तरफ जाने वाला ट्रैफिक बंद करा दिया। बंधक गेस्ट को अस्पताल पहुंचाने के लिए ग्रीन कॉरिडोर भी बनाया गया।
ईआरटी के हथियारबंद कमांडो ने मोर्चा संभाला व कोना-कोना तलाश करते हुए पैलेस के कमरों की तरफ बढ़े। फिर ईआरटी के हथियारबंद व बुलेट प्रूफ जैकेट से लैस कमांडो भी आ गए। करीब ढाई घंटे तक तलाशी व छापेमारी के बाद शाम साढ़े छह बजे चारों डमी को पकड़ लिया गया। जो डमी आतंकी निकले। तब सभी ने राहत की सांस ली।

ईआरटी के कमांडो सबसे अंत में पहुंचे
आतंकियों को पकडऩे में क्यूआरटी व ईआरटी के कमांडो की भूमिका महत्वपूर्ण होती है। क्यूआरटी तो समय पर पहुंच गई, लेकिन ईआरटी के कमांडो आरपीटीसी में चल रही ट्रेनिंग में व्यस्त थे। दूरी भी अधिक थी। एेसे में वो सबसे अंत में मौके पर आए।

डीसीपी ने जताई नाराजगी
आतंकियों के घुसने की सूचना पर बम निरोधक दस्ते को भी मौके पर बुलाया गया, लेकिन दस्ते के चारों सदस्य बगैर तैयारी मौके पर पहुंचे। उन्होंने बुलेट प्रूफ सूट तक नहीं पहन रखा था। डीसीपी धर्मेन्द्रसिंह यादव ने नाराजगी जताई तो सभी सूट लेने वाहन की तरफ दौड़े, लेकिन सूट नहीं थे। तब सभी वापस कार्यालय लौटे और सूट पहनकर आए।

कौन प्रमुख अधिकारी कब पहुंचे

- ४.०० बजे : पीसीआर वैन व रातानाडा थानाधिकारी जुल्फिकार अली।
- ४.०१ बजे : आइपीएस अधिकारी व एसीपी (पूर्व) राजेश मीणा।

- ४.०४ बजे : पुलिस उपायुक्त (पूर्व) धर्मेन्द्रसिंह यादव, एसीपी (केन्द्रीय) कमलसिंह व उदयमंदिर थानाधिकारी प्रदीप शर्मा।
- ४.०५ बजे : क्विक रेस्पांस टीम (क्यूआरटी) के हथियारबंद कमांडो।

- ४.०७ बजे : महामंदिर थानाधिकारी सुमेरदान।
- ४.१०. बजे : फायरब्रिगेड।

- ४.११ बजे : एम्बुलेंस।
- ४.१३ बजे : अतिरिक्त पुलिस उपायुक्त (पूर्व) डॉ तेजपालसिंह।

- ४.१७ बजे : नागरिक सुरक्षा दस्ता।
- ४.२० बजे : पुलिस कन्ट्रोल रूम का जाब्ता व महिला थानाधिकारी (पश्चिम)।

- ४.२१ बजे : नागौरी गेट थानाधिकारी जब्बरसिंह।
‘उम्मेद भवन पैलेस में चार आतंकियों के घुसने व गेस्ट को बंधक बनाने की सूचना मिली। जो मॉक ड्रिल थी। ताज होटल मैनेजमेंट के साथ मिलकर सुरक्षा इंतजाम जांचने के लिए यह अभ्यास किया गया। पुलिस और अन्य विभागीय अधिकारी समय पर पहुंचे। ढाई घंटे में चारों डमी आतंकियों को पकड़ा गया।’

-धर्मेन्द्रसिंह, पुलिस उपायुक्त (पूर्व), जोधपुर।

Vikas Choudhary Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned