अवैध धर्मांतरण केस : यूपी एटीएस ने 6 आरोपियों पर चार्जशीट दाखिल की

- यूपी में अवैध धर्मांतरण रैकेट का खुलासा। यूपी एटीएस ने 60 दिन की जांच के बाद 10 आरोपियों को गिरफ्तार किया है।

By: Sanjay Kumar Srivastava

Published: 21 Aug 2021, 05:15 PM IST

लखनऊ. यूपी में अवैध धर्मांतरण रैकेट का खुलासा। यूपी एटीएस ने 60 दिन की जांच के बाद 10 आरोपियों को गिरफ्तार किया है। इनमें से छह आरोपियों के खिलाफ यूपी एटीएस ने चार्जशीट दाखिल कर दी है। अन्य 4 आरोपियों की जांच जारी है।

साक्ष्य बने सुबूत :- एडीजी (कानून-व्यवस्था) प्रशांत कुमार ने बताया कि, इन लोगों के खिलाफ प्राप्त साक्ष्यों से ये साबित हुआ कि ये लोग आर्थिक रूप से कमजोर लोगों, महिलाओं व दिव्यांगजनों को बहला-फुसलाकर धर्मांतरण कराते हैं। इन सभी लोगों के खिलाफ कोर्ट द्वारा अग्रिम कार्रवाई की जाएगी।

चार्जशीट दाखिल दाखिल :- यूपी एटीएस ने इस मामले में गिरफ्तार किए गए उमर गौतम, मुफ्ती काजी जहांगीर के साथ-साथ धर्मान्तरण कर चुके राहुल भोला उर्फ राहुल अहमद, मन्नू यादव उर्फ अब्दुल मन्नान के साथ इरफान शेख और फॉरेन फंडिंग कराने वाले सलाउद्दीन के खिलाफ चार्जशीट दाखिल की है। एटीएस ने आईपीसी की धारा 417, 120 बी, 153ए, 153बी, 295ए, 298 और अवैध धर्म परिवर्तन एक्ट में चार्जशीट दाखिल की है।

मौसम विभाग का यूपी के इन जिलों में 22-24 अगस्त तक मूसलाधार बारिश का अलर्ट

आपसी सांप्रदायिक सौहार्द बिगाड़ना मकसद :- एटीएस ने चार्जशीट में साफ कहाकि, विदेशी फंडिंग से देशव्यापी अवैध धर्मांतरण हो रहा है। जिसका उद्देश्य भारत की धार्मिक जनसंख्या संतुलन को पलटकर, आपसी सांप्रदायिक सौहार्द को बिगाड़कर लोक प्रशांति बाधित करने का काम किया जा रहा है।

हवाला से पैसा :- चार्जशीट में बताया गया कि, उमर गौतम, काज़ी जहांगीर ने इस्लामिक दावा सेंटर, गाजियाबाद (आईडीसी) और नोएडा डेफ सोसायटी को अवैध धर्म परिवर्तन का केंद्र बनाया गया। विशेष न्यायिक मजिस्ट्रेट कस्टम की कोर्ट में दाखिल चार्जशीट में कहा गया कि, अवैध धर्म परिवर्तन के लिए विदेशों से हवाला के माध्यम से उमर गौतम को पैसा भेजा जा रहा था।

Show More
Sanjay Kumar Srivastava
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned