scriptFraud: 43 thousand swinlde in the name of lucky draw car | लिफाफे में लिखा था- आप किस्मत के धनी निकले हैं, कूपन स्क्रैच किया तो निकली कार, फिर ऐसे हुआ ठगी का शिकार | Patrika News

लिफाफे में लिखा था- आप किस्मत के धनी निकले हैं, कूपन स्क्रैच किया तो निकली कार, फिर ऐसे हुआ ठगी का शिकार

locationकोरीयाPublished: Feb 10, 2024 06:42:57 pm

Fraud: आयुर्वेद कंपनी के नाम से ठगी के शिकार व्यक्ति के पास डाक से आया था लिफाफा, 43 हजार रुपए ऑनलाइन ट्रांसफर करने के बाद हुआ ठगी का एहसास, थाने में दर्ज कराई रिपोर्ट

लिफाफे में लिखा था- आप किस्मत के धनी निकले हैं, कूपन स्क्रैच किया तो निकली कार, फिर ऐसे हुआ ठगी का शिकार
Churcha police station Koria
बैकुंठपुर. Fraud: आयुर्वेद कंपनी जीवा के नाम पर लकी ड्रॉ में स्विफ्ट डिजायर कार फंसने का झांसा देकर साढ़े ४३ हजार ठगी का मामला सामने आया है। इस मामले में ठगी के शिकार व्यक्ति ने थाने में रिपोर्ट दर्ज कराई है। दरअसल पीडि़त के पास डाक के माध्यम से एक लिफाफा आया। खोलकर देखा तो लिखा था आप किस्मत के धनी निकले हैं। जब लिफाफे में रहे कूपन को स्क्रैच किया तो उसमें कार निकला। जब दिए गए नंबर पर फोन किया तो बीमा, रजिस्ट्रेशन व अन्य के खर्चे बताकर 43 हजार रुपए ठग लिए गए। पुलिस मामले की जांच कर रही है।

कोरिया जिले के चरचा थाना क्षेत्र अंतर्गत ग्राम छरछा बस्ती निवासी सोनई सिंह ने पुलिस को बताया कि 5 फरवरी को उसके मोबाइल नंबर पर छिन्दडांड पोस्ट ऑफिस का डाकिया ने कॉल कर बताया कि उसके नाम का डाक आया है। भतीजे को उसने डाक लेने भेजा।
जब वह डाक लेकर आया और उसने लिफाफा खोलकर देखा तो एक कागज में हिन्दी-अंग्रेजी में जीवा हर्बल आयुर्वेदा हेल्थ केयर कस्तूबा नगर आसाम लिखा हुआ था। उसमें आयुर्वेद जड़ी-बूटी का उल्लेख कर अंतिम लाइन में लिखा था कि आप किस्मत के धनी निकले हैं।
आप विजेता घोषित हुए हैं। पेपर के अन्दर लिफाफा में एक कूपन था, जिसे स्क्रैच किया तो सेकंड प्राइज स्विफ्ट डिजायर कार का विजेता बताया गया था। लेटर में डॉ. आनंद किशोर का मोबाइल नंबर 9827429230 अंकित था तथा कूपन में भी वही नम्बर अंकित था।
यह भी पढ़ें
फुलीडुमर घाट मोड़ पर अनियंत्रित होकर खाई में गिरा ट्रक, ड्राइवर व हेल्पर की दर्दनाक मौत


ऐसे ठगी के जाल में फंसा
उसने बताया कि जब कूपन एवं डाक को पढक़र उक्त नंबर पर कॉल किया तो उसने अपना नाम हेमंत कुमार तथा हिमांचल प्रदेश के कुल्लू जिला से बात करने की जानकारी दी। उसने कहा कि आपके नाम स्विफ्ट डिजायर कार फंसी है। गाड़ी का रजिस्ट्रेशन एवं बीमा करा लीजिए।
यह बात सुनकर उसने 2 दिन में रजिस्ट्रेशन, बीमा व परमिट के लिए 43 हजार 500 रुपए फोन पे के माध्यम से ट्रांसफर कर दिए। टोल टैक्स के नाम पर आसाम से गाड़ी भेजवाने के नाम पर और पैसे की मांग उसके द्वारा की जा रही है। रिपोर्ट पर पुलिस ने आरोपी हेमंत कुमार के खिलाफ धारा 420, 66सी, 66डी के तहत अपराध दर्ज कर जांच शुरु कर दी है।
यह भी पढ़ें
कपड़ा व बिरयानी दुकान में लगी भीषण आग, पूरा सामान जलकर खाक, व्यवसायियों को लाखों का नुकसान


कब-कब ट्रांसफर किया पैसा
पीडि़त ने बताया कि आरोपी ने उससे कहा कि यदि ड्रॉ की गाड़ी चाहिए तो रजिस्ट्रेशन करवाना पड़ेगा। उसके लिए मुझे 5500 रुपए फोन पे करना होगा। तब उसने ६ फरवरी को दोपहर 2.33 बजे उसके नंबर 9124954817 में फोन पे करने पर नाम विष्णु दास लिखा था।
उसी मोबाइल नंबर से फोन आया और बोला कि आपकी गाड़ी का रजिस्ट्रेशन हो गया है। बीमा के लिए 12500 रुपए भेजना पड़ेगा। मैंने दोबारा दोपहर 3.46 बजे फोन पे किया। फिर उसने बोला ऑल इंडिया पर परमिट पेपर बनवाना होगा। जिसके लिए 25500 रुपए भेजना होगा।
इसके बाद उसने 7 फरवरी को 25 हजार 500 रुपए दूसरे फोन पे नंबर 7873062830 में भेजा। इसमें प्रशांत बेहरा नाम लिखा हुआ था। उसके बाद मेरे व्हाट्सएप में टेम्प्रेरी रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट भेजा गया है। फिर उसने अपना मोबाइल नंबर बंद कर दिया।
8 फरवरी को 9.28 बजे उसी मोबाइल नंबर से फोन आया, जो बोला कि गाड़ी आसाम से आपके पते के लिए निकल चुकी है। टोल टैक्स के लिए 14500 रुपए लगेगा, जिससे एहसास हुआ कि मेरे साथ मोबाइल नंबर 9827429230 धारक ठगी कर रहा है। मोबाइल धारक अपना आधार कार्ड भी मेरे मोबाइल नंबर पर भेजा है। आरोपी ने मेरे साथ कुल 43500 रुपए की ठगी की है।

ट्रेंडिंग वीडियो