Karnataka : मंत्री और उनकी पत्नी को घर पर टीका लगाने के बाद फंसे स्वास्थ्य अधिकारी, केंद्र ने मांगी रिपोर्ट

  • घर पर टीका लगवाना नियमों के खिलाफ।
  • स्वास्थ्य अधिकारी को कारण बताओ नोटिस जारी।

नई दिल्ली। कर्नाटक में कोविड-19 टीकाकरण अभियान के नियमों का उल्लंघन कर राज्य के कृषि मंत्री बीसी पाटिल और उनकी पत्नी को घर पर ही टीका लगाने का मामला तूल पकड़ता जा रहा है। फिलहाल टीका लगाने वाले अधिकारी को कारण बताओ नोटिस जारी किया गया है। राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन की निदेशक अरूंधति चंद्रशेखर ने हावेरी के प्रजनन एवं बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम अधिकारी डॉ. जयांनद एम को कारण बताओ नोटिस भेजकर पूछा है कि नियमों का उल्लंघन क्यों किया गया। केंद्र ने भी इस विषय पर राज्य सरकार से रिपोर्ट मांगी है।

टीका लगाने का नियम

भारत सरकार के दिशानिर्देशों के अनुसार टीकाकरण निर्धारित अस्पतालों में ही किया जाना चाहिए। लेकिन मंत्री बीसी पाटिल और उनकी पत्नी के मामले में नियम का उल्लंघन किया गया। अगर प्रजनन एवं बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम अधिकारी दोषी पाये जाते हैं तो उनके विरूद्ध कार्रवाई की जाएगी।

इस बीच स्वास्थ्य मंत्री डॉ. के सुधाकर समेत विभिन्न वर्गों द्वारा आलोचना किए जाने के बावजूद पाटिल ने कहा कि घर पर टीका लगवाने में कुछ भी गलत नहीं था।

Dhirendra
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned