बालिका सम्मान के लिए मारवाड़ से शुरू हुआ कन्यापूजन, सोशल मीडिया मुहिम से पूरे प्रदेश में फैला

बालिका सम्मान के लिए मारवाड़ से शुरू हुआ कन्यापूजन, सोशल मीडिया मुहिम से पूरे प्रदेश में फैला
बालिका सम्मान के लिए मारवाड़ से शुरू हुआ कन्यापूजन, सोशल मीडिया मुहिम से पूरे प्रदेश में फैला

Harshwardhan Singh Bhati | Updated: 11 Oct 2019, 04:19:40 PM (IST) Jodhpur, Jodhpur, Rajasthan, India

अंतर्राष्ट्रीय बालिका दिवस विशेष, सरकारी स्कूल के शिक्षकों ने खुद सोशल मीडिया पर मुहिम चलाकर संभागस्तर पर शिक्षकों को जोड़ा, सीएम ने भी इस पहल की सराहना की

अविनाश केवलिया/जोधपुर. प्रदेश में बालिकाओं की सुरक्षा और उनके प्रति सम्मान दर्शाने के लिए प्रदेश के सरकारी स्कूलों में बीते कुछ सालों में कन्या पूजन शुरू हुआ। बिना किसी सरकारी बजट के शिक्षक स्वयं यह कार्य करते हैं। मारवाड़ के जालोर जिले के गोदन गांव के सरकारी स्कूल से इसकी शुरुआत की गई। इस बार बालिका दिवस को लक्ष्य रखते हुए सोशल मीडिया के जरिये प्रदेश के सभी जिलों तक मुहिम पहुंची।

800 से अधिक सरकारी स्कूलों में हजारों कन्याओं का पूजन किया गया।इस अभियान के तहत विद्यालय में पढऩे वाली कक्षा 1 से 5 तक की छात्राओं का विद्यालय परिवार के शिक्षकों व बालकों की ओर से सार्वजनिक पूजन व अभिनंदन किया जाता है। नारी सम्मान सिखाने के लिए यह प्रयोग पिछले कुछ सालों से किया जा रहा है। राज्य की विभिन्न स्कूलों के शिक्षकों ने स्वयं अपने खर्च से कर्तव्य भाव के साथ यह आयोजन किए हैं।

इन उद्देश्यों को लेकर शिक्षक कर रहे काम
बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ, जातिगत भेदभाव से मुक्ति, सभी समुदाय की कन्याओं का पूजन, पूरा स्टाफ और सारे छात्र पूजक, सामाजिक समरसता का संस्कार, linga आधारित भेदभाव से मुक्त होने का संदेश, कन्या पूजन से लड़कियो के प्रति दृष्टि बदलने का प्रयास कर रहे हैं।

सोशल मीडिया के सहयोग से पूरे राज्य तक मुहिम
सोशल मीडिया के उपयोग से इस बार सभी 33 जिलों तक यह मुहिम पहुंचाने का दावा किया जा रहा है। वाट्सएप पर अलग-अलग जिलों के शिक्षकों ने कुल 14 कन्यापूजन वाटसएप गु्रप बने। 7 संभाग के हिसाब से शिक्षकों को जोड़ा गया। 14 समूह में कुल मिला कर 1462 शिक्षक जोड़े गए। 800 से अधिक विद्यालयों में पढऩे वाली करीब 20 हजार छात्राओं का अभिनन्दन किया गया।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned