scriptBJP-Congress clash on high profile seats of Korba election 2023 | कोरबा की हाइप्रोफाइल सीटों पर कांटे की टक्कर, क्या इस बार बदलेगी प्रत्याशियों की किस्मत? देखिए यह खास रिपोर्ट | Patrika News

कोरबा की हाइप्रोफाइल सीटों पर कांटे की टक्कर, क्या इस बार बदलेगी प्रत्याशियों की किस्मत? देखिए यह खास रिपोर्ट

locationकोरबाPublished: Nov 24, 2023 05:31:27 pm

Submitted by:

Khyati Parihar

Korba Election 2023: 17 नंवबर को मतदान के बाद तीन दिसंबर को मतगणना होनी है। दोनों ही प्रमुख पार्टी भाजपा, कांग्रेस के अलावा आप पार्टी भी अपने-अपने जीत के दावे कर रहे हैं।

BJP-Congress clash on high profile seats of Korba election 2023
कोरबा की इन हाइप्रोफाइल सीटों पर बीजेपी-कांग्रेस में कांटे की टक्कर, क्या इस बार बदलेगी प्रत्याशियों की किस्मत? देखिए यह खास रिपोर्ट
कोरबा। Chhattisgarh Election 2023: जिले की सबसे हाइप्रोफाइल सीट कोरबा विधानसभा से इस बार भी जीत बस्तियों से ही निकलेगी, क्योंकि बस्तियों में इस बार 70 फीसदी से लेकर अधिकतम 93 फीसदी तक वोटिंग हुई है। जबकि उपक्रमों के कॉलोनी एरिया में वोटिंग सबसे कम 27 से 40 फीसदी तक ही सीमित रह गई।
17 नंवबर को मतदान के बाद तीन दिसंबर को मतगणना होनी है। दोनों ही प्रमुख पार्टी भाजपा, कांग्रेस के अलावा आप पार्टी भी अपने-अपने जीत के दावे कर रहे हैं। पिछले कुुछ चुनावों में वोटिंग का ट्रेंड देखा जाए तो कांग्रेस के गढ़ में इस बार भी अधिक वोटिंग हुई तो वहीं भाजपा के गढ़ वाले बूथों में बम्फर वोट पड़े हैं। हालांकि कई बूथ ऐसे भी हैं जहां वोटिंग कम हुई है। इसका नुकसान दोनों ही पार्टी को उठाना पड़ेगा। इस बार के वोटिंग को देखें तो शिक्षित और नौकरीपेशा वोटरों की तुलना में बस्तियों से अधिक वोटिंग हुई है। अब यह तीन दिसंबर को मतगणना से ही स्पष्ट हो सकेगा कि किसके खाते में वोट अधिक पड़े हैं।
यह भी पढ़ें

अगला मुख्यमंत्री कौन ?... CM के चेहरे को लेकर छिड़ी सियासी वॉर, कांग्रेस - भाजपा में मची खलबली

स्वीप कार्यक्रम का कोरबा सीट पर नहीं दिखा असर

पिछले विधानसभा चुनाव में भी इन्हीं कालोनी एरिया में कम वोटिंग हुई थी। 65 फीसदी से कम वोटिंग वाले करीब 40 से अधिक बूथाें में निर्वाचन विभाग द्वारा महाअभियान चलाया गया था ताकि वोटिंग को लेकर लोगों में रूचि बढ़े, लेकिन स्थिति ये रही कि इस बार भी सीएसईबी, बालको, एनटीपीसी और एसईसीएल के कॉलोनी में वोटिंग फीसदी कम रहा। हालांकि इसके पीछे एक यह भी वजह सामने आ रही है कि बहुत से कर्मचारी परिवार रिटायर या फिर ट्रांसफर के बाद कालोनी छोड़ चुके हैं। उन परिवार मतदाता सूची से नहीं हट सका था। स्वीप कार्यक्रम के तहत ग्रामीण इलाकों में भी मतदान का प्रतिशत आयोग नहीं बढ़ा सका। सभी सीटों पर पिछले विधालसभा चुनाव से कम वोट गिरे हैं।
इन बूथों में हुई सर्वाधिक वोटिंग

बूथ क्रमांक - क्षेत्र - वोटिंग प्रतिशत

17 - पीपल कोहड़िया - 88.17
236 - दादरखुर्द - 85.29
237 - ढेलवाडीह - 86.17
55 - डगनियाखार - 88.10
69 - चंद्रनगर - 93.51
242 - भिलाईखुर्द - 82.15
02 - सलिहाभाठा - 87.98
03 - सेमीपाली - 81.62
04 - डुमरमुड़ा - 91.30
06 - बरेड़ीमुड़ा - 92.84
32 - अगारखार - 89.68
यह भी पढ़ें

CG Election 2023 : छत्तीसगढ़ को रिजल्ट का बेसब्री से इंतजार.. सबसे पहले इन सीटों के आएंगे नतीजे, इतने बजे से शुरू होगी मतगणना

इन बूथों में सबसे कम वोटिंग

बूथ क्रमांक - क्षेत्र - वोटिंग प्रतिशत

164 - सीएसईबी - 45.58
163 - सीएसईबी - 38.06
64 - खम्हरिया - 47.28
158 - रामनगर - 49.68
159 - जेपी कालोनी - 47.04
19 - जेलगांव - 41.88
23 - जेलगांव - 38.78
27 - शक्निगर - 38.56
30 - कावेरी विहार - 32.67
31 - कावेरी विहार - 39.17
92 - पाड़ीमार, बालको - 27.57
रिहायशी इलाकों में इस तरह हुई वोटिंग

रिहायशी इलाकों के बूथों में 55 से लेकर 72 फीसदी तक वोटिंग हुई है। कोसाबाड़ी में 55.43 फीसदी, आरपीनगर में 61.74 फीसदी, नेहरूनगर में 72, शिवाजीनगर में 68, एमपीनगर में 55, टीपीनगर में 65, लालूराम कालोनी मेें 53 फीसदी और दर्री रोड में 63 फीसदी वोटिंग हुई है।
यह भी पढ़ें

झीरम कांड पर CM बघेल ने भाजपा पर साधा निशाना, बोले- जांच में डाला अड़ंगा

दर्री क्षेत्र से तीनों ही पार्टियों की बंधी उम्मीद

इस बार सर्वाधिक वोटिंग दर्री क्षेत्र के बूथों पर हुई है। भाजपा-कांग्रेस के साथ-साथ आप पार्टी को भी इन सर्वाधिक वोटिंग से उम्मीद बंधी हुई है। दरअसल कोरबा विधानसभा की बूथों की गिनती सुमेधा से शुरु होती है। तीन दिसंबर को जब मतगणना शुरु होगी तब इन्हीं बूथों के परिणाम सबसे पहले आएंगे। जो पार्टी यहां से बढ़त बनाती है उसके जीतने की संभावना अधिक होती है। भाजपा का दावा है कि दर्री से कम से कम पांच हजार की लीड पार्टी को मिलेगी, जबकि कांग्रेस का दावा है कि हर बार की तरह यहां से पार्टी को बढ़त मिलेगी।
पुराने शहर में मिलाजुला मतदान

पुराने शहर के बूथों में मिलाजुला मतदान देखने को मिला। रामसागरपारा में 60 फीसदी, पटेलपारा में 62 फीसदी, मिशनरोड में 70 फीसदी, अग्रसेन चौक में 64 फीसदी, दुरपारोड में 68.66 फीसदी, पुरानी बस्ती में 69 फीसदी, इतवारी बाजार में 67, रानीरोड में 81 फीसदी, मोतीसागरपारा में 72 फीसदी, सीतामणी में 69, संजयनगर में 62, नई बस्ती में 70 फीसदी तक वोटिंग हुई है।

ट्रेंडिंग वीडियो