Career in Stenography: स्टेनोग्राफी में लगातार प्रेक्टिस से बढ़ेगी स्पीड, बेसिक को समझें

Career in Stenography: स्टेनोग्राफी में लगातार प्रेक्टिस से बढ़ेगी स्पीड, बेसिक को समझें
Career in Stenography

Sunil Sharma | Updated: 04 Sep 2019, 01:04:48 PM (IST) मैनेजमेंट मंत्र

Career in Stenography: हर वर्ष एसएससी, यूपीएससी या अन्य कई आयोग कई विभागों के लिए स्टेनोग्राफर या कह सकते हैं आशुलिपिक के लिए नियुक्तियां निकलते हैं।

Career in Stenography: हर वर्ष SSC, UPSC या अन्य कई आयोग कई विभागों के लिए स्टेनोग्राफर या कह सकते हैं आशुलिपिक के लिए नियुक्तियां निकलते हैं। खास बात है कि इस पद के लिए अभ्यर्थी को ज्यादा प्रेक्टिस करनी होती है। स्टूडेंट्स को सबसे ज्यादा परेशानी अधिक प्रेक्टिस के बाद भी स्पीड न बढऩे की आती है। जानें स्पीड बढ़ाने और स्किल को बेहतरीन करने के कुछ मददगार टिप्स-

ये भी पढ़ेः एग्रीकल्चर और बायोलॉजिकल फील्ड में प्लांट पैथोलॉजी है अच्छा ऑप्शन, फॉरेन जाने के भी हैं चांस

ये भी पढ़ेः रोज एक डॉलर के दान से गांव का सरकारी स्कूल बना हाईटेक, निजी स्कूलों को दी मात

नियमों को अपनाएं

  • ध्यान रखें कि स्टेनोग्राफी में आप बात को जितना स्पष्ट और सरल तरीके से कहेंगे या लिखेंगे उतना ज्यादा सही रहेगा। जरूरत से ज्यादा शॉर्टकट न ही बनाएं और न ही प्रयोग में लें। इससे ध्यान भटक सकता है जिससे लिखने में दिक्कत आती है।
  • आउटलाइन पूरी बनाएं। इसे बीच में न ही छोड़ें और न ही बार-बार जोड़ें। जहां जरूरत हो वहीं जॉइनिंग का इस्तेमाल करें।
  • वॉवल्स का प्रयोग करने से बचे नहीं। खासतौर पर जो भी जरूरी वॉवल्स हैं उन्हें प्रयोग में लेने से पीछे न हटें।
  • प्रेक्टिस की शुरुआत से ही स्पीड पर ज्यादा ध्यान न दें। कोशिश करें कि शुरुआत में केवल आधारभूत ज्ञान को लें, आउटलाइन बनाने पर ध्यान दें। बार-बार डिक्टेशन का हिस्सा बनें, इससे स्पीड में सुधार होगा।
  • कॉन्ट्रेक्शन, फ्रेजेज और जॉइनिंग का प्रतिदिन अभ्यास करें। अभ्यास से ही लेखनी में सुधार होगा।

ये भी पढ़ें : Best Courses After 12th : बेहतरीन करियर के लिए बारहवीं के बाद करें ये कोर्सेज

ये भी पढ़ें : दसवीं के बाद करें इन ट्रेड में करें आईटीआई, गारंटेड मिलेगी नौकरी

रेफरेंस रजिस्टर की मदद लें
बेसिक सीखने के बाद जब भी आप चाहें हिन्दी स्टेनोग्राफी की हो या अंग्रेजी दोनों की प्रेक्टिस करते हैं तो कुछ शब्द ऐसे सामने आते हैं जो कंफ्यूजन करते हैं। ऐसे में आप एक रेफरेंस रजिस्टर बनाएं और उसकी मदद लें। इस रजिस्टर को पांच भागों में बांटें। कॉमन एरर, डिफिकल्ट वड्र्स, फॉरेन वड्र्स, कंफ्यूजिंग वड्र्स और कंफ्यूजिंग आउटलाइन्स। इन भागों में उससे संबंधित शब्द या पंक्ति को नोट करें जिनमें आप बार-बार गलती करते हों। समय-समय पर इनका अभ्यास करें।

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned