प्रदूषण ने दशहरे पर तोड़ा पिछले सात साल का रिकाॅर्ड

Highlights

- 374 दर्ज किया गया मेरठ महानगर का एक्यूआई
- पिछले सात साल में दशहरे पर सर्वाधिक रहा प्रदूषण
- लॉकडाउन के बाद अप्रत्याशित तरीके से बढ़ रहा प्रदूषण

By: lokesh verma

Published: 26 Oct 2020, 04:54 PM IST

मेरठ. लॉकडाउन के दौरान जिले की आबोहवा ने यूरोप और अमेरिका जैसे देशों को भी पीछे छोड़ दिया था, लेकिन अब हालात फिर से बद से बदतर होते जा रहे हैं। पिछले सात सालों में इस बार दशहरे पर प्रदूषण ने रिकार्ड तोड़ दिया। पिछले सात सालों में प्रदूषण का स्तर इतना नहीं रहा जितना कि इस बार यानी 2020 में दिखाई दिया। दशहरे के दिन महानगर का एक्यूआई 374 रिकाॅर्ड किया गया, जो कि सर्वाधिक और घातक श्रेणी में आता है। पिछले सात सालों में दहशरे पर हुए प्रदूषण पर नजर डाले तो 2016 में 11 अक्टूबर को दशहरे के दिन महानगर का एक्यूआई यानी एयर क्वालिटी इंडैक्स 341 तक गया था, लेकिन इस बार यह 374 तक पहुंच गया।

यह भी पढ़ें- 21वीं सदी को मुंह चिढ़ातीं अंधविश्वास की ये घटनाएं

लोगों को हो रही आंखों में जलन

दशहरा पर प्रदूषण के रावण ने मेरठवासियों के स्वास्थ्य को भी बुरी तरीके से प्रभावित किया। मेरठ में रविवार अक्टूबर का सर्वाधिक प्रदूषित दिन रहा। रात होते ही आंखों में जलन और सांस लेने में परेशानी होने लगी। दोपहर बाद से हवा की गुणवत्ता में आई गिरावट से हालात बिगड़ गए। आने वाले दिनों में प्रदूषण से स्थिति और बिगड़ने की आशंका है। अगले कुछ दिनों में मेरठ की हवा की गुणवत्ता और गिरेगी और इसके अत्यधिक खराब श्रेणी में पहुंचने की आशंका व्यक्त की गई है।

24 घंटे में बढ़ा प्रदूषण

बता दें कि शनिवार को मेरठ का एयर क्वालिटी इंडेक्स यानी एक्यूआई 290 था, जो खराब स्तर पर था। रविवार को एक्यूआई 374 के स्तर पर पहुंच गया। यानी 24 घंटे में प्रदूषण सूचकांक में 73 अंकों की बढ़ोतरी हुई। प्रदूषण का स्तर खराब से अत्यधिक खराब स्तर पर पहुंच गया। इसके लगातार संपर्क में रहने से स्वास्थ्य संबंधी परेशानी हो सकती है।

पिछले सात वर्षों में दशहरे पर रहा प्रदूषण

13 अक्टूबर 2013 314
3 अक्टूबर 2014 325
22 अक्टूबर 2015 335
11 अक्टूबर 2016 341
30 सितंबर 2017 329
19 अक्टूबर 2018 339
8 अक्टूबर 2019 340
25 अक्टूबर 2020 374

यह भी पढ़ें- प्रेम प्रसंग में हिस्ट्रीशीटर को सुपारी देकर कराई पति की हत्या, 200 किमी दूर जमीन में गढ़ा मिला शव

Show More
lokesh verma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned