मर्चेंट नेवी में बनाएं कॅरियर, रोमांच के साथ-साथ सैलेरी भी होगी शानदार

जिन्हें देश-विदेश घूमने के साथ ही समुद्री लहरों के बीच रोमांच करने का शौक है, वे इसमें अपना कॅरियर बना सकते हैं।

मर्चेंट नेवी का नाम सुनते ही अक्सर सभी के जेहन में आता है कि यह इंडियन नेवी का हिस्सा है। लेकिन ऐसा बिल्कुल नहीं है, मर्चेंट नेवी एक कॉमर्शियल फील्ड है। इसमें समुद्री जहाजों के जरिए एक जगह से दूसरी जगह सामान और यात्रियों को पहुंचाया जाता है। इस फील्ड में सरकारी और प्राइवेट दोनों तरह की कंपनियां काम करती हैं। ऐसे लोग जिन्हें देश-विदेश घूमने के साथ ही समुद्री लहरों के बीच रोमांच करने का शौक है वे इसमें अपना कॅरियर बना सकते हैं।

योग्यता
इस फील्ड में कॅरियर बनाने की बात करें तो 10वीं पास से लेकर 12वीं, बीटेक डिग्री वालों के अलावा डिप्लोमा धारी के लिए भी कई तरह के कोर्स उपलब्ध हैं। जैसे नॉटिकल साइंस, मरीन इंजीनियरिंग, ग्रेजुएट मेडिकल इंजीनियर आदि। इसमें कॅरियर बनाने के लिए अभ्यर्थी की आयु सीमा 16 से 25 वर्ष के बीच होनी चाहिए।

यहां काम करने का अवसर
ज्यादातर नौकरियों के अवसर जहाज के तीन विभागों -नॉटिकल (डेक), इंजीनियरिंग और कैटरिंग के लिए निकलते हैं। इसके अलावा 10वीं पास करने के बाद अभ्यर्थी प्री-सी ट्रेनिंग, रेडियो ऑफिसर, इलेक्ट्रिकल ऑफिसर, नॉटिकल सर्वेयर, पायलट ऑफ शिप, कप्तान और उप कप्तान आदि के रूप में भी कार्य कर सकते हैं।

प्रमुख पाठ्यक्रम
स्टूडेंट मरीन इंजीनियरिंग व नेवल आर्किटेक्चर एंड शिप बिल्डिंग में बीटेक, नॉटिकल साइंस, मैरीटाइम साइंस व शिप बिल्डिंग एंड रिपेयर्स में बीएससी, नॉटिकल साइंस में डिप्लोमा, मरीन इंजीनियरिंग में डिप्लोमा/ एमटेक और इन सभी विषयों में पीजी डिप्लोमा कर सकते हैं।

यहां से ले सकते हैं शिक्षा

  • इंडियन मैरिटाइम यूनिवर्सिटी, चेन्नई
  • मरीन इंजीनियरिंग एंड रिसर्च इंस्टीट्यूट, कोलकाता
  • लाल बहादुर शास्त्री कॉलेज ऑफ एडवांस मरीन टाइम स्टडीज एंड रिसर्च, मुंबई
Show More
सुनील शर्मा Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned