scriptkarauli news | झूमकर बरसे बदराओं ने करौली जिले में पिछले वर्ष के आंकड़े को इतना पीछे छोड़ा... | Patrika News

झूमकर बरसे बदराओं ने करौली जिले में पिछले वर्ष के आंकड़े को इतना पीछे छोड़ा...

करौली. जिले के अधिकांश इलाकों में इस बार सावन झूमकर बरसा है।

करौली

Published: August 04, 2021 08:28:54 pm

करौली. जिले के अधिकांश इलाकों में इस बार सावन झूमकर बरसा है। मानसून की मेहरबानी से जिले के सबसे बड़े पांचना बांध सहित अन्य बांध-तालाब छलक उठे। विशेष रूप से महज करीब एक सप्ताह की बारिश के दौर ने ही जिले को तर-बतर कर दिया है।
झूमकर बरसे बदराओं ने करौली जिले में पिछले वर्ष के आंकड़े को इतना पीछे छोड़ा...
झूमकर बरसे बदराओं ने करौली जिले में पिछले वर्ष के आंकड़े को इतना पीछे छोड़ा...
जल संसाधन विभाग के आंकड़ों पर नजर डालें तो पिछले वर्ष के मुकाबले अब तक जिले में 263 एमएम बारिश अधिक हो चुकी है। पिछले साल 3 अगस्त तक जिले में कुल 234 एमएम बारिश ही हुई थी, जबकि इस बार झमाझम बारिश के दौर के चलते अब तक 497 एमएम बारिश हो चुकी है। जबकि जिले की कुल औसत बारिश 686 मानी जाती है।
विशेष बात यह है कि कहीं-कहीं तो जिले की कुल औसत बारिश से भी अधिक बारिश दर्ज हो चुकी है, जबकि अभी मानसून का लम्बा दौर बाकी है। ऐसे में उम्मीद है कि इस बार जिले में बारिश का आंकड़ा औसत बारिश को भी पार कर सकता है। गौरतलब है कि गत वर्ष जिले में पूरे मानसून के दौरान सामान्य औसत बारिश भी नहीं हो सकी थी, जिससे कई बांध-तालाब भी रीते रह गए थे।
इन स्थानों पर 700 एमएम से अधिक बारिश
जल संसाधन विभाग के आंकड़ों को देखें तो जिले में अब तक सर्वाधिक बारिश सपोटरा इलाके के कालीसिल बांध क्षेत्र में हुई है, जहां 769 एमएम बारिश हो चुकी है, वहीं मण्डरायल इलाका भी इससे पीछे नहीं है। मण्डरायल क्षेत्र में भी अब तक 732 और श्रीमहावीरजी क्षेत्र में 706 एमएम बारिश हो चुकी है। अभी तक की बारिश को लेकर क्षेत्र के लोगों का कहना है कि लम्बे समय बाद सावन माह के पहले सप्ताह तक इतनी अधिक बारिश हुई है।
जिले में यहां सबसे कम बारिश
पिछले दिनों में जिले में बारिश का दौर तो झमाझम चला है, लेकिन कुछ क्षेत्रों में अन्य इलाकों की तुलना में कम बारिश दर्ज की गई। टोडाभीम इलाके में अभी तक 210 एमएम , नादौती क्षेत्र में 284 एमएम और हिण्डौन इलाके में 287 एमएम बारिश हुई है। हालांकि हिण्डौन क्षेत्र के जगर बांध पर 385 एमएम बारिश हो चुकी है।
अब तक कहां कितनी बारिश
स्थान बारिश (एमएम)
करौली 558
सपोटरा 573
हिण्डौन 287
टोडाभीम 210
श्रीमहावीरजी 706
मण्डरायल 732
नादौती 284
कालीसिल बांध 769
पांचना बांध 472
जगर बांध 385

इनका कहना है
जिले में अब तक करीब 497 एमएम बारिश दर्ज की गई है, जबकि पिछले वर्ष इस अवधि तक करीब 234 एमएम बारिश हुई थी। इस प्रकार इस वर्ष जिले में गत वर्ष के मुकाबले 263 एमएम बारिश हो चुकी है। अभी मानसून का लम्बा दौर बाकी है।
सुशीलकुमार गुप्ता, अधिशासी अभियंता,जल संसाधन विभाग, करौली

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

ससुराल में इस अक्षर के नाम की लडकियां बरसाती हैं खूब धन-दौलत, किस्मत की धनी इन्हें मिलते हैं सारे सुखGod Power- इन तारीखों में जन्मे लोग पहचानें अपनी छिपी हुई ताकत“बेड पर भी ज्यादा टाइम लगाते हैं” दीपिका पादुकोण ने खोला रणवीर सिंह का बेडरूम सीक्रेटइन 4 राशियों की लड़कियां जिस घर में करती हैं शादी वहां धन-धान्य की नहीं रहती कमीकरोड़पति बनना है तो यहां करे रोजाना 10 रुपये का निवेशSharp Brain- दिमाग से बहुत तेज होते हैं इन राशियों की लड़कियां और लड़के, जीवन भर रहता है इस चीज का प्रभावमौसम विभाग का बड़ा अलर्ट जारी, शीतलहर छुड़ाएगी कंपकंपी, पारा सामान्य से 5 डिग्री नीचेइन 4 नाम वाले लोगों को लाइफ में एक बार ही होता है सच्चा प्यार, अपने पार्टनर के दिल पर करते हैं राज

बड़ी खबरें

Corona cases in india: पिछले 24 घंटे में कोरोना के 2.51 लाख केस, 627 की मौत, नए मामलों में 12% की कमीUP Assembly Elections 2022 : अमित शाह की अखिलेश यादव को खुली चुनौती, बोले- अगर हमारे मुकाबले 10 फीसदी भी काम किया तो जवाब देंटाटा की Air India आज से भरेगी उड़ान, इस तरह करेंगे यात्रियों का स्वागतRRB-NTPC: छात्र संगठनों का आज बिहार बंद का ऐलान, महागठबंधन ने भी किया समर्थन, पड़ोसी राज्यों में अलर्टSC-ST को प्रमोशन में आरक्षण के मुद्दे पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला आजऑफलाइन ही होंगे बोर्ड एग्जाम पर आगे बढ़ेगी डेट, जल्द घोषित होगा परीक्षा का नया टाइमटेबिलAccident on Highway : हादसे में गई परिवार के चार लोगों की जान,कोहरा बना कालCG Board Exam 2022: बोर्ड परीक्षार्थियों के लिए बड़ी खबर, 31 जनवरी से आगे बढ़ सकती है प्रैक्टिकल परीक्षा की तारीख, ये है वजह
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.