जेएनवीयू में नैक का सर्टिफिकेट गायब

JNVU News

- 10 साल पहले नैक ने विवि को दिया था बी ग्रेड
- नाराज कुलपति ने विवि के सभी अनुभागों, एचओडी, डीन व डायरेक्टर्स की बैठक बुलाई

By: Gajendrasingh Dahiya

Published: 21 Feb 2021, 07:49 PM IST

जोधपुर. जयनारायण व्यास विश्वविद्यालय में बड़ी हास्यास्पद स्थिति सामने आई है। विवि में नेशनल असेसमेंट एण्ड एक्रीडिटेशन काउंसिल (नैक) का अंतिम सर्टिफिकेट गुम हो गया है। कुलपति प्रो पीसी त्रिवेदी ने विवि में नैक टीम की विजिट कराने के लिए अंतिम सर्टिफिकेट मांगा तो कहीं नहीं मिला। नाराज कुलपति ने शनिवार को विवि के सभी अनुभागों, सभी डीन, सभी एचओडी और डायरेक्टर्स की बैठक बुलाकर अपनी नाराजगी जाहिर की। इससे पहले सीनेट की बैठक में भी कुलपति नैक सर्टिफिकेट गायब होने पर अपना क्षोभ प्रकट कर चुके हैं।

जेएनवीयू में नैक की टीम ने अंतिम बार वर्ष 2010 में तत्कालीन कुलपति प्रो नवीन माथुर के समय दौरा किया था। उस समय विवि को बी ग्रेड मिला था। इससे पहले 2004-5 में तत्कालीन कुलपति डॉ नसीम भाटिया के समय नैक टीम आई तब विवि को ए ग्रेड मिला। पिछले दस सालों से विवि में नैक टीम का दौरा नहीं हुआ है। कुलपति डॉ आरपी सिंह, कार्यवाहक कुलपति डॉ राधेश्याम शर्मा, प्रो गुलाब ङ्क्षसह चौहान ने नैक टीम के लिए प्रयास नहीं किए। गौरतलब है कि नैक विश्वविद्यालय अनुदान आयोग का स्वायत्तशाषी संस्थान है। नैक की ग्रेड के आधार पर विवि को यूजीसी विभिन्न प्रकार के अनुदान व प्रोजेक्ट जारी करती है।

अब नैक टीम आई तो क्या दिखाएंगे
जेएनवीयू ने नैक विजिट की तैयारी शुरू की है। इंजीनियरिंग के प्रो मिलिंद कुमार शर्मा को समन्वयक बनाया गया है। अब अगर नैक टीम का दौरा होता है और टीम पुराना सर्टिफिकेट मांगेगी तो विवि के पास कोई जवाब नहीं होगा। गणमान्य व्यक्तियों अथवा सरकार द्वारा पूछे जाने पर भी विवि की हास्यास्पद स्थिति होगी। यह कार्य विवि की स्थापना शाखा करती है।

विभागों व अनुभागों ने दी गलत सूचनाएं
नैक टीम की तैयारी के लिए कुलपति प्रो त्रिवेदी के निर्देश पर विभिन्न विभागों और अनुभागों से सूचनाएं मांगी गई थी। कई विभागों व अनुभागों ने गलत सूचनाएं दी। विभाग से अपने यहां 10 पीएचडी बता रहा है तो उसी समय एकेडमिक सेक्शन के रिकॉर्ड में 8 ही है। गोपनीय विभाग 50 परीक्षाएं करवा रहा है लेकिन रिजल्ट 48 का ही जारी कर रहा है। एकाउंट सेक्शन बजट के बारे में नहीं बता रहा है। कुल छात्रों की संख्या में नियमित के साथ स्वयंपाठी विद्यार्थी भी जोड़ दिए गए। अधिकांश सूचनाएं भ्रमित करने वाली होने पर शनिवार दोपहर को कुलपति ने सभी की बैठक बुलाकर डांट पिलाई। रजिस्ट्रार चंचल वर्मा ने भी बैठक में कहा कि रजिस्ट्रार दफ्तर से जो सूचनाएं मांगी जाती है उनका कई विभाग/अनुभाग जवाब तक नहीं देते हैं।

सम्पर्क पोर्टल पर 588 शिकायतें, कलक्टर भी सख्त
बैठक में रजिस्ट्रार चंचल वर्मा ने बताया कि सम्पर्क पोर्टल पर जेएनवीयू की 588 शिकायतें हैं, जिसमें सर्वाधिक टाइप-4 (निस्तारण नहीं करने पर कार्यवाही) की शिकायतें हैं। इतनी गंभीर शिकायतों पर कलक्टर ने भी नाराजगी जताई है।

Gajendrasingh Dahiya Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned