scriptमर्डर मुबारक रिव्यू: पंकज त्रिपाठी के साथ इस मर्डर मिस्ट्री को सुलझाना है बेहद मजेदार | murder mubarak review pankaj tripathi sara ali khan vijay verma | Patrika News

मर्डर मुबारक रिव्यू: पंकज त्रिपाठी के साथ इस मर्डर मिस्ट्री को सुलझाना है बेहद मजेदार

locationजयपुरPublished: Mar 15, 2024 12:42:21 pm

Submitted by:

Janardan Pandey

फिल्म : मर्डर मुबारक
डायरेक्टर : होमी अदजानिया
कास्ट : पंकज त्रिपाठी, सारा अली खान, विजय वर्मा, डिंपल कपाड़िया, करिश्मा कपूर, संजय कपूर, टिस्का चोपड़ा, आशिम गुलाटी, प्रियांक तिवारी, देवेन भोजानी, बृजेन्द्र काला
निदेशक: होमी अदजानिया
प्लेटफॉर्म : नेटफ्लिक्स
ड्यूरेशन : 2 घंटे 13 मिनट
स्टार : 4

murder mubarak
murder mubarak review
कभी - कभी किसी के राज को जानना भी सेहत के लिए हानिकारक होता है। और जब बात और बिगड़ जाए तो इसमें जान भी जा सकती है। मर्डर मुबारक मल्टी लेयर वाली ह्यूमर से भरपूर मर्डर मिस्ट्री है। इसमें कई किरदार दिखाए गए हैं और सभी के अपने अपने राज हैं, कुछ के निशान गहरे हैं तो कुछ आम से हैं लेकिन सब के पीछे छुपी है एक दिलचस्प कहानी। ऐसी ही एक कहानी को फिल्म के रूप में लेकर आएं हैं, फिल्म डायरेक्टर होमी अदजानिया।
इस फिल्म में अमीरों की जिंदगी को दिखाया गया है, और ये बताया गया है कि अक्सर जो हमें दिखता है वह असल में होता नहीं है। कहानी की शुरुआत द रॉयल दिल्ली क्लब में होती है, जहां दिवाली पार्टी में एक बच्ची की रोने की आवाज सभी का ध्यान अपनी तरफ खींचती है। इस पार्टी में हर तरह के लोग होते हैं, फिल्मी सितारों से लेकर बड़े उद्योगपति और राजा-महाराजा तक।
बॉलीवुड समाचार- Bollywood News in Hindi

फिल्म की कहानी द रॉयल दिल्ली क्लब के इर्द गिर्द घूमती है, यह वह जगह है जहां सभी आमिर लोग अपनी मौजुगी दर्ज कराना अपनी शान समझते हैं। हालांकि, इन्हीं जाने माने बड़े नामों पर मुसीबत का पहाड़ तब टूटता है, जब उसी क्लब में काम करने वाला पॉपुलर लड़के लियो मैथ्यू (आशिम गुलाटी) की एक्सरसाइज करने के दौरान मौत हो जाती है। सबसे पहले, इस घटना को कोई गंभीर नहीं लेता, क्लब के प्रेसिडेंट इसे एक हादसा मानते हैं, पर एसीपी भवानी सिंह (पंकज त्रिपाठी) अपनी विशेष शैली से यह साबित करते हैं कि यह कोई अकस्मात नहीं है, बल्कि एक सोची समझी मर्डर की गुत्थी है।
फिल्म समीक्षा- Film Review in Hindi

लियो मैथ्यू एक ऐसा इंसान है जो चालाकी में माहिर है और क्लब में आने वाले हर किसी के राज जानता है। इसलिए, जब एसीपी भवानी सिंह किसी से मिलते हैं, वे हर किसी पर शक करते हैं। वे आरोपी का पता लगाने में बहुत अच्छे हैं, और उनकी तेज नजरों से कुछ भी छिप नहीं सकता। इस फिल्म में बहुत सारे रोमांचक मोड़ हैं, जो दर्शकों को अंत तक बांधे रखते हैं। हर बार जब लगता है कि अब कहानी समझ में आ जाएगी, तब एक नया राज़ खुलता है।
इस फिल्म में विजय वर्मा, सारा अली खान, टिस्का चोपड़ा, संजय कपूर, डिंपल कपाड़िया, और करिश्मा कपूर ने अपने किरदारों को जीवंत किया है। परंतु, पंकज त्रिपाठी को उनकी उत्कृष्ट एक्टिंग के लिए सबसे अधिक प्रशंसा मिली है। इसके साथ ही, फिल्म के निर्देशक होमी अदजानिया ने इसे बेहतरीन तरीके से पेश किया है और गजल धालीवाल और सुप्रोतिम सेनगुप्ता द्वारा लिखी गई कहानी बेहद दिलचस्प है। इसे दिनेश विजन ने प्रोड्यूस किया है और यह फिल्म नेटफ्लिक्स पर दर्शकों को एंटरटेन करने के लिए उपलब्ध है।

ट्रेंडिंग वीडियो