script weather alert: फरवरी में बेहाल करेगा पश्चिमी विक्षोभ, 15 जिलों में बारिश का अलर्ट, मेघगर्जन के साथ गिर सकती है बिजली | Western disturbance will cause havoc in February, rain alert in 15 districts, Thunderstorm alert | Patrika News

weather alert: फरवरी में बेहाल करेगा पश्चिमी विक्षोभ, 15 जिलों में बारिश का अलर्ट, मेघगर्जन के साथ गिर सकती है बिजली

locationजोधपुरPublished: Feb 01, 2024 12:26:29 pm

Submitted by:

Rakesh Mishra

राजस्थान में एक बार फिर नया पश्चिमी विक्षोभ सक्रिय होने वाला है। मौसम विभाग के अनुसार इसके प्रभाव से 2 से 4 फरवरी को जोधपुर, बीकानेर, जयपुर और, भरतपुर संभाग के कुछ भागों में मेघगर्जन के साथ हल्के से मध्यम बारिश होने की प्रबल संभावना है।

thunderstorm_alert.jpg
राजस्थान में एक बार फिर नया पश्चिमी विक्षोभ सक्रिय होने वाला है। मौसम विभाग के अनुसार इसके प्रभाव से 2 से 4 फरवरी को जोधपुर, बीकानेर, जयपुर और, भरतपुर संभाग के कुछ भागों में मेघगर्जन के साथ हल्के से मध्यम बारिश होने की प्रबल संभावना है। मौसम विभाग ने 3 फरवरी को अलवर, भरतपुर, दौसा, जयपुर, झुंझुनूं, करौली, सवाईमाधोपुर, सीकर, बीकानेर, चूरू, हनुमानगढ़, जैसलमेर, जोधपुर, नागौर और श्रीगंगानगर में मेघगर्जन और वज्रपात की चेतावनी जारी की है।
वहीं दूसरी तरफ भारतीय मौसम विभाग (आईएमडी) के पूर्वानुमानों के अनुसार ही इस साल जोधपुर में सर्दी का मौसम ’ठंडा’ ही रहा। दिसम्बर के बाद जनवरी का महीना भी गर्म रहा। इस सीजन में पारा 7 डिग्री से नीचे नहीं गया। बीते 10 साल में जनवरी महीने की बात करें तो 2024 का जनवरी का महीना सबसे गर्म रहा।
वहीं, इन दस साल में दिसम्बर का महीना भी दूसरी बार सबसे गर्म रहा। दिसम्बर में न्यूनतम तापमान 8.6 डिग्री और जनवरी में 7.1 डिग्री से नीचे नहीं गया। मौसम विभाग ने अलनीनो प्रभाव सहित अन्य मौसमी कारकों के चलते इस साल पश्चिमी राजस्थान के कुछ पॉकेट में सर्दी कम पडऩे की संभावना जताई थी। वहीं माउंटआबू की बात करें तो बादल छाने से न्यूनतम तापमान उछलकर चार डिग्री सेल्सियस पर पहुंच गया।
यह भी पढ़ें

सर्दी ने लिया यूटर्न, ओले गिरने के बाद IMD का नया अलर्ट, देखें फरवरी के पहले सप्ताह की भविष्यवाणी

वहीं अधिकतम तापमान में एक डिग्री सेल्सियस की गिरावट आने से तापमापी का पारा 19 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। सवेरे-शाम की ठंड से बचने की जुगत में लोगों को ऊनी कपड़ों का सहारा लेना पड़ा। दिन में ठंडक बनी रहने से देश विदेश से आए सैलानियों ने गर्म कपड़े पहनकर ही दर्शनीयस्थलों का दीदार किया। आसमान में बादलों का आवागमन बने रहने से सूरज और बादलों के बीच आंख मिचौनी का खेल चलता रहा, जिससे धूप का असर फीका रहा।

ट्रेंडिंग वीडियो