जब कुलदीप सेंगर के भाई ने यूपी पुलिस के DSP को मारी गोली, पेट में जाकर धंसी, यूपी की राजनीति में मचा था हड़कंप

जब कुलदीप सेंगर के भाई ने यूपी पुलिस के DSP को मारी गोली, पेट में जाकर धंसी, यूपी की राजनीति में मचा था हड़कंप

Nitin Srivastva | Publish: Aug, 02 2019 08:32:31 AM (IST) Lucknow, Lucknow, Uttar Pradesh, India

- उन्नाव गैंगरेप मामले (Unnao Gangrape Case) में आरोपी विधायक की बढ़ी मुश्किलें

- उन्नाव में आरोपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर ने फैलाया था अपनी दहशत का साम्राज्य

- 2002 से लगातार विधायक बन रहा है MLA Kuldeep Singh Sengar

- सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) की सख्ती के बाद Unnao Gangrape Case में आया बड़ा मोड़

- गैंगरेप पीड़ित परिवार को मिला 25 लाख के मुआवजे का चेक

- उन्नाव गैंगरेप पीड़ित के परिवार को मिली सीआरपीएफ की सुरक्षा

- हादसे में घायल Unnao Gangrape Victim की हालत में भी सुधार

 

लखनऊ. उन्नाव गैंगरेप मामले में पीड़ित (Unnao Gangrape Victim) और उसका वकील एक्सीडेंट के बाद से ही जिंदगी और मौत की जंग लड़ रहे हैं। फिलहाल अच्छी खबर यह है कि पीड़ित की हालत में लगातार सुधार हो रहा है और उसे वेंटिलटर से हटाने का ट्रायल किया जा रहा है। इससे पहले गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने बेहद सख्त रुख अपनाते हुए इस मामले से जुड़े सभी केस दिल्ली (Delhi) ट्रांसफर कर दिये। साथ ही इस मामले के ट्रायल को 45 दिनों में पूरा करने के साथ ही एक्सीडेंट की जांच को 7 दिन में पूरा करने का आदेश सुनाया। वहीं इस बीच सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर गुरुवार देर शाम पीड़ित परिवार को सीआरपीएफ सुरक्षा और 25 लाख के मुआवजे का चेक भी दिया गया। यह तो था इस केस से जुड़ा अब तक का अपडेट, अब आपको बतातें हैं उन्नाव गैंगरेप मामले के मुख्य आरोपी कुलदीप सिंह सेंगर (MLA Kuldeep Singh Sengar) के उस साम्राज्य की, जहां उसके डर का बोलबाला था।


माखी में बनाया दहशत सा साम्राज्य

उन्नाव गैंगरेप मामसे में मुख्य आरोपी और सीतापुर में बंद विधायक कुलदीप सिंह सेंगर (MLA Kuldeep Singh Sengar) मूल रूप से फतेहपुर जिले (Fatehpur District) का रहने वाला है। उन्नाव (Unnao) के माखी थाना (Makhi Thana) क्षेत्र के सराय थोक पर उनका ननिहाल है और वह शुरू से वहीं आकर बस गया। कुलदीप सिंह सेंगर की उन्नाव के माखी गांव में तूती बोलती है। वह अबतक उन्नाव की अलग-अलग विधानसभा सीटों से चार बार से लगातार विधायक बन चुका है। चार बाल लगातार विधायक बनने की बात से ही उसकी अपने क्षेत्र में राजनीतिक हनक का साफ अंदाजा लगाया जा सकता है।

 

यह भी पढ़ें: ASP के सामने छलका एक छात्रा का दर्द, बोली- उन्नाव पीड़ित की तरह ही अगर किसी ने हमारा भी करा दिया एक्सीडेंट, तो...?


2002 में पहली बार विधायक बना कुलदीप सिंग सेंगर

बीजेपी (BJP) से निष्कासित विधायक कुलदीप सेंगर (Kuldeep Singh Sengar) ने वौसे तो अपने राजनीति जीवन की शुरुआत यूथ कांग्रेस (Youth Congress) से की था, लेकिन 2002 में पहली बार वह बीएसपी (BSP) के टिकट पर भगवंतनगर विधानसभा सीट (Bhagwant Nagar Vidhan Sabha Seat) से विधायक बना। इसके बाद सेंगर 2007 और 2012 में समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) के टिकट पर विधायक चुना गया। इसके बाद 2017 में कुलदीप सिंह सेंगर ने बीजेपी (BJP) का दामन थामा और उसी के टिकट पर बांगरमऊ विधानसभा सीट से विधानसभा पहुंचा।


सियासत की हवा का रुख नाप लेता है सेंगर

कुलदीप सिंह सेंगर के बारे लोग कहते हैं कि वह यूपी की सियासत की हवा का रुख पहले ही भांप जाता था और उसी के मुताबिक अपनी पार्टी बदलता था। तभी तो 1996 के चुनावों में 10 हजार वोटों से हारी हुई उन्नाव सदर सीट से मायावती (Mayawati) ने कुलदीप को उम्मीदवार एक बार फिर बहुजन समाज पार्टी का उम्मीदवार (Bahujan Samaj Party Candidate) बनाया। इस चुनाव में कुलदीप ने कांग्रेस (Congress) के प्रत्याशी शिवपाल को करीब 4000 वोटों से शिकस्त दी। इसके बाद से ही कुलदीप की छवि अपने इलाके में बाहुबली की बननी शुरू हो गई। फिर 2007 और 2012 में वह सपा के टिकट पर चुनाव जीता। लेकिन 2017 के विधानसभा चुनाव में सेंगर ने बीजेपी के पक्ष में चल रही हवा का रुख आंक लिया और भारतीय जनता पार्टी (Bhartiya Janta Party) में शामिल होकर एक बार फिर विधायक बन गया।

 

यह भी पढ़ें: उन्नाव गैंगरेप केस में विधायक सेंगर के खिलाफ बहुत बड़ी कार्रवाई, SC ने सुनाया सरकार को हिला देने वाला फैसला


राजा भैया का करीबी हैं कुलदीप सिंह सेंगर

राजनीतिक गलियारों में हमेशा यह चर्चा रही कि कुलदीप सिंह सेंगर निर्दलीय विधायक रघुराज प्रताप सिंह (Raghuraj Pratap Singh) उर्फ राजा भैया (Raja Bhaiya) का बेहद करीबी है। राजनीति में इसे लोग दलबदलू नेता के नाम से भी जानते हैं। कुलदीप की पत्नी संगीता सेंगर (Sangita Sengar) से लेकर उसके भाईयों तक, सभी किसी न किसी पद पर जमे रहे हैं। कुलदीप ने अपनी पत्नी संगीता सेंगर को जिला पंचायत अध्यक्ष बनवाया, तो भाई मनोज सेंगर (Manoj Sengar) को ब्लॉक प्रमुख (Block Pramukh)। इसके साथ ही खुद लोकसभा चुनाव के लिए जमीन तैयार कपने में जुटा था। कुलदीप के तीसरे भाई अतुल सिंह सेंगर (Atul Singh Sengar) राजनीतिक साम्राज्य का कामकाज संभालता है।


पूरा परिवार अवैध कामों नें लगा

कुलदीप सिंग सेंगर (MLA Kuldeep Singh Sengar) पर अवैध खनन और अवैध तरीके से टोल लगाकर वसूली करने का भी आरोप लगा है। उन्नाव में एक न्यूज चैनल के रिपोर्टर ने आरोपी विधायक कुलदीप सिंह सेगर के खिलाफ अवैध खनन की खबर दिखा दी। जिससे नाराज होकर सेंगर ने रिपोर्टर के खिलाफ दो मुकदमे दर्ज कराये। इतना ही नहीं यह भी कहा जाता है कि उन्नाव का कोई भी ठेका बिना कुलदीप सेंगर (Kuldeep Sengar) की मर्जी के किसी को नहीं मिलता। इसके साथ ही साइकिल के ठेके से लेकर अवैध होटल चलाने और ऑटो स्टैंड से लेकर गाड़ियों से अवैध वसूली तक के कारोबार में विधायक कुलदीप सिंग सेंगर का परिवार शामिल है। सारे ठेके कुलदीप सेंगर का भाई अतुल सेंगर उर्फ जगदीप चलाता है। जबकि होटल का कारोबार उनका भाई मनोज सेंगर देखता है।


सेंगर के भाई ने डीएसपी (DSP) को मारी थी गोली

कुलदीप सिंह सेंगर का हमेशा विवादों से गहरा नाता रहा है। इसी क्रम में आज से करीब चौदह साल पहले उन्नाव (Unnao) में किसी बात को लेकर विधायक पक्ष से एक पत्रकार की कहा-सुनी हो गई थी। इसकी जानकारी जब पुलिस को मिली तो इन लोगों को रोकने के लिए यूपी पुलिस (UP Police) मौके पर पहुंची। तभी अचानक विधायक के भाई अतुल सेंगर ने पुलिस पर फायरिंग कर दी। इस फायरिंग में यूपी पुलिस के डिप्टी एसपी (Deputy SP) को पेट में गोली लग गई थी। जिसके बाद भी यूपी की राजनीति में कुलदीप सिंह सेंगर (Kuldeep Singh Sengar) को लेकर काफी बविल चला था।

 

यह भी पढ़ें: विधायक कुलदीप सिंह सेंगर की उल्टी गिनती शुरू, सरकार के एक इशारे पर हुई अब तक की सबसे बड़ी कार्रवाई

 

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned