Coronavirus Lockdown: लगातार गिरते बाजार का बुरा हाल, निवेशकों में हैं कई सारे सवाल

  • निवेशकों में लगातार पैदा हो रही है भ्रम की स्थिति
  • शेयर बाजार और म्यूचुअल फंड में निवेश को क्या करें
  • बीते 7 हफ्तों से निवेशको को लगातार हो रहा है नुकसान

By: Saurabh Sharma

Updated: 06 Apr 2020, 08:58 AM IST

नई दिल्ली। कोरोना वायरस की वजह से शेयर बाजार में लगातार गिरावट देखने को मिल रही है। जनवरी में ऊंचाई पर जाने के बाद निफ्टी 50 और सेंसेक्स 30 जैसे प्रमुख इन्डेक्स में 30 फीसदी से ज्यादा गिरावट देखने को मिल चुकी है। कई इंवेस्टर्स के इक्विटी फंड पोर्टफोलियो के खऱाब दिखने की संभावना भी बन गई ळै। हालांकि मौजूदा बाजार की स्थिति आकर्षक कीमतों पर अच्छे शेयर की खरीदारी के नए अवसर भी पैदा करती है। वहीं दूसरी ओर लालच और डर कई निवेशकों से बड़ी गलतियां भी करा सकता है। ऐसे में आपको कर्ठ तरह की सावधानियां भी बरतने की जरुरत है। ऐसे में Paisabazaar.com से बात करने पर चला कि इस माहौल में निवेशकों को क्या करना चाहिए और किस तरह की सावधानियां बरतनी चाहिए।

सवाल: क्या मुझे अपने नुकसान की भरपाई के लिए अपने मौजूदा म्यूचुअल फंड को बेच देना चाहिए?
जवाब: नहीं, इक्विटी बाज़ारों में घबराहट से आई गिरावट के कारण अपने मौजूदा म्यूचुअल फंड को बेचने से बचना चाहिए। बेचने का निर्णय मुख्य रूप से आपके आर्थिक लक्ष्यों पर आधारित होना चाहिए। इसके अलावा कम कीमत पर उनमें फिर से निवेश करने के उद्देश्य से म्यूचुअल फंड बेचने से बचें। क्योंकि बाजार पर किसी तरह की भविष्यवाणी नहीं की जा सकती है। ऐसे में संभावित नुकसान को वास्तविक नुकसान में बदलना बेवकूफी होगी। बाजार में तेजी आने पर यह निर्णय आपके आर्थिक लक्ष्यों को गंभीर रूप से प्रभावित कर सकता है।

सवाल: क्या मुझे अपनी मौजूदा एसआईपी को रोकनी चाहिए?
जवाब: बाजार में मंदी के दौरान अपनी एसआईपी को जारी रखना अधिक महत्वपूर्ण हो जाता है। इससे आप कम एनएवी पर अधिक यूनिट खरीद सकते हैं और इस तरह, अपनी औसत निवेश लागत को कम कर सकते हैं। जब बाजार में फिर से तेजी तो कम एनएवी पर खरीदे गए यूनिट बड़ा रिटर्न देंगें।

सवाल: क्या इक्विटी म्यूचुअल फंड्स में निवेश करने का यह सही समय है?
जवाब: बाजार में आई गिरावट आपके निवेश पोर्टफोलियो में फिक्स्ड इनकम विकल्पों और अन्य निवेश विकल्पों के मुकाबले इक्विटी विकल्पों के मूल्य को कम कर सकती है। इसलिए, अपने पोर्टफोलियो को बैलेंस करने के लिए अपने फिक्स्ड इनकम विकल्पों को बेच इक्विटी फंड में निवेश करें। आप इक्विटी म्यूचुअल फंड में नया निवेश भी कर सकते हैं।

सवाल: क्या वर्तमान बाजार स्तिथि में इक्विटी म्यूचुअल फंड में निवेश करना छोटी अवधि में रिटर्न कमाने का सबसे बेहतर तरीका है?
जवाब: छोटी अवधि में रिटर्न कमाने के लिए इक्विटी म्यूचुअल फंड में एकमुश्त निवेश करने से बचें। बाजार में अभी बियर मार्केट (20त्न से ज्यादा की गिरावट) की स्तिथि है जो लंबे समय तक भी बनी रह सकती है। इसलिए निवेशकों को अच्छा रिटर्न कमाने के लिए कम से कम सात वर्षों के लिए निवेश कर के रखना चाहिए।

सवाल: वर्तमान बाजार स्तिथि में निवेश करने के लिए आदर्श म्यूचुअल फंड कैटेगिरी कौन सी हैं?
जवाब: मल्टी-कैप फंड इस लिस्ट में सबसे ऊपर होना काफी जरूरी है। ये फंड बाजार में आए बदलावों के अनुसार अपने निवेश को अलग-अलग कंपनियों और क्षेत्रों में कम और बढ़ा सकते हैं। मल्टी-कैप फंड की यही विशेषता उन्हें इस स्तिथि में आदर्श विकल्प बनाती है। जो निवेशक कम जोखिम लेना चाहते हैं वो लार्ज-कैप फंड में निवेश कर सकते हैं। वहीं निवेशक अपने पोर्टफोलियो के एक हिस्से को इंडेक्स फंड में भी निवेश कर सकते हैं, क्योंकि बाजार को लेकर भविष्यवाणी करना मुश्किल है, लेकिन इंडेक्स फंड में निवेश बाजार में तेज़ी आते ही आपको तुरंत रिटर्न देगा जबकि मैनेज इक्विटी फंड सुरक्षित खेलने की नीति के कारण ये मौका गंवा सकते हैं।

सवाल: इक्विटी फंड में निवेश के दौरान क्या एहतियात बरतनी चाहिए?
जवाब: इक्विटी फंड में निवेश के लिए अपना इमरजेंसी फंड उपयोग करने से बचें। बाजार में मंदी के दौरान ऐसी स्थिति आ सकती है, जब आपको आर्थिक इमरजेंसी के कारण अपना इक्विटी फंड निवेश घाटे में निकालना पड़े या ज्यादा ब्याज़ दर पर लोन लेना पड़े। आर्थिक इमरजेंसी के लिए अपनी बचत को सुरक्षित रखते हुए निवेश करें।

Show More
Saurabh Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned