भारत फिंगर-8 तक पेट्रोलिंग की मांग चीन से कर रहा, यही समझौता भी हुआ है- रक्षा मंत्रालय

Highlights.
- राहुल गांधी ने पिछले दिनों केंद्र सरकार पर चीन के सामने मत्था टेकने का आरोप लगाया था
- रक्षा मंत्रालय ने राहुल के आरोपों का जवाब देते हुए कि भारत का क्षेत्र फिंगर-8 तक है, यह सही नहीं है
- केंद्रीय गृह राज्य मंत्री जी. किशन रेड्डी और केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने भी राहुल पर निशाना साधा

 

नई दिल्ली।

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने लोकसभा में आरोप लगाया था कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने चीन के सामने मत्था टेक दिया है। उनके आरोपों के जवाब में रक्षा मंत्रालय ने बयान जारी कर इससे साफ इनकार किया है। रक्षा मंत्रालय के अनुसार, यह कहना बिल्कुल सही नहीं है कि भारतीय क्षेत्र सिर्फ फिंगर फोर तक है। भारत के नक्शे में देश का वह क्षेत्र उसको भी दर्शाता है, जो चीन के कब्जे में है।

राहुल के आरोपों पर रक्षा मंत्रालय ने शुक्रवार दोपहर बयान जारी कर सफाई दी। रक्षा मंत्रालय के मुताबिक यह कहना बिल्कुल सही नहीं है कि भारतीय क्षेत्र फिंगर 4 तक है। देश के मानचित्र में भारत का इलाका उसको भी दर्शाता है, जो चीन के क जे में है, जो लगभग 43,000 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र है। वास्तविक नियंत्रण रेखा भारत के मुताबिक फिंगर 8 तक है, न कि फिंगर 4 तक। यही वजह है कि भारत हमेशा फिंगर 8 तक पेट्रोलिंग करने की मांग दोहराता रहा है और यही चीन के साथ समझौता भी हुआ है। रक्षा मंत्रालय ने कहा कि गोगरा हॉट स्प्रिंग व देपसांग वैली में भी जो विवाद है, उसे भी सुलझा लिया जाएगा। पैंगोंग में सैनिकों की वापसी के 48 घंटे बाद इन क्षेत्रों भी पूर्व की स्थिति बहाल करने को लेकर बात शुरू की जाएगी।

वहीं, केंद्रीय गृह राज्य मंत्री जी. किशन रेड्डी ने भी काग्रेस नेता राहुल गांधी पर उनके आरोपों को लेकर निशाना साधा है। रेड्डी ने कहा कि राहुल को जवाहरलाल नेहरू से पूछना चाहिए कि चीन को भारत का क्षेत्र किसने दिया। तब उन्हें जवाब मिल जाएगा कि कौन देशभक्त है और कौन नहीं है।

दूसरी ओर, केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने भी राहुल गांधी पर हमला बोला। नकवी ने कहा कि बीते कुछ समय से राहुल गांधी के अजीबो-गरीब बयान आ रहे हैं। अगर राहुल सुपारी लेकर देश को बदनाम करने की साजिश और सुरक्षाबलों के मनोबल को तोडऩे के षडयंत्र में लगे हैं, तो उनका कोई इलाज नहीं है।कां ग्रेस नेता ने कहा कि हमारी एयरफोर्स और नेवी चीन के सामने खड़े होने को तैयार है, लेकिन पीएम नरेंद्र मोदी चीन के सामने खड़े नहीं हो पाए। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह के पैंगोंग त्सो लेक में पेट्रोलिंग और अन्य गतिविधियों को लेकर हुए समझौते पर राहुल ने कहा कि यह कैसी सफलता है, घर हमारा है। पूरी दुनिया कह रही है कि चीन हमारे घर के अंदर आया है और हमने उनको अपना घर दे दिया। यह चीन की सफलता हो सकती है।

Ashutosh Pathak
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned