WTO मंत्री स्तरीय बैठक दिल्ली में शुरू, कम विकसित देशों की समस्याओं पर होगा विचार

WTO मंत्री स्तरीय बैठक दिल्ली में शुरू, कम विकसित देशों की समस्याओं पर होगा विचार

Siddharth Priyadarshi | Publish: May, 13 2019 02:14:47 PM (IST) | Updated: May, 13 2019 05:37:16 PM (IST) विश्‍व की अन्‍य खबरें

  • विश्व व्यापार संगठन के महानिदेशक रॉबर्टो अजेवेडो भी इस बैठक में भाग ले रहे हैं
  • दिन पर दिन गहरी हो रही है विकसित और विकासशील देशों के बीच की खाई
  • विश्व व्यापार संगठन के समाने खुद की प्रासंगिकता साबित करने की चुनौती

नई दिल्ली। विश्व व्यापार संगठन के बैनर तले विकासशील देशों की डब्ल्यूटीओ मंत्री स्तरीय बैठक आज नई दिल्ली में शुरू हुई। दो-दिवसीय बैठक ऐसे समय में हो रही है जब भारत में चुनाव हो रहे हैं। लम्बे समय से विश्व व्यापार संगठन पर यह आरोप लग रहे हैं की उसकी बहुपक्षीय नियम-आधारित व्यापार प्रणाली गंभीर से अति गंभीर चुनौतियों का सामना कर रही है। विश्व व्यापार संगठन द्वारा एक बयान में कहा गया है कि बैठक में मंत्रियों को विभिन्न मुद्दों और आगे के रास्ते पर चर्चा करने का अवसर मिलेगा।

अब छूटेंगे चीन और पाकिस्तान के पसीने, अमरीका भारत को देगा THAAD मिसाइल सिस्टम

डब्ल्यूटीओ मंत्री स्तरीय बैठक

बैठक के पहले दिन भाग लेने वाले देशों के वरिष्ठ अधिकारियों की एक बैठक आयोजित की जा रही है। कल मंत्रिस्तरीय बैठक होगी। बैठक में सोलह विकासशील देशों और छह विकसित देशों के एलडीसी भाग ले रहे हैं। भाग लेने वाले प्रमुख देशों में चीन, दक्षिण अफ्रीका, ब्राजील, सऊदी अरब, तुर्की, कजाकिस्तान और बांग्लादेश शामिल हैं। डब्ल्यूटीओ के महानिदेशक रॉबर्टो अजेवेडो भी इस बैठक में भाग ले रहे हैं। बैठक डब्ल्यूटीओ को प्रभावित करने वाले विभिन्न मुद्दों पर आम चिंताओं को साझा करने और मुद्दों पर एक साथ काम करने के लिए विकासशील और कम विकसित देशों को एक साथ लाने का एक प्रयास है। अगले साल जून में कजाकिस्तान में होने वाले डब्ल्यूटीओ के बारहवें मंत्रिस्तरीय सम्मेलन के मद्देनजर इस बैठक में संस्थागत बातचीत के विभिन्न मुद्दों पर पूर्व विचार-विमर्श भी किया जाएगा।

बलूच लिब्रेशन आर्मी का ऐलान, चीन बंद करे पाकिस्तान की मदद वरना होते रहेंगे हमले

डब्ल्यूटीओ के सामने अस्तित्व का प्रश्न

हाल के दिनों में डब्ल्यूटीओ के विवाद निपटान तंत्र के अस्तित्व पर खतरा मंडरा रहा है। सदस्यों द्वारा एक दूसरे के खिलाफ एकतरफा उपाय और पलटवार किए जा रहे हैं। बातचीत के प्रमुख क्षेत्रों में गतिरोध डब्ल्यूटीओ की स्थिति को एक प्रभावी बहुपक्षीय संगठन के रूप में भी प्रभावित करता है। वर्तमान स्थिति ने डब्ल्यूटीओ में सुधार के लिए विभिन्न मांगों को जन्म दिया है। माना जा रहा है कि दो-दिवसीय बैठक विकासशील देशों को विश्व व्यापार संगठन में बहुपक्षीय व्यापार प्रणाली के मूल सिद्धांतों को संरक्षित करते हुए डब्ल्यूटीओ सुधारों पर आगे बढ़ने के लिए आम सहमति बनाने का अवसर प्रदान करेगी।

भारत ही नहीं, इन देशों का चुनाव भी बदल सकता है दुनिया की तस्वीर

भारत कर रहा है मेजबानी

उद्घाटन सत्र में बोलते हुए भारत के वाणिज्य सचिव डॉ अनूप वधावन ने कहा कि बहुपक्षीय नियम-आधारित व्यापार प्रणाली के लिए चुनौतियां एकपक्षीय उपायों और जवाबी उपायों के रूप में सामने आती हैं। इसके चलते वार्ता के प्रमुख क्षेत्रों में गतिरोध आता है और अपीलीय निकाय की विश्वसनीयता पर बट्टा लगता है। उन्होंने कहा, अपीलीय निकाय में लॉगजम, डब्ल्यूटीओ के विवाद निपटान तंत्र और संगठन के कार्यान्वयन के लिए एक गंभीर खतरा है।

विश्व से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर ..

 

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned