scriptWhy Haryana, Punjab are wrestling for control over Chandigarh | चंडीगढ़ को लेकर एक बार फिर से आमने-सामने क्यों हैं पंजाब और हरियाणा ? | Patrika News

चंडीगढ़ को लेकर एक बार फिर से आमने-सामने क्यों हैं पंजाब और हरियाणा ?

हरियाणा और पंजाब के बीच एक बार फिर से चंडीगढ़ को लेकर तकरार देखने को मिल रही है। दोनों ही राज्य इस केंद्र शासित प्रदेश पर दावा ठोक रहे हैं। पर चंडीगढ़ है किसका? किसका दावा इसपर सही है और किसका गलत? आखिर ये पूरा विवाद है क्या? क्यों ये दोनों राज्य चंडीगढ़ को लेकर आमने-सामने हैं?

Updated: April 06, 2022 11:56:41 am

चंडीगढ़ किसका है? पंजाब का या हरियाणा का? ये सवाल एक बार फिर से उठने लगा है क्योंकि इस मुद्दे को लेकर ये दोनों ही राज्य आमने सामने हैं। मंगलवार को चंडीगढ़ पर पंजाब के दावों के काउन्टर में हरियाणा ने एक प्रस्ताव पास किया है। इस मुद्दे पर हरियाणा सरकार और विपक्षी दल एकजुट हो गए हैं। हरियाणा सरकार ने ये कदम पंजाब की मान सरकार के उस दावे के बाद उठाया गया है जिसमें पंजाब ने चंडीगढ़ को लौटाने की बात कही थी।
Why Haryana, Punjab are wrestling for control over Chandigarh
Why Haryana, Punjab are wrestling for control over Chandigarh
मामला क्या है?
दरअसल, केंद्र सरकार के एक नोटिफिकेशन के तहत चंडीगढ़ के 22 हजार कर्मचारियों को केंद्रीय कर्मचारियों की कैटगरी में डाल दिया गया। इसके बाद ही पंजाब सरकार ने चंडीगढ़ पर दावा ठोका जिसे हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने इसे पंजाब सरकार की साजिश करार दिया। इसके साथ ही रविवार को कहा कि “चंडीगढ़ हरियाणा का था, है और रहेगा और किसी को भी राज्य के हितों को नुकसान पहुंचाने की अनुमति नहीं दी जाएगी और वे अपने हितों की रक्षा के लिए कोई भी बलिदान देने को तैयार हैं।"

चंडीगढ़ का इतिहास
चंडीगढ़ भारत के प्रथम प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू के सपनों का शहर है जिसे योजनाबद्ध तरीके से बनाया गया था। ये शहर अपनी सुंदरता, सफाई और हरियाली के कारण सिटी ब्यूटीफुल कहा जाता है। वर्तमान में चंडीगढ़ पंजाब और हरियाणा दोनों की राजधानी है। आजादी से पहले पजांब प्रांत की राजधानी लाहौर थी लेकिन भारत के विभाजन के दौरान, पंजाब प्रांत दो भागों में विभाजित हो गया था - पश्चिमी पंजाब (पाकिस्तान में) और पूर्वी पंजाब जो कि भारत में है। 1950 में, पूर्वी पंजाब का नाम बदलकर पंजाब राज्य कर दिया गया और चंडीगढ़ को भारत सरकार द्वारा राजधानी बनाया गया।
जब फिर से विभाजित हुआ पंजाब
इसके बाद 1966 में, अविभाजित पंजाब को फिर से पंजाबी भाषी पंजाब और हिंदी भाषी हरियाणा में भाषाई अंतर के आधार पर विभाजित किया गया था। जबकि कुछ क्षेत्र नए पहाड़ी राज्य हिमाचल प्रदेश में भी चले गए थे। दो राज्य बने तो पंजाब और हरियाणा दोनों ने चंडीगढ़ को अपनी राजधानी के रूप में दावा किया। तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने विवाद को सुलझाने के लिए चंडीगढ़ को केन्द्रीय प्रशासित राज्य का दर्जा दिया था। हालांकि, ऐसे करने के बाद उन्होंने संकेत दिया कि यह केवल अस्थायी है और बाद में इसे पंजाब में स्थानांतरित कर दिया जाएगा।

इसके बाद 1976 में, केंद्र ने चंडीगढ़ की संयुक्त स्थिति को फिर से आगे बढ़ा दिया क्योंकि पंजाब और हरियाणा दोनों ही अपनी जिद्द पर अड़े थे।
सिख समुदाय ने समझौते का किया विरोध
1985 में तत्कालीन प्रधानमंत्री राजीव गांधी और अकाली दल के प्रमुख हरचंद सिंह लोंगोवाल द्वारा हस्ताक्षरित समझौते के अनुसार, चंडीगढ़ को 1986 में पंजाब को सौंपा जाना था। हालांकि, कुछ हिंदी भाषी शहर जैसे अबोहर और फाजिल्का को हरियाणा को दिया जाना था। इसके अलावा । राज्य को अपनी राजधानी बनाने के लिए 10 करोड़ रुपये की राशि भी दी जानी थी। एक तथ्य ये भी है कि इस समझौते की कभी पुष्टि नहीं हुई क्योंकि लोंगोवाल की हत्या कुछ सिख कट्टरपंथियों द्वारा कर दी गई थी। , जो इसके विरोध में थे।

ये विवाद 1990 के दशक के मध्य तक जारी था। हरियाणा ने भी हमेशा पंजाब के साथ चंडीगढ़ के एकमात्र जुड़ाव पर आपत्ति जताई क्योंकि राज्य के राजनेताओं का मानना था कि यह अंबाला जिले का एक हिस्सा है जो हरियाणा का एक अविभाज्य हिस्सा है।
यह भी पढ़ें

पंजाब में कानून-व्‍यवस्‍था पर सीएम भगवंत मान का बड़ा कदम, राज्‍य में बनेगी एंटी गैंगस्‍टर सेल

हिमाचल प्रदेश ने भी चंडीगढ़ पर ठोका दावा
इन दोनों राज्यों के अलावा हिमाचल प्रदेश ने भी 2011 में दिए गए सुप्रीम कोर्ट के फैसले के आधार पर चंडीगढ़ राजधानी के हिस्से पर दावा किया था। आदेश के अनुसार, हिमाचल प्रदेश पंजाब पुनर्गठन अधिनियम, 1966 के आधार पर चंडीगढ़ की 7.19 प्रतिशत भूमि प्राप्त करने का हकदार था।

केंद्र के दखल से पंजाब की चिंता बढ़ी
ये विवाद आज भी जारी है और पंजाब सरकार द्वारा चंडीगढ़ को लेकर पहली बार प्रस्ताव नहीं पारित किया गया है, बल्कि इससे पहले भी कई बार पंजाब ऐसा कर चुका है। पिछले कुछ वर्षों में, पंजाब में चंडीगढ़ प्रशासन में उसके घटते कद और वहां अधिक से अधिक केंद्रीय अधिकारियों की पोस्टिंग को लेकर आक्रोश बढ़ता जा रहा है। विशेषज्ञों का मानना है कि केंद्र सरकार का ये कदम न केवल चंडीगढ़ की स्थिति को बदल देगा।
पंजाब के पास नही हरियाणा जैसे बड़े आर्थिक शहर
चंडीगढ़ में इंस्टीट्यूट फॉर डेवलपमेंट एंड कम्युनिकेशन (आईडीसी) के निदेशक प्रो. प्रमोद कुमार ने कहा कि शहर आर्थिक, सांस्कृतिक और रणनीतिक रूप से महत्वपूर्ण है। एक तरफ हरियाणा है जिसके बाद गुरुग्राम और फरीदाबाद जैसे शहर हैं जो आर्थिक तौर पर काफी मजबूत हैं। वहीं, पंजाब की बात करें तो यहाँ हमेशा उस सांस्कृतिक तंत्रिका केंद्र जो एक राजधानी के साथ आता है। पंजाब की GDP में भी काफी गिरावट आई है ऐसे में चंडीगढ़ पर अपनी पकड़ को मजबूत करने में जुटा है।

वास्तव में जिस तरह से केंद्र चंडीगढ़ प्रशासन में अपनी पकड़ को मजबूत कर रहा उससे पंजाब सरकार को इस बात का डर है कि कहीं वो चंडीगढ़ में अपनी हिस्सेदारी को न खो दें।

वास्तविक मुद्दे से ध्यान भटकाने की कोशिश?
वहीं, कुछ एक्स्पर्ट्स का मानना है कि अपने पड़ोसियों के साथ पानी के बंटवारे की समस्याओं जैसे वास्तविक मुद्दों से जनता का ध्यान भटकाने के लिए पंजाब सरकार ने इसे तूल दिया है।

यह भी पढ़ें

हरियाणा के मंत्री अनिल बिज का पंजाब की 'आप' सरकार पर तीखा हमला, बताया धोखे से पैदा हुई पार्टी

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

मौसम अलर्ट: जल्द दस्तक देगा मानसून, राजस्थान के 7 जिलों में होगी बारिशइन 4 राशियों के लोग होते हैं सबसे ज्यादा बुद्धिमान, देखें क्या आपकी राशि भी है इसमें शामिलस्कूलों में तीन दिन की छुट्टी, जानिये क्यों बंद रहेंगे स्कूल, जारी हो गया आदेश1 जुलाई से बदल जाएगा इंदौरी खान-पान का तरीका, जानिये क्यों हो रहा है ये बड़ा बदलावNumerology: इस मूलांक वालों के पास धन की नहीं होती कमी, स्वभाव से होते हैं थोड़े घमंडीबुध जल्द अपनी स्वराशि मिथुन में करेंगे प्रवेश, जानें किन राशि वालों का होगा भाग्योदयमोदी सरकार ने एलपीजी गैस सिलेण्डर पर दिया चुपके से तगड़ा झटकाजयपुर में रात 8 बजते ही घर में आ जाते है 40-50 सांप, कमरे में दुबक जाता है परिवार

बड़ी खबरें

Maharashtra Political Crisis: खतरे में MVA सरकार! समर्थन वापस लेने की तैयारी में शिंदे खेमा, राज्यपाल से जल्द करेंगे संपर्क?West Bengal : मुकुल का इस्तीफा- ममता का निर्देश या सीबीआइ का डर?Karnataka Text Book Row : स्कूली पाठ्य पुस्तकों में होंगे आठ बदलावराष्ट्रपति उम्मीदवार Draupadi Murmu पर अभद्र टिप्पणी करने पर डायरेक्टर राम गोपाल वर्मा पर लखनऊ में केस दर्ज, पुलिस ने शुरू की जांचPM Modi in Germany for G7 Summit LIVE Updates: 'गरीब देश पर्यावरण को अधिक नुकसान पहुंचाते हैं, ये गलत धारणा है' : G-7 शिखर सम्मेलन में बोले पीएम मोदीयूक्रेन में भीड़भाड़ वाले शॉपिंग सेंटर पर रूस ने दागी मिसाइल, 2 की मौत, 20 घायलMaharashtra News: सांगली में परिवार के 9 सदस्यों की मौत आत्महत्या नहीं बल्कि हत्या थी, पुलिस ने किया चौका देने वाला खुलासाकेन्द्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान की Yogi से मुलाक़ात, राष्ट्रपति चुनाव और प्रदेश अध्यक्ष की तैयारी में जुटी भाजपा
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.