script कौन बनेगा नया सीएम! दिल्ली में मंथन, पटेल-जोशी शाह से मिले, क्या नए प्रयोग करेगी बीजेपी | Who will become the new CM in Rajasthan, Madhya Pradesh and Chhattisgarh | Patrika News

कौन बनेगा नया सीएम! दिल्ली में मंथन, पटेल-जोशी शाह से मिले, क्या नए प्रयोग करेगी बीजेपी

locationनई दिल्लीPublished: Dec 05, 2023 07:36:34 am

Submitted by:

Shaitan Prajapat

राजस्थान, मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ में शानदार जीत के बाद बीजेपी के सामने अब तीनों राज्यों में सर्वमान्य चेहरे को मुख्यमंत्री बनाना बड़ी चुनौती बनी हुई है। नए सीएम को लेकर दिल्ली मे मंथन चल रहा है।

prahlad_patel_amit_shah908.jpg

Who will become the new CM : राजस्थान, मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ में स्पष्ट बहुमत से जीत के बाद भारतीय जनता पार्टी के सामने अब तीनों राज्यों में सर्वमान्य चेहरे को मुख्यमंत्री बनाने की चुनौती है। सीएम चेहरा घोषित किए बगैर सामूहिक नेतृत्व और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की छवि को सामने कर चुनाव लड़ने के कारण अब 'मोदी मैजिक' से अप्रत्याशित सीएम चेहरा सामने आने की अटकलें भी लगाई जा रही है। सोमवार से शुरू हुए शीतकालीन संसद सत्र के दौरान भी संसद भवन स्थित कक्ष में पार्टी के शीर्ष नेता बैठकें करते रहे।

प्रहलाद पटेल-सीपी जोशी, अमित शाह से मिले

राजस्थान के प्रदेश अध्यक्ष सीपी जोशी और मध्य प्रदेश की नरसिंहपुर सीट से चुनाव जीतने वाले केंद्रीय मंत्री प्रहलाद पटेल ने गृह मंत्री अमित शाह से भेंट की। राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा से भी तीनों राज्यों के सांसदों ने भेंट कर सीएम के चेहरे पर फीडबैक दिया। पार्टी सूत्रों ने बताया कि सीएम दावेदारों की क्षमताओं का पार्टी आकलन कर रही है, इस सप्ताह में तीनों राज्यों में सरकार गठन हो जाएगा।

क्या नए प्रयोग करेगी बीजेपी

भाजपा के कुछ रणनीतिकार 2024 के लोकसभा चुनाव से पहले तीनों राज्यों में किसी नए प्रयोग का खतरा उठाने की जगह पुराने चेहरों के साथ ही आगे बढ़ने के पक्षधर हैं। वहीं, कुछ रणनीतिकार मानते हैं कि चूंकि पार्टी के पास सीटों की अच्छी संख्या है, नए प्रयोग की गुंजाइश बनती है। नए नेतृत्व तैयार करने का इससे अनुकूल समय नहीं हो सकता। 2014 के बाद से पार्टी राज्यों में ऐसे युवा नेतृत्व तैयार करने में जुटी है जो अगले 15 से 20 साल तक पार्टी को आगे बढ़ा सकें। यूपी, उत्तराखंड से लेकर गोवा में 50 साल से कम उम्र के मुख्यमंत्री इसीलिए बनाए गए हैं। इस फार्मूले को अपनाया गया तो युवा चेहरे के साथ बीजेपी आगे बढ़ सकती है।

यह भी पढ़ें

राजस्थान में कौन बनेगा अगला मुख्यमंत्री, बालकनाथ ने दिया ये जवाब



सीटिंग फार्मूला चला तो शिवराज को ही कुर्सी!

भाजपा ने अगर सीटिंग सीएम को ही मौका देने का फॉर्मूला अपनाया तो मध्य प्रदेश में शिवराज को चौथी बार मुख्यमंत्री बनने का मौका मिलेगा। उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, गोवा, गुजरात और मणिपुर में पार्टी ने वर्तमान मुख्यमंत्रियों को ही जीत के बाद कुर्सी दी। खास बात है कि उत्तराखंड में अपनी सीट हार जाने के बाद भी पुष्कर सिंह धामी को पार्टी ने दोबारा मुख्यमंत्री की कुर्सी सौंपी। सूत्रों का कहना है कि मध्य प्रदेश में सबसे पहले सरकार का गठन हो सकता है, क्योंकि यहां जिस तरह से मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने स्थानीय योजनाओं की ब्रांडिंग कर चुनाव जीता, उससे नेतृत्व को लेकर पार्टी के सामने असमंजस की स्थिति नहीं है।

यह भी पढ़ें

Election Result 2023: बीजेपी और कांग्रेस के बीच यहां हुई कांटे की टक्कर, कहीं 16 तो कहीं 28 वोटों से मिली हार



जीते सांसद दे सकते हैं इस्तीफा

सूत्रों का कहना है कि राजस्थान और मध्य प्रदेश में चुनाव जीतने वाले सांसदों को इस्तीफा देकर राज्य की राजनीति में जाने को पार्टी कह सकती है। ताकि पार्टी यह संदेश देने में सफल हो कि सांसदों को चुनाव लड़ाने का निर्णय गंभीर था न कि अंधेरे में तीर मारने की कोशिश। भाजपा के राष्ट्रीय महामंत्रियों की मंगलवार को होने वाली बैठक में भी तीनों राज्यों से जुड़े मुद्दों पर चर्चा होनी है।

ट्रेंडिंग वीडियो