यूजर्स की प्रिवेसी के कारण Facebook ने हजारों ऐप्स को किया सस्पेंड

यूजर्स की प्रिवेसी के कारण Facebook ने हजारों ऐप्स को किया सस्पेंड

Vishal Upadhayay | Updated: 22 Sep 2019, 04:57:12 PM (IST) ऐप

  • कैंब्रिज एनालिटिका डेटा घोटाले के बाद लिया गया यह फैसला
  • संदेह के दायरे में आने वाले ऐप पर Facebook की जांच अभी भी जारी

नई दिल्ली: कैंब्रिज एनालिटिका डेटा घोटाले के बाद फेसबुक ( Facebook ) ने करीब 400 डेवलपरों से जुड़े हजारों ऐप को कई कारणों से निलंबित कर दिया है। फेसबुक ने संदेह के दायरे में आने वाले ऐप पर अपनी जांच अभी भी जारी रखी है। सोशल नेटवर्किंग की दिग्गज कंपनी ने कहा कि अभी तक इसकी पुष्टि नहीं हुई है कि ये ऐप लोगों के लिए खतरनाक है या नहीं।

यह भी पढ़ें: Weekly Recap: बस एक क्लिक में जानें इन हफ्ते की पांच बड़ी ख़बरें

फेसबुक ने अपने ब्लॉग पोस्ट में शुक्रवार को कहा, "वे अभी भी टेस्टिंग फेस में थे। कई काम नहीं कर रहे थे, इसलिए हमने उन सभी को निलंबित कर दिया।" एक अन्य पोस्ट में कहा गया, "कई मामलों में डेवलपरों ने जानकारी के लिए हमारे अनुरोध का जवाब नहीं दिया, इसलिए हमने उन्हें निलंबित कर दिया, क्योंकि हम कार्रवाई करने के लिए प्रतिबद्ध हैं।"

यह भी पढ़ें: Airtel ने Amazon Prime की मुफ्त सब्सक्रिप्शन के साथ नया प्रीपेड प्लान किया पेश, रोजाना 2.5GB डाटा के अलावा मिलेंगी ये बड़ी सुविधाएं

कैंब्रिज एनालिटिका डेटा घोटाले के बाद फेसबुक ने मार्च 2018 में अपना 'एप डेवलपर इंवेस्टिगेशन' शुरू किया था। कंपनी ने 2014 में अपनी प्लेटफॉर्म नीतियों को बदलने से पहले उन सभी ऐपों की समीक्षा करने का लक्ष्य रखा है, जिन्होंने बड़ी मात्रा में जानकारियां जुटाई थीं।

फेसबुक ने कहा, "हमारी ऐप डेवलपर जांच किसी भी तरह से खत्म नहीं हुई है। लेकिन रिपोर्ट करने के लिए अब तक सार्थक प्रगति हुई है। आज तक इस जांच में लाखों ऐप शामिल हुए हैं।"

यह भी पढ़ें: Huawei Mate 30 और Mate 30 Pro इन शानदार फीचर्स के साथ हुए लॉन्च, मिलेगा 5G नेटवर्क का सपोर्ट

कुछ मामलों में फेसबुक ने कुछ ऐप पर पूरी तरह से प्रतिबंध लगा दिया है। फेसबुक ने मई में कैलिफोर्निया में एक दक्षिण कोरियाई डेटा एनालिटिक्स कंपनी रेंकवेभ के खिलाफ मुकदमा दायर किया था, क्योंकि इसने जांच में सहयोग नहीं किया था।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned