script बिना धमनी खोले 15 मिनट में हार्ट सर्जरी करेगा AI, मरीजों की होगी तेजी से रिकवरी | AI Do heart surgery in 15 minutes without opening artery Dr Naresh Trehan removed severe blood clots | Patrika News

बिना धमनी खोले 15 मिनट में हार्ट सर्जरी करेगा AI, मरीजों की होगी तेजी से रिकवरी

locationनई दिल्लीPublished: Jan 15, 2024 02:19:04 pm

Submitted by:

Anand Mani Tripathi

AI Heart Surgery : पल्मोनरी एम्बोलिज्म से पीड़ित 62 साल के मरीज को का ब्लड क्लॉट हटाने के लिए पहली बार एआइ से सर्जरी की गई।

ai_do_heart_surgery_in_15_minutes_without_opening_artery_dr_naresh_trehan_removed_severe_blood_clots.png

AI Heart Surgery : कृत्रिम मेधा तकनीक का इस्तेमाल अस्पतालों में भी बढ़ रहा है। गुड़गांव के एक निजी अस्पताल में पल्मोनरी एम्बोलिज्म से पीड़ित 62 साल के एक मरीज की एआइ तकनीक के जरिए सफल सर्जरी की गई। इस बीमारी में फेफड़े में ब्लड क्लॉट होता है। अस्पताल के चेयरमैन और हृदय रोग विशेषज्ञ डॉ. नरेश त्रेहान का दावा है कि फेफड़े से ब्लड क्लॉट हटाने के लिए देश में पहली बार एआइ तकनीक का इस्तेमाल किया गया।

देशभर में हार्ट अटैक के मामले बढ़ रहे हैं। इसका बड़ा कारण शरीर में बनने वाले ब्लड क्लॉट हैं। इनकी वजह से ब्लड का प्रवाह सही तरीके से नहीं हो पाता। एआइ के इस्तेमाल से ऑपरेशन के दौरान खून कम बहता है। मरीज की रिकवरी तेजी से होती है। इस तकनीक से पल्मोनरी एम्बोलिज्म से पीड़ित मरीजों का बेहतर इलाज संभव हो सकेगा।

अब धमनियों को खोलना जरूरी नहीं
पल्मोनरी एम्बोलिज्म बीमारी में ब्लड क्लॉट फेफड़ों की धमनी में रक्त के प्रवाह को ब्लॉक या बंद कर देता है। डॉ. त्रेहान का कहना है कि एआइ तकनीक के जरिए सीने और धमनियों को बिना खोले ब्लड क्लॉट को आसानी से बाहर निकाला जा सकता है। इस प्रक्रिया में 15 मिनट का समय लगता है। पहले इसके लिए बड़ा ऑपरेशन करना पड़ता था और खतरे की आशंका काफी ज्यादा रहती थी।

ताकि मरीज देख सके पूरी प्रक्रिया
सर्जरी में शामिल डॉ. तरुण ग्रोवर ने बताया कि मरीज को सांस में तकलीफ, पैर में दर्द और सूजन के बाद इमरजेंसी में लाया गया था। हमने एआइ तकनीक से उसके लंग से ब्लड क्लॉट हटाए। इसके बाद उसे दर्द व सूजन से राहत मिली। सर्जरी की यह प्रक्रिया लोकल एनेस्थीसिया देकर की जाती है, ताकि मरीज पूरी प्रक्रिया देख सके।

ट्रेंडिंग वीडियो