scriptHiralal Yadav got identity as a genre in folk songs | लोकगीतों में बिरहा को विधा के तौर पर हीरालाल यादव ने दिलाई पहचान -  पोस्टमास्टर जनरल | Patrika News

लोकगीतों में बिरहा को विधा के तौर पर हीरालाल यादव ने दिलाई पहचान -  पोस्टमास्टर जनरल

पोस्टमास्टर जनरल कृष्ण कुमार यादव ने बिरहा सम्राट पद्मश्री हीरालाल यादव के तैल चित्र व 'नागरी' पत्रिका का किया लोकार्पण

लखनऊ

Published: January 25, 2021 07:18:49 pm

लखनऊ ,भारतीय संस्कृति में लोकचेतना का बहुत महत्त्व है और लोकगायक इसे सुरों में बाँधकर समाज के विविध पक्षों को सामने लाते हैं। लोकगीतों में बिरहा की अपनी एक समृद्ध परम्परा रही है। जिसे हीरालाल यादव ने नई उँचाइयाँ प्रदान कीं। हीरालाल की गायकी राष्ट्रीयता से ओतप्रोत होने के साथ-साथ सामाजिक बुराइयों से लड़ने की अपील भी करती थी। डिजिटल होते दौर में उनके बिरहा गायन को संरक्षित करके आने वाली पीढ़ियों के लिए भी जीवंत रखना जरुरी है। किसान फाउण्डेशन, उत्तर प्रदेश व नागरी प्रचारिणी सभा, वाराणसी के संयुक्त तत्वावधान में लोकगीत बिरहा के संवाहक पद्मश्री हीरालाल यादव की स्मृति में आयोजित कार्यक्रम में उक्त विचार वाराणसी परिक्षेत्र के पोस्टमास्टर जनरल एवं चर्चित साहित्यकार कृष्ण कुमार यादव ने व्यक्त किये। इस अवसर पर स्वर्गीय हीरालाल यादव के तैल चित्र एवं लोक साहित्य पर केंद्रित 'नागरी' पत्रिका का लोकार्पण भी किया गया।
लोकगीतों में बिरहा को विधा के तौर पर हीरालाल यादव ने दिलाई पहचान -  पोस्टमास्टर जनरल
लोकगीतों में बिरहा को विधा के तौर पर हीरालाल यादव ने दिलाई पहचान -  पोस्टमास्टर जनरल
पोस्टमास्टर जनरल कृष्ण कुमार यादव ने कहा कि हीरालाल यादव ने बिरहा विधा न सिर्फ विशेष विधा के तौर पर पहचान दिलाई, बल्कि राष्ट्रीय-अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर भी इसे लोकप्रिय बनाया। उन्हें इसके लिए संगीत नाटक अकादमी सम्मान, यश भारती, भिखारी ठाकुर सम्मान से लेकर पद्मश्री तक से नवाजा गया। ऐसे में बनारस के तमाम स्थापित साहित्यकारों के चित्रों के बीच नागरी प्रचारिणी सभा, वाराणसी में 'बिरहा सम्राट' के चित्र को शामिल किया जाना एक नई परम्परा को जन्म देगा।
कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए वरिष्ठ साहित्यकार हरिराम द्विवेदी (हरी भैया) ने कहा कि नागरी पत्रिका लोक विधा की कुंजी है, जिसमें लोक साहित्य एवं हीरालाल यादव का पूरा कृतित्व व व्यक्तित्व वर्णित है। साहित्य में ऐसी पत्रिकाओं की आवश्यकता है। बिरहा को राष्ट्रीय पटल पर स्थापित करने का हीरालाल को जाता है। विशिष्ट अतिथि डाॅ. जितेन्द्र नाथ मिश्र ने कहा कि हीरालाल बिरहा के रसिया थे जिनकी मधुर आवाज ने समाज को झंकृत किया। बिरहा मात्र मनोरंजन का साधन नहीं है बल्कि यह लोक रंजन की जीवनधार है। यह समाज में उत्साह, उमंग एवं सद्भाव पैदा करती है।
कविमंगल ने हीरालाल पर आधारित गीत से लोगों को भाव-विभोर कर दिया- उड़ गया पंछी कहाॅं न जाने करके पिजड़ा खाली, बिरहा की बगिया कर सूनी, हुआ अलविदा माली। बिरहा गायक रामदेव के सुपुत्र शारदा ने भी गीत सुनाया। नागरी प्रचारिणी सभा के सहायक मंत्री सभाजीत शुक्ल ने कहा कि हीरालाल यादव का नागरी प्रचारिणी सभा से गहरा नाता था। सभा के माध्यम से वह संसद में बिरहा गायन किये, वे सुरीली आवाज के जादूगर व ग्राम्यांचल के चितेरे रहे।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

कौन हैं जस्टिस सूर्यकांत, जिन्होंने नुपूर शर्मा को लगाई फटकार, कोर्ट में अपने ही खेत से हुई चोरी की सुना चुके हैं दास्ताननुपूर शर्मा को सुप्रीम कोर्ट की फटकार, कहा- आपके बयान के चलते हुई उदयपुर जैसी घटना, पूरे देश से टीवी पर मांगे माफीउदयपुर हत्याकांड मामले में हुआ आरोपियों से जुड़ा बड़ा खुलासाकेंद्रीय मंत्री आर के सिंह का बड़ा बयान, सिर काटने वाले आतंकियों के खिलाफ बनेगा UAPA की तरह सख्त कानून!उदयपुर घटना की जिम्मेदार, टीवी पर माफी, सस्ता प्रचार...10 बिंदुओं में जानें Nupur Sharma को Supreme Court ने क्या-क्या कहा?Maharashtra Politics: उद्धव ठाकरे बोले-अगर अमित शाह मुझे दिया वादा निभाते तो आज BJP का सीएम होता, शिंदे शिवसेना के CM नहींMumbai Rains: मुंबई में भारी बारिश के चलते जनजीवन पर असर, कई इलाकों में भरा पानी; IMD ने जारी किया ऑरेंज अलर्टहैदराबाद में आज से शुरू हो रही BJP की कार्यकारिणी बैठक, प्रधानमंत्री मोदी कल होगें शामिल, जानिए क्या है बैठक का मुख्य एजेंडा
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.