गांधी जयंती पर आंदोलन के मूड में कांग्रेस, कृषि बिल के विरोध में बड़े प्रदर्शन की तैयारी

  • गांधी जयंती ( Gandhi Jayanti ) पर कृषि बिल को लेकर कांग्रेस पार्टी का प्रदर्शन
  • देशभर में बड़े आंदोलन की तैयारी, नए बिल के खिलाफ लगातार जारी है प्रदर्शन

नई दिल्ली। अगामी दो अक्टूबर को देश में गांधी जयंती ( Gandhi Jayanti ) मनाई जाएगी। लेकिन, इस बार गांधी जयंती पर कांग्रेस पार्टी बड़े आंदोलन की तैयारी में है। दरअसल, कृषि बिल ( Krishi Bill 2020 ) को लेकर देश में लगातार विरोध प्रदर्शन जारी है। लिहाजा, कांग्रेस पार्टी ने इस बार गांधी जयंती पर सरकार के खिलाफ विरोध प्रदर्शन करने का निर्णय लिया है। कांग्रेस पार्टी का कहना है कि मोदी सरकार ने जो कृषि बिल पास किया है, उससे किसानों को काफी नुकसान हुआ है। लिहाजा, केन्द्र सरकार के इस फैसले को लेकर गांधी जयंती पर कांग्रेस पार्टी विरोध प्रदर्शन करेगी।

गांधी जयंती पर आंदोलन की तैयारी

दरअसल, कृषि बिल को लेकर पंजाब और हरियाणा के किसान लगातार विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। मंगलवार को कांग्रेस नेता राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने प्रदर्शनाकारी किसानों से मुलाकात की। किसानों से बातचीत के दौरान कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा कि कृषि कानून अंग्रेजों का कानून है। उन्होंने कहा कि अंग्रेजों के खिलाफ महात्मा गांधी ने कई आंदोलन किए। राहुल गांधी ने कहा कि अाज अगर महात्मा गांधी जिंदा होते तो मोदी सरकार के इस कानून का जरूर विरोध करते। कांग्रेस नेता ने कहा कि कृषि किसान, जीएसटी, नोटबंदी में कोई अंतर नहीं है। राहुल ने कहा कि मोदी सरकार ने पहले पैर में कुल्हाडी मारी और अब दिल पर चोट किया है। राहुल गांधी ने केन्द्र सरकार पर तंज कसते हुए कहा कि उन्हें यह बात समझ नहीं आएगी, क्योंकि ये लोग आंदोलन के समय अंग्रेज के साथ खड़े थे।

कृषि बिल को लेकर लगातार जारी है प्रदर्शन

इधर, कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी ने कांग्रेस शासित राज्यों से अपील की है कि वे केन्द्र के किसान विरोधी कानून को नकारने वाले कानून अपने यहां से पारित कराएं। इतना ही नहीं गांधी जयंती के मौके पर कांग्रेस पार्टी देश के अलग-अलग हिस्सों में प्रदर्शन करने की तैयारी में है। इसके लिए राज्य और जिला स्तर पर नेताओं और कार्यकर्ताओं को तैयारी करने के लिए कहा गया है। वहीं, कुछ जगहों पर कांग्रेस नेताओं ने गांधी जयंती पर कृषि बिल के विरोध में प्रदर्शन करने का भी ऐलान कर दिया है। खासकर, पंजाब, हरियाणा, मध्य प्रदेश में बड़े आंदोलन की तैयारी हो रही है। पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा कि नए कृषि कानूनों के खिलाफ उनकी सरकार सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाएगी। अब देखना ये है कि गांधी जयंती पर कांग्रेस पार्टी कृषि कानून के खिलाफ किस तरह का प्रदर्शन करती है।

Kaushlendra Pathak
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned