दुश्मन को पलभर में तहस-नहस कर देगा होवित्जर K9 वज्र टैंक, जानिए इसकी शानदार खूबियां

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जिस K9 वज्र होवित्जर टैंक की सवारी कर भारतीय थल सेना को समर्पित किया है, उसकी खूबियां जानकर पड़ोसी मुल्कों में खलबली है।

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सूरत के हजीरा में लार्सन एंड टूब्रो (एल एंड टी) की होवित्जर तोप निर्माण इकाई का उद्घाटन किया। इसके बाद पीएम ने खुद के9 वज्र होवित्जर टैंक की सवारी की और जायजा लिया। मेक इन इंडिया के तहत बने इस टैंक से भारतीय थल सेना की ताकत कई गुना बढ़ जाएगी। अब हम आपको बताते हैं कि आखिर इस टैंक की खूबियां क्या हैं, जो इसे अन्य टैंकों से अगल बनाता है।

 K-9 Vajra Self Propelled Howitzer

# के9 वज्र होवित्जर टैंक चारों दिशाओं में घूमकर दुश्मन पर हमला करने में सक्षम है। इससे पहले भारतीय सेना केसाथ एक जगह पर स्थिर वार करने वाले टैंक थे।

# के9 वज्र का इस्तेमाल मैदानी और रेगिस्तानी इलाकों में किया जाएगा।

# भारत इस श्रेणी की तोपों को पाकिस्तान से सटी अपनी पश्चिमी सीमा पर तैनात करेगा।

# भारत ने इसके लिए साउथ कोरिया के की हथियार निर्माता कंपनी ‘हानवा टेकविन’ से समझौता किया है। भारत में लार्सन ऐंड टर्बो इसका साझेदार है।

# 2017 में एलएंडटी और हानवा टेकविन की साझेदारी में के9 वज्र होवित्जर टैंक का निर्माण शुरू हुआ था।

# इसके निर्माण के लिए तकरीबन 4,300 करोड़ रुपए की डील साइन हुई है।

# भारतीय सेना के लिए के9 वज्र-टी 155 मिलिमीटर ‘ट्रैक्ड सेल्फ प्रोपेल्ड' तोप प्रणालियों की 100 इकाइयों की आपूर्ति का अनुबंध हुआ है।

Show More
Chandra Prakash Content Writing
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned