SUCCESS MANTRA : निश्चित सफलता के लिए निकालें मन के भीतर बैठे 6 डर

नई उम्मीदों और नई संभावनाओं को समेटे साल 2021 आ चुका है। साल 2020 से मिले सबक को हम-आप स्वीकार कर नए साल में स्वस्थ, सुखद जीवन के लिए नई इबारतें लिख सकें, इसके लिए कुछ चीजों को समझना जरूरी है।

By: Ramesh Singh

Published: 03 Jan 2021, 08:49 PM IST

नई दिल्ली. 2020 में जीवन के भीतर कई डर ने घर किया, लेकिन अब वक्त 20 से 21 होने का है तो जरूरी है कि हम इनको अपने मन से बाहर निकालें और नए रास्तों पर नए साल में नया कदम आगे बढ़ाएं। सफलता जरूर साथ आएगी।
यदि आप 2021 को वास्तव में जीवन को हर मायने में 21 बनाना चाहते हैं तो इन 6 सबसे बड़ी आशंकाओं का समाधान जरूरी है।
हाल ही रिसर्च में यह पाया गया कि सफलता का सबसे बड़ा अवरोधक समय, धन या संसाधन की कमी नहीं है। लोगों के मन में बैठा छह प्रकार का डर है। जानते हैं इसके बारे में -
1. परिवर्तन व अनिश्चितता का डर
करियर या किसी रिश्ते में हैं तो बदलाव से न डरें। पूर्व में मिली असफलताओं पर गौर करें, समाधान वहीं से निकल आएगा। पाएंगे कि समय पर खुद को न बदलने से रिश्तों व कॅरियर में बहुत पीछे छूट जाते हैं। समय के साथ खुद को अपडेट करते रहें। ऐसा न करने से अनिश्चतता बढ़ती है।

2. अलगाव का डर
महामारी के दौरान परिवार में, नौकरीपेशा लोग कंपनी से जुड़ाव के कारण नौकरी व रिश्तों के खोने का डर सताने लगा। इसके लिए सहयोगियों, दोस्तों और परिवार के सदस्यों के साथ विश्वास और मजबूत रिश्ते बनाए रखें। कॅरियर व रिश्तों की मजबूती के लिए छोटे-छोटे कदम उठाएं। अपनी सहभागिता बढ़ाएं।

3. टकराव व विरोध का डर
यह डर हमें जरूरी बात कहने नहीं देता है, जबकि उस समय कहनी जरूरी होती है। ऐसा न करने से अक्सर व्यक्तिगत व व्यावसायिक रिश्ते खराब होने लगते हैं। विपरीत परिस्थितियां होने पर कभी-कभी बच सकते हैं। समस्याओं से उलझने की बजाय उससे निपटने के सर्वोत्तम तरीकों के बारे में सोचें।

4. अस्वीकृति का डर
अपने लक्ष्य को हासिल करने में सफल नहीं हो रहे हैं तो आत्मविश्वास बनाए रखें। नित अपनी कमियों का मूल्यांकन करें और दोबारा प्रयास करें। यदि कहीं आपको अस्वीकार किया गया है तो वह उस समय के लिए है न कि हमेशा के लिए। संकोच न करें। दोबार प्रयास करें। समय के साथ जरूरतें बदलती रहती हैं।

5. नियंत्रण खोने का डर
रिसर्च में पाया गया है कि हर चीज पर नियंत्रण रखने की चाह कई बार बड़ी मुश्किलें खड़ी कर देती है। हर चीज पर सवाल उठाने के बजाय यह समझना जरूरी है कि वह कितनी जरूरी है। कुछ चीजें आपके नियंत्रण से परे हैं। उन चीजों पर ध्यान केंद्रित करें जिन्हें आप नियंत्रित व प्रबंधित करने की शक्ति रखते हैं।

6. असफलता का डर
बड़े लक्ष्य हासिल करने में समय लगता है। सफलता से पहले असफलताओं का कड़वा अनुभव भी हो सकता है। बार-बार प्रयास करें। अपनी रणनीति में बदलाव करें। एक बार की गई गलती दोबारा न करें। सफलता ज्यादा आसान हो जाएगी।

Ramesh Singh
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned