scriptindian origin nri south african women receive international honors | भारतीय मूल की दो युवा महिलाएं राबिया घूर और सुमैया वैली को मिला अंतरराष्ट्रीय सम्मान | Patrika News

भारतीय मूल की दो युवा महिलाएं राबिया घूर और सुमैया वैली को मिला अंतरराष्ट्रीय सम्मान

locationनई दिल्लीPublished: Jul 15, 2021 09:55:30 pm

Submitted by:

Mohit Saxena

राबिया घूर (Rabia Ghoor) को 2021 के लिए फोर्ब्स वुमन अफ्रीका 'यंग अचीवर्स' पुरस्कार दिया गया है। वहीं सुमैया वैली (Sumaiya valley) को 2021 की टाइम्स-100 की सूची में शामिल करा है।

indian origin nri south african women
indian origin nri south african women

प्रिटोरिया। दक्षिण अफ्रीका (South Africa) के प्रिटोरिया शहर की भारतीय मूल की दो युवा महिलाओं ने इस हफ्ते अपने हौसले और कार्यक्षमता के बल अंतरराष्ट्रीय सम्मान प्राप्त किया है। इनमें एक 21 वर्षीय सौंदर्य उत्पाद उद्यमी है तो दूसरा 30 वर्षीय वास्तुकार हैं।

ये भी पढ़ें: पाकिस्तान से सटी चौकी पर कब्जे के बाद तालिबानियों को मिला खजाना, हाथ लगे 3 अरब रुपये

'यंग अचीवर्स' पुरस्कार दिया गया

सौंदर्य उत्पाद उद्यमी राबिया घूर (Rabia Ghoor) को 2021 के लिए फोर्ब्स वुमन अफ्रीका 'यंग अचीवर्स' पुरस्कार दिया गया है। वहीं वास्तुकार सुमैया वैली को 2021 की टाइम्स-100 की सूची में शामिल करा है। घूर को पुरस्कार की घोषणा वर्चुअल फोर्ब्स शिखर सम्मेलन में करी गई। घूर ने 14 वर्ष की उम्र में 'स्विच ब्यूटी की स्थापना करी थी। ये मेकअप और स्किनकेयर का ऑनलाइन ब्यूटी स्टोर है। दो वर्ष के बाद स्कूल से निकलकर वह अपने कारोबार को बढ़ाने पर ध्यान देने लगीं।

घूर के अनुसार उन्होंने सौन्दर्य ब्रांड बनाने के लिए उत्पाद के लिए फॉर्मूलेशन, ई-कॉमर्स, पैकेजिंग, विनिर्माण, डिजाइन के अपने अंतिम लक्ष्य को पूरा कर लिया। इस दौरान उन्होंने कई नए तरह के ट्रेंड भी निकाले।

ये भी पढ़ें: महिलाएं पुरुषों के साथ न जाएं बाजार, पुरुषों दाढ़ी रखना जरूरी, जानिए किस देश ने जारी किए ऐसे फरमान

टाइम्स-100 लिस्ट में स्थान मिला

वहीं सुमैया वैली को लंदन की सर्पेन्टाइन गैलरियों के लिए पैवेलियन के डिजाइन में अपनी भूमिका के लिए टाइम्स-100 लिस्ट में स्थान मिला है। वैली सबसे कम उम्र की आर्किटेक्ट बन गईं। वैली ने कंपनी काउंटरस्पेस की स्थापना पांच वर्ष पहले कुछ दोस्तों के साथ मिलकर शुरू की थी। इस दौरान वे जोहानिसबर्ग विश्वविद्यालय के ग्रैजुएट स्कूल ऑफ आर्किटेक्चर में लेक्चरार भी थीं।

ट्रेंडिंग वीडियो