केवाइसी अपडेट के नाम ठगी, आप ऐसा करेंगे तो बच जाएंगे

- पेटीएम खाते को केवाइसी से अपडेट कराने का झांसा

- अब तक डेढ़ दर्जन से अधिक व्यक्ति ठगी के शिकार

जोधपुर. आजकल अधिकांश मोबाइलधारक पेटीएम का यूज करते हैं। अब ठगों ने इसी को जरिया बनाकर ठगी का गोरखधंधा शुरू कर दिया है। पेटीएम खाते को मोबाइल पर ऑनलाइन केवाइसी से अपडेट कराने का झांसा देकर अब तक जोधपुर में डेढ़ दर्जन से अधिक लोगों को शिकार बनाया गया है। अगर आप पेटीएम का यूज कर रहे हैं तो सावधान हो जाएं। पहले तो इस तरह के मैसेज आने पर उस तरफ ध्यान ही नहीं दें। उसे डाउनलोड व ओपन तक बिल्कुल ही नहीं करें। अगर कोई पेटीएम के नाम पर फोन करता है तो उसे कुछ भी जानकारी शेयर नहीं करें। घर में भी इस तरह की जानकारी शेयर करें कि पेटीएम अपडेट के नाम पर किस तरह ठगी हो रही है।
ठगों ने 25 रुपए डाले और एक लाख रुपए उड़ाए
1. जोधपुर के बीआर बिरला स्कूल रोड पर यूआइटी कॉलोनी निवासी गोपाल नारायण नवाल पुत्र रामनिवास के पास प्राइवेट बैंक से जारी क्रेडिट कार्ड है। गत 7 जनवरी को उसके मोबाइल में पेटीएम खाता केवाइसी से अपडेट कराने अन्यथा खाता ब्लॉक होने का संदेश आया था। एसएमएस में अंकित मोबाइल पर सम्पर्क किया, लेकिन कोई जवाब नहीं आया। कुछ देर बाद उस व्यक्ति ने वापस कॉल लगाया। मोबाइल पर ही ऑनलाइन केवाइसी से अपडेट कराने का झांसा देकर एक ऐप डाउनलोड कराया गया। उस पर क्लिक करने पर एसएमएस आया, जिसे उसने एलाउड कर दिया। फिर उससे तीन बार में 25 रुपए पेटीएम कराए। जिससे उसका पेटीएम खाते का बैलेंस 25 रुपए बढ़ गया। इससे वह विश्वास में आ गया। ठग ने गोपाल से पत्नी के मोबाइल नम्बर लिए और उस नम्बर पर बात की। इसके बाद उसके मोबाइल में एसएमएस के मार्फत ओटीपी नम्बर आने लगे। जो उसने ठग को बता दिए। ऐसा करते ही खाते से 38 हजार, 20 हजार, चालीस हजार व दस हजार यानि कुल 1.08 लाख रुपए निकाल लिए गए। इसका पता लगने पर उसने खाता बंद कराया। फिर पुलिस में शिकायत दी।

Sikander Veer Pareek Desk
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned