केजीएमयू में दो और डॉक्टरों में कोरोना के लक्षण, एक और कोरोना पॉजिटिव, यूपी में 18 हुई संख्या

- केजीएमयू में अब पॉजिटिव मरीजों की संख्या तीन
- टीम के सभी लोगों को कोरेंटाइन वार्ड में रखा जाएगा

By: Neeraj Patel

Updated: 19 Mar 2020, 11:32 AM IST

लखनऊ. राजधानी लखनऊ के केजीएमयू में कोरोना वायरस से ग्रसित मरीजों के इलाज में जिन डॉक्टरों की लीम लगाई गई है। उसी टीम के एक रेजीडेंट डॉक्टर की रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद उनकी टीम के ही दो और डॉक्टरों में कोरोना वायरस के लक्षण दिखे हैं। इसके बाद मरीजों के इलाज के लिए पहली टीम को हटा दिया गया है। उसके स्थान पर नई टीम को जिम्मेदारी दी गई है। संक्रमण के लक्षण वाले दोनों चिकित्सकों को एकांतवास (आइसोलेशन वॉर्ड) में भर्ती किया गया है।

लंदन से आए मरीज में कोरोना की पुष्टि

लखनऊ में गोमती नगर के विशालखंड में एक और कोरोना पॉजिटिव मरीज मिला है। मरीज लंदन से वापस आया था जिसके बाद जब उसकी जांच की गई तो मरीज में कोरोना वायरस पाए जाने की पुष्टि की गई। मरीज को केजीएमयू अस्पताल में भर्ती करा दिया गया है। इसके साथ ही केजीएमयू में सभी डॉक्टरों और शिक्षकों का छुट्टियां रद्द कर दी गई है। सभी को 24 घंटे तैयार रहने के लिए कहा गया है। केजीएमयू में अब पॉजिटिव मरीजों की संख्या 4 हो गई है।

इसके पहले लखनऊ में आठ मार्च को कनाडा से आई महिला डॉक्टर पॉजिटिव पाई गई थी। इसके बाद उसके संपर्क में आया एक रिश्तेदार भी पॉजिटिव पाया गया था। दोनों को केजीएमयू के एकांतवास में भर्ती कराया गया है। इनके इलाज में जिस चिकित्सक की टीम लगी हुई थी। इस टीम के दो रेजीडेंट डॉक्टरों की तबीयत खराब महसूस हुई। उनमें कोराना वायरस के लक्षण मिले। इस पर टीम में मुख्य रूप से शामिल 14 लोगों की जांच कराई गई। इसमें एक चिकित्सक की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। अन्य सभी की रिपोर्ट निगेटिव पाई गई है, लेकिन एहतियात के तौर पर सभी को कोरेंटाइन वार्ड में रखा जाएगा।

मरीजों के इलाज के लिए मेडिसिन विभाग के डॉक्टर के नेतृत्व में दूसरी टीम बनाई गई है। इस टीम में दो सीनियर रेजीडेंट, तीन जूनियर रेजीडेंट सहित 12 लोगों को शामिल किया गया है। जिस चिकित्सक की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है, उसका इलाज किया जा रहा है।

ये भी पढ़ें - विटामिन डी की अधिक मात्रा शरीर में बढ़ाती है कैल्शियम का स्तर, गुर्दे हो सकते हैं प्रभावित

पांच दिन तक होगी पूरी टीम की निगरानी

पॉजिटिव मरीजों के इलाज से हटाई गई टीम की पांच दिन बाद दोबारा जांच कराई जाएगी। पांच से सात दिन के अंदर यह वायरस सक्रिय हो सकता है। ऐसी स्थिति में रिपोर्ट निगेटिव आने के बाद दूसरे चरण में भी पांच दिन की निगरानी होगी। यदि किसी की रिपोर्ट पॉजिटिव आती है तो उसे आइसोलेशन वार्ड में रखा जाएगा। बता दें कि यूपी में कोरोना वायरस के दो नए पॉजिटिव मरीज सामने आए हैं। इनमें से एक नोएडा और एक लखनऊ का है। इन दो नए मरीजों के सामने आने से प्रदेश में मरीजों की संख्या बढ़कर 17 हो गई है। इनमें आगरा के आठ, गाजियाबाद के दो, नोएडा के चार, लखनऊ के तीन मरीज हैं।

Corona virus Corona Virus Precautions
Show More
Neeraj Patel
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned