scriptJodhpur Foundation Day - Even beyond seven seas innocence of Jodhpur s | Jodhpur Foundation Day - सात समंदर पार भी महकती है जोधपुर की अपणायत | Patrika News

Jodhpur Foundation Day - सात समंदर पार भी महकती है जोधपुर की अपणायत

Jodhpur Foundation Day - विदेश में लोग देते हैं मिसाल
- हमेशा अपनेपन की बात

जोधपुर

Published: May 12, 2022 03:30:57 pm

Jodhpur Foundation Day - जोधपुर. हमारे यहां के कई लोग काम धंधे के सिलसिले में विदेश में बस गए, लेकिन इनका दिल आज भी जोधपुर में रमता है। स्थापना दिवस पर इन लोगों से बात की तो साफ महसूस हुआ कि सात समंदर पार भी जोधपुर की अपणायत खूब महकती है। पेश है जोधपुर मूल के कुछ लोगों के उद्गार-
Jodhpur Foundation Day - सात समंदर पार भी महकती है जोधपुर की अपणायत
Jodhpur Foundation Day - सात समंदर पार भी महकती है जोधपुर की अपणायत
विदेश में लोग देते हैं मिसाल
हमारा शहर अपणायत वाला है। हम तो बचपन से ही साम्प्रदायिक सौहार्द के बीच पले-बढ़े। अब विदेश में हैं, तो वहां भी जोधपुर की अपणायत को जीवंत रखे हुए हैं। अभी भी मानने को तैयार नहीं कि यह जोधपुर के लोग आपस में झगड़े हैं। जरूर कोई बाहर के लोग रहे होंगे। मेरी कामना है कि जोधपुर का यश-कीर्ति और अपणायत, सौहार्द बरकरार रहे।
- प्रेम भंडारी, अध्यक्ष, राजस्थान एसोसिएशन ऑफ नॉर्थ अमरीका (राना)
हमेशा अपनेपन की बात
जोधपुर अपणायत वाला शहर रहा है। यहां जो बीते दिनों हुआ वह अपवाद मात्र था। हम तो जोधपुर में ही पले-बढ़े हैं और अब कर्म भूमि कनाडा है। जोधपुरवासियों को शुभकामनाएं देते हैं। हम 37 वर्षों से जोधपुर से बाहर हैं, लेकिन जहां जाते हैं वहां जोधपुर-राजस्थान की संस्कृति व अपनेपन की बात हमेशा होती है।
- प्रो. प्रताप पुरोहित, कनाडा
अपणायत इज ओळखाण
कर्म रे कारण जोधाणौ छोड़्यो, पण हर पल, दिल मैं जोधाणै रौ वास है। खंडा अर खावणखंडा रै सागे इणरी अपणायत ही ओळखाण है। जोधपुर री जळेबी अर गुलाब जामुन जैड़ी रसीली मिठास ने किणरी ई निजर नी लागै। म्हें तो विदेस री धरती माथै ई जोधाणा री संस्कृति ने अपनावां हां अर अठै अंगरैज ई जोधपुर सूं लगाव राखै।
- दिलीप पूगलिया, लंदन
सेवा के जरिए जीवंत किया मारवाड़
नाइजीरिया व अफ्रीकी देशों में हमने जोधपुर व भारतीय संस्कृति को सेवा के जरिए जीवंत किया हुआ है। यह हमारा अपनापन है जो हम जोधपुर से सीख कर गए और विदेश में सेवाएं दे रहे हैं। न सिर्फ अपने काम से बल्कि अन्य सेवा कार्यों से सीख दे रहे हैं। जोधपुर का सौहार्द कभी खत्म नहीं सकता। हमारे संस्कारों की जड़ें काफी गहरी है।
- चीफ संजय जैन, अध्यक्ष, इंडियन कल्चरल एसोसिएशन नाइजीरिया

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

यहाँ बचपन से बच्ची को पाल-पोसकर बड़ा करता है पिता, जैसे हुई जवान बन जाता है पतियूपी में घर बनवाना हुआ आसान, सस्ती हुई सीमेंट, स्टील के दाम भी धड़ामName Astrology: पिता के लिए भाग्यशाली होती हैं इन नाम की लड़कियां, कहलाती हैं 'पापा की परी'इन 4 राशियों के लड़के अपनी लाइफ पार्टनर को रखते हैं बेहद खुश, Best Husband होते हैं साबितजून में इन 4 राशि वालों के करियर को मिलेगी नई दिशा, प्रमोशन और तरक्की के जबरदस्त आसारमस्तमौला होते हैं इन 4 बर्थ डेट वाले लोग, खुलकर जीते हैं अपनी जिंदगी, धन की नहीं होती कमी1119 किलोमीटर लंबी 13 सड़कों पर पर्सनल कारों का नहीं लगेगा टोल टैक्ससंयुक्त राष्ट्र की चेतावनी: दुनिया के पास बचा सिर्फ 70 दिन का गेहूं, भारत पर दुनिया की नजर

बड़ी खबरें

आंध्र प्रदेश में जिले का नाम बदलने पर हिंसा, मंत्री का घर जलाया, कई घायलपंजाब के पूर्व स्वास्थ्य मंत्री के OSD प्रदीप कुमार भी हुए गिरफ्तार, 27 मई तक पुलिस रिमांड में विजय सिंगलारिलीज से पहले 1 जून को गृहमंत्री अमित शाह देखेंगे अक्षय कुमार की 'पृथ्वीराज', जानिए किस वजह से रखी जा रहीं स्पेशल स्क्रीनिंगGujrat कांग्रेस के वरिष्ठ नेता का विवादित बयान, बोले- मंदिर की ईंटों पर कुत्ते करते हैं पेशाबIPL 2022, Qualifier 1 RR vs GT: मिलर के तूफान में उड़ा राजस्थान, गुजरात ने पहले ही सीजन में फाइनल में बनाई जगहRajya Sabha Election 2022: राजस्थान से मुस्लिम-आदिवासी नेता को उतार सकती है कांग्रेस'तुम्हारे कदम से मेरी आँखों में आँसू आ गए', सिंगला के खिलाफ भगवंत मान के एक्शन पर बोले केजरीवालसमलैंगिकता पर बोले CM नीतीश कुमार- 'लड़का-लड़का शादी कर लेंगे तो कोई पैदा कैसे होगा'
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.