मंडोर अस्पताल के 13 कोरोना मरीजों को लेने के लिए आई 9 एम्बुलेंस खाली लौटी

- अस्पताल में नहीं थे पर्याप्त ऑक्सीजन सिलेण्डर
- मरीजों ने किया विरोध, पुलिस भी बुलाई

By: Gajendrasingh Dahiya

Published: 02 May 2021, 06:03 PM IST

जोधपुर. श्री शिवराम नत्थुजी टाक राजकीय मंडोर जिला अस्पताल के कोविड केयर सेंटर में भर्ती 13 कोरोना मरीजों को मथुरादास माथुर और महात्मा गांधी अस्पताल में शिफ्ट करने के लिए शनिवार शाम को डॉ एसएन मेडिकल कॉलेज ने 9 एम्बलेंस भेजी। मरीज व उनके परिजनों ने यह कहते हुए विरोध किया कि वहां पहले से ही बेड फुल है और वे दर-दर भटकेंगे। मरीज जाने को राजी नहीं हुए तो मंडोर पुलिस थाना से पुलिस आई। एक मरीज यह ड्रामा देखकर स्वयं ही निजी अस्पताल के लिए रवाना हो गया। शेष मरीजों के परिजन और बुजुर्ग नहीं जाने की जिद्द पर अड़े रहे। अधिकारियों तक बात पहुंचने के बाद इनकी शिफ्टिंग टाल दी गई और बाद में अस्पताल में ही कुछ ऑक्सीजन सिलेण्डर्स की व्यवस्था की गई।

कोई मरीज गंभीर नहीं हो इसलिए शिफ्ट करना था
दरअसल मंडोर अस्पताल में 50 बेड का कोविड सेंटर बनाया है। 100 बेड रिजर्व भी रखे गए हैं लेकिन अस्पताल में ऑक्सीजन सिलेण्डर्स की पर्याप्त व्यवस्था नहीं है। मेडिकल कॉलेज प्रशासन ने एहतियात के तौर पर मरीजों को शिफ्टिंग की योजना बनाई थी ताकि कोई मरीज ऑक्सीजन की कमी से गंभीर हालत में नहीं चला जाए।

उपकरण व ऑक्सीजन का मांग पत्र सौंपा
जोधपुर युवक कांग्रेस के पूर्व जिला सचिव लक्ष्मण सिंह सोलंकी ने बताया कि उन्होंने मेडिकल कॉलेज प्रशासन को अस्पताल की जरुरत की ऑक्सीजन सहित उपकरणों का मांग पत्र दिया है ताकि मरीजों को यहीं पर सभी सुविधाएं मिल जाए।
....................

‘अस्पताल में पर्याप्त ऑक्सीजन सिलेण्डर नहीं थे इसलिए मरीजों को शिफ्ट करना था।’
डॉ सुनीता भंसाली, प्रभारी, मंडोर जिला अस्पताल

Gajendrasingh Dahiya Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned