Patrika Positive News: मिजोरम के विद्युत मंत्री ने अस्पताल में खुद लगाया पोछा, सोशल मीडिया पर हो रही तारीफ

Patrika Positive News: यह तस्वीर मिजोरम के मंत्री लालजिर्लियाना (R Lalzirliana) की है, वीआईपी कल्चर से दूर रहकर उन्होंने खुद सफाई करने का फैसला लिया।

नई दिल्ली। कोरोना महामारी के दौर में अस्पतालों में स्वास्थ्य सेवाओं को लेकर खूब शिकायतें देखने को मिल रही हैं। मगर सोशल मीडिया (Social Media) पर एक तस्वीर ऐसी है जो इसके उलट है। यह तस्वीर मिजोरम के मंत्री आर. लालजिर्लियाना (R Lalzirliana) की है, जो एक अस्पताल में पोछा लगाते दिख रहे हैं। यह तस्वीर वायरल हो चुकी और खूब वहावाही बटोर रही है।

Read More: Patrika Positive News: झारखंड में कोरोना रिकवरी रेट राष्ट्रीय औसत से ज्यादा

हर कोई भारत के इस राजनेता की जमकर तारीफ कर रहा है। पत्रिका पॉजिटिव न्यूज ( patrika positive news a>) के जरिए हम आपको ये दिखाना चाहते कि किस तरह से वीआईपी कल्चर को ताक पर रखकर मंत्री ने जनसेवा को अपना कर्तव्य बना लिया। अगर हर कोई इस भावना से सोचे तो इस मुश्किल समय में वह अपना योगदान देकर कई लोगों की मदद कर सकता है।

दो दिनों तक ICU में रहे

आपको बता दें कि 71 वर्षीय मिजोरम सरकार में विद्युत मंत्री लालजिर्लियाना कुछ दिनों पहले इस अस्पताल में कोरोना संक्रमित होने के कारण भर्ती हुए थे। उन्होंने बताया कि दो दिनों तक मिनी ICU में रहने के बाद उनका स्वास्थ्य ठीक हो रहा है और उन्होंने किसी तरह की वीआईपी ट्रीटमेंट नहीं लिया।

फोटो में नजर आ रहा है कि अस्पताल की गाउन पहने विद्युत मंत्री हाथ में पोछा लेकर अस्पताल के वार्ड की जमीन साफ कर रहे हैं। अस्पताल का नाम जोराम मेडिकल कॉलेज है।

Read More: गेम-चेंजर साबित हो सकती है DRDO की कोरोना दवा 2DG, 10 हजार डोज की पहली खेप अगले हफ्ते होगी लॉन्च

खुद ही फर्श साफ करने का फैसला किया

फोटो के वायरल होने के बाद मंत्री ने कहा कि उनका मकसद अस्पताल स्टाफ को शर्मिंदा करना नहीं था। मीडिया से बातचीत में लालजिर्लियाना ने बताया कि उन्होंने सफाईकर्मी को वॉर्ड की सफाई के लिए बुलाया था। मगर जब कर्मी ने उनकी बात को अनसुना कर दिया तो उन्होंने खुद ही फर्श साफ करने का फैसला लिया।

12 मई को ऑक्सीजन स्तर कम हुआ

उन्होंने कहा कि वे यहां पर ठीक हैं। मेडिकल स्टाफ और नर्स ने उनकी बहुत अच्छी देखभाल की है। रिपोर्ट के अनुसार, मंत्री उनकी पत्नी और बेटा पहले होम आइसोलेशन में थे, लेकिन 12 मई को ऑक्सीजन स्तर कम होने लगा। जिसके बाद लालजिर्लियाना को अस्पताल में दाखिल कराया गया था।

Mohit Saxena
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned