Pune Covid 19 Treatment : कोविड-19 का उपचार : अर्थराइटिस की दवा टोसिलीजुमैब बचाएगी कोरोना मरीजों की जान

ससून जनरल हॉस्पिटल ( Sasun Genral Hospital ) में एक मरीज पर अर्थराइटिस (संधिवात) के उपचार से जुड़ी दवा टोसिलीजुमैब ( Tocilizumab ) का इस्तेमाल डॉक्टरों ( Doctor ) ने किया। इसके बाद संबंधित मरीज की सेहत में सुधार देखा गया। अस्पताल प्रशासन ( Hospital Adminstration ) ने गंभीर हालत वाले 25 मरीजों को टोसिजीलुमैब इंजेक्शन लगाने का फैसला किया है।

By: Binod Pandey

Updated: 23 May 2020, 01:33 PM IST

पत्रिका न्यूज नेटवर्क
पुणे. तमाम प्रयासों के बावजूद दुनिया भर के वैज्ञानिक अभी तक कोरोना के उपचार की दवाई या वैक्सीन ईजाद नहीं कर पाए हैं। ऐसे में गंभीर रोगियों की जान बचाने के लिए वैज्ञानिक पहले से उपलब्ध कुछ दवाओं का इस्तेमाल कर रहे हैं। इसी कड़ी में ससून जनरल हॉस्पिटल में एक मरीज पर अर्थराइटिस (संधिवात) के उपचार से जुड़ी दवा टोसिलीजुमैब का इस्तेमाल डॉक्टरों ने किया। इसके बाद संबंधित मरीज की सेहत में सुधार देखा गया। अस्पताल प्रशासन ने गंभीर हालत वाले 25 मरीजों को टोसिजीलुमैब इंजेक्शन लगाने का फैसला किया है।

यह भी पढ़े:- India-China Border : लद्दाख सहित 4 LAC लोकेशनों पर ड्रैगन की मंशा क्या है?


मनपा आयुक्त आयुक्त शेखर गायकवाड़ ने बताया कि एक इंजेक्शन की कीमत 20 हजार रुपए है। संक्रमितों की जान बचाने के लिए हमने 25 इंजेक्शन खरीदने का फैसला किया है। एक मरीज पर परीक्षण सफल रहा है। बाकी रोगियों के स्वास्थ्य में भी सुधार हुआ तो हम आगे की रणनीति बनाएंगे। उन्होंने कहा कि डॉ. डीबी कदम के नेतृत्व में विशेषज्ञ चिकित्सकों की टीम बनाई गई थी। डॉक्टरों ने ऐसे मरीजों को यह इंजेक्शन देने की सिफारिश की है, जिनकी उम्र 50 साल से कम है और हालत गंभीर है।

यह भी पढ़े:- इन 6 राज्यों के हवाई यात्रियों को नहीं मिलेगी सीधे एंट्री, States Government ने जारी की गाइडलाइन

स्वास्थ्य में सुधार
गायकवाड ने बताया कि भारती अस्पताल में भर्ती एक आंगनवाड़ी कार्यकर्ता की हालत नाजुक थी। उसे डॉक्टरों ने टोसिलीजुमैब इंजेक्शन दिया। इसके बाद उसकी सेहत में उल्लेखनीय सुधार हुआ। उन्होंने बताया कि मुंबई में भी गंभीर किस्म के रोगियों की जान बचाने के लिए यह इंजेक्शन लगाया जा रहा है।

बचेगी लोगों की जान
ससून अस्पताल के वरिष्ठ डॉक्टरों का कहना है कि इस इंजेक्शन से गंभीर रूप से बीमार लोगों की जान बचाई जा सकती है। कोरोना संक्रमितों की मृत्यु दर भी कम होगी। लोगों की जान बचाने के लिए कोविड-19 रोधी वैक्सीन या दवा ईजाद होने तक टोसिलीजुमैब का इस्तेमाल किया जा सकता है। चीन में भी संक्रमितों पर यह दवा इस्तेमाल की गई थी, जिसके नतीजे अच्छे मिले थे।

यह भी पढ़े:- Anil Ambani के लिए खड़ी हुई नई मुसीबत, 21 दिन में चुकाने हैं 5 हजार करोड़ रुपए

Binod Pandey
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned