अंधविश्वास ने फिर ले ली मासूम की जान, लोहावट में दो माह के शिशु को गर्म लोहे से दागा

लोहावट क्षेत्र के फतेहसागर गांव के भीलों की ढाणी में परिजनों ने अधंविश्वास के चक्कर में दो माह के बच्चे को किसी गर्म वस्तु से दाग दिया। जबकि शिशु को निमोनिया था। तबीयत बिगडऩे पर उसे बुधवार सुबह लोहावट के राजकीय सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र पर लाया गया।

By: Harshwardhan bhati

Updated: 12 Mar 2020, 02:45 PM IST

लोहावट/जोधपुर. लोहावट क्षेत्र के फतेहसागर गांव के भीलों की ढाणी में परिजनों ने अधंविश्वास के चक्कर में दो माह के बच्चे को किसी गर्म वस्तु से दाग दिया। जबकि शिशु को निमोनिया था। तबीयत बिगडऩे पर उसे बुधवार सुबह लोहावट के राजकीय सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र पर लाया गया। प्राथमिक उपचार के बाद गंभीर हालत होने पर उसे जोधपुर रैफर किया गया, जहां उपचार के दौरान उसकी मौत हो गई। शिशु के परिजनों ने लोहावट में एक निजी अस्पताल में उपचार करवाया, लेकिन एक-दो दिन बाद भी उसके स्वास्थ्य में कोई विशेष सुधार नहीं हुआ।

बाद में शिशु के परिजनों ने निमोनिया (स्थानीय भाषा में बादळो) होने की आंशका को लेकर उसे परिवार की एक महिला को दिखाया, जिसने उसे लोहे की किसी गर्म वस्तु से दाग दिया। इससे शिशु की तबीयत अधिक बिगड़ गई। उम्मेद अस्पताल अधीक्षक डॉ. रंजना देसाई ने बताया कि बच्चा गंभीर हालत में ही उम्मेद अस्पताल में भर्ती हुआ था। रात पौने दस बजे उपचार के दौरान उसका निधन हो गया।

इनका कहना है
दो माह का शिशु तीन-चार दिनों से गंभीर निमोनिया से ग्रस्त था। बच्चे के पेट पर किसी गर्म वस्तु से दागा गया। उसका यहां पर उपचार करने के बाद उम्मेद अस्पताल जोधपुर रैफर कर दिया था।

-डॉ.कमलकिशोर विश्नोई, प्रभारी सीएचसी लोहावट

Show More
Harshwardhan bhati
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned