UP Jila Panchayat Adhyaksh Chunav : मुलायम, आजम और सोनिया के गढ़ ध्वस्त, निर्दलीयों के भरोसे भाजपा ने बनायी जिले में सरकार

UP Jila Panchayat Adhyaksh Chunav Update- कांग्रेस का सूपड़ा साफ, रालोद को मिला भाजपा में बगावत का लाभ, हार की डर से एन वक्त पर चुनाव से पीछे हट गयी थी बसपा

By: Hariom Dwivedi

Updated: 03 Jul 2021, 06:47 PM IST

पत्रिका न्यूज नेटवर्क
लखनऊ. UP Jila Panchayat Adhyaksh Chunav Update- उप्र सत्तारूढ़ भाजपा ने जिला पंचायत अध्यक्ष के चुनाव में रिकॉर्ड जीत हासिल की है। भाजपा ने 75 में से 67 सीटों पर जीत का परचम लहराते हुए सपा के 63 सीटों के रिकॉर्ड को भी तोड़ दिया है। भाजपा के 21 प्रत्याशी पहले ही निर्विरोध जीते थे। शनिवार को 53 जिलों में हुए मतदान में भारतीय जनता पार्टी के प्रत्याशियों ने शानदार विजय हासिल की है। भाजपा की सहयोगी अपना दल (एस) को भी दो में से एक सीट पर जीत मिली है। समाजवादी पार्टी को उनके गढ़ मैनपुरी, रामपुर व बदायूं के साथ ही कांग्रेस के किले रायबरेली में भी भाजपा के प्रत्याशियों ने करारी शिकस्त दी है। बागपत में राष्ट्रीय लोकदल की प्रत्याशी ने भाजपा प्रत्याशी को हरा दिया है। पूरे प्रदेश से कांग्रेस का सूपड़ा साफ हो गया है। उसे एक भी सीट नहीं मिली है। हार की संभावनाओं को देखते हुए बहुजन समाज पार्टी ने एन वक्त पर चुनाव न लडऩे का फैसला किया था। पिछली बार यूपी के 74 जिलों के जिला पंचायत अध्यक्षों के चुनाव में 63 सीटों पर समाजवादी पार्टी का कब्जा था। तब 37 जिलों में सपा ने अपने निर्विरोध जिलाध्यक्ष बनाए थे। जबकि एक सीट पर बहुजन समाज पार्टी निर्विरोध जीती थी।

रुहेलखंड और पूर्वांचल में भी भाजपा का कब्जा
यूपी की सत्ता का सेमीफाइनल माने जा रहे जिला पंचायत अध्यक्ष पद के चुनाव में भाजपा को निर्दलियों का काफी समर्थन मिला। रुहेलखंड और पूर्वांचल में भी भाजपा ने कब्जा जमाया है। आजमगढ़ जहां से सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव सांसद हैं वहां सपा की एक तरफा जीत हुई है। समाजवादी पार्टी के संरक्षक मुलायम सिंह यादव के संसदीय क्षेत्र मैनपुरी में भाजपा ने जिला पंचायत अध्यक्ष का चुनाव जीता। लखनऊ में भी भाजपा की आरती आरती रावत ने जीत दर्ज की है। कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी के संसदीय क्षेत्र रायबरेली में भाजपा प्रत्याशी रंजना चौधरी ने जीत दर्ज की है। इन्होंने कांग्रेस प्रत्याशी को हराया है। रामपुर में आजम खान का किला भी ध्वस्त हो गया है। यहां भाजपा जीती है। हरदोई में नरेश अग्रवाल का जादू चला है। वे भाजपा प्रत्याशी को जिताने में कामयाब रहे हैं। जौनपुर में बाहुबली पूर्व सासंद धनंजय सिंह की पत्नी निर्दलीय चुनाव जीत गयी हैं। इसी तरह प्रतापगढ़ में रघुराज प्रताप सिंह उर्फ राजाभैया की भी प्रत्याशी जीत गयी हैं। अमेठी में केंद्रीय मंत्री स्मृति इरानी अपने चेहेते भाजपा के राजेश अग्रहरि को जिताने में कामयाब रही हैं।

यह भी पढ़ें : यूपी में महिलाओं ने लिखी नई इबारत, दिग्गजों को पछाड़ा, अब निर्विरोध निर्वाचन तय

jila_panchayat_chunav4_2.jpg

बच गया इटावा का गढ़
प्रदेश के 75 जिलों में जिन 22 जिलों में निर्विरोध अध्यक्ष चुने गए, उनमें 21 भाजपा के हैं। इटावा में सपा ने अपना गढ़ बचाने में सफलता प्राप्त की है।

यहां नहीं खिल सका कमल
संतकबीर नगर, बलिया, आजमगढ़, एटा और इटावा में सपा ने जीत दर्ज की है। प्रतापगढ़ में राजाभैया की पार्टी जनसत्ता दल ने पहली बार खाता खोला है। बागपत में रालोद का प्रत्याशी जीता है। जबकि, भाजपा की सहयोगी ने अपना दल (एस) ने सोनभद्र जिले में जिला पंचायत बनवाने में कामयाबी हासिल की है।

दलीय स्थिति
भाजपा-66
सपा-05
अपना दल 01
रालोद-01
जनसत्ता-01
निर्दलीय-01
कुल सीटें-75

यह भी पढ़ें : यूपी विधानसभा चुनाव से पहले जिले की सरकार बनाने पर बीजेपी का फोकस

list.jpglist-1.jpg
BJP
Show More
Hariom Dwivedi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned