scriptपाई की मस्ती की शाम, रही प्रतिभाओं के नाम | Patrika News
समाचार

पाई की मस्ती की शाम, रही प्रतिभाओं के नाम

गीत,संगीत, नृत्य एवं मस्ती के बीच प्रतिभाओं ने अपने हुनर का जलवा मंच पर बिखेरा तो समूचा नगर परिषद सभागार तालियों से गूंज उठा। परिजनों में अपने लाड़लों की प्रस्तुति मोबाइल में कैद करने की होड रही। नन्हे मुन्हे व युवा प्रतिभागियों ने दाद मिली तो ठसाठस सभागार को मस्ती में रात ढलने तक डूबोए रखा। यह मौका था राजस्थान पत्रिका की शैक्षिक प्रकोष्ठ पत्रिका इन एजुकेशन (पाई) के समर कैंप के समापन ग्रैंड फिनाले का।

भीलवाड़ाJun 16, 2024 / 09:32 pm

Narendra Kumar Verma

pie in bhilwara

pie in bhilwara

गीत,संगीत, नृत्य एवं मस्ती के बीच प्रतिभाओं ने अपने हुनर का जलवा मंच पर बिखेरा तो समूचा नगर परिषद सभागार तालियों से गूंज उठा। परिजनों में अपने लाड़लों की प्रस्तुति मोबाइल में कैद करने की होड रही। नन्हे मुन्हे व युवा प्रतिभागियों ने दाद मिली तो ठसाठस सभागार को मस्ती में रात ढलने तक डूबोए रखा। यह मौका था राजस्थान पत्रिका की शैक्षिक प्रकोष्ठ पत्रिका इन एजुकेशन (पाई) के समर कैंप के समापन ग्रैंड फिनाले का।
समापन समारोह नगर परिषद के महाराणा प्रताप सभागार में रात आठ बजे शुरू हुआ। सभापति राकेश पाठक, पुलिस अधीक्षक राजन दुष्यंत, नगर विकास न्यास सचिव ललित गोयल व नगर परिषद आयुक्त हेमाराम चौधरी ने दीप प्रज्ज्वलित किया। पंडित अशोक व्यास ने मंत्र पढ़े। सरस्वती वंदना के बाद समर कैंप में करीब एक माह तक प्रशिक्षित बच्चों व युवाओं ने मंच पर जलवा बिखेरना शुरू किया। एक के बाद एक शानदार प्रस्तुति ने अतिथियों व दर्शकों का मन मोह लिया। अतिथियों ने प्रतिभागियों का हौसला बढ़ाया।
प्रतिभागियों ने दिखाया हुनर

प्रतिभागियों ने हुनर दिखाया तो सभागार में बड़ी संख्या में मौजूद परिजनों व दर्शकों ने दाद दी। हिप-हॉप डांस, गिटार वादन, कथक, वेस्टर्न व बॉलीवुड डांस की प्रस्तुति दी गई। आत्मरक्षा के गुर दिखाए। समर कैंप के दौरान उन्होंने क्या सीखा, इसकी झलक भी दिखाई। बच्चों ने एंकरिंग के जरिए मन मोहा। रैम्प पर सधे कदमों से जलवा बिखेरा। संस्कृति, राजस्थानी, वेस्टर्न एवं आधुनिकता की झलक मंच पर नजर आई।
इनका मिला सानिध्य

कार्यक्रम को महेश सेवा समिति अध्यक्ष ओमप्रकाश नाराणीवाल, माहेश्वरी पब्लिक स्कूल की प्रिंसिपल अल्पा सिंह, वर्सेटाइलइंफो सॉफ्ट के कुलदीप माथुर, कैलाश एंटरप्राईजेज के कैलाश सोनी, किंग्स वाटर पार्क के अजय जैन, प्रयास इंस्टी्टयूट के पीयूष सोनी, पीसी एजुकेशन के डायरेक्टर प्रशांत परमार का आतिथ्य मिला।
श्रेष्ठ प्रतिभागी सम्मानित

अतिथियों ने फैकल्टीज को सर्टिफिकेट के साथ श्रेष्ठ प्रतिभागियों का भी सम्मान किया। संचालन हंसा व्यास ने किया। पत्रिका के एडमिन हैड एवं शिविर प्रभारी विक्रम गहलोत, मार्केटिंग हैड अमित शर्मा एवं समाचार पत्र वितरक वेलफेयर सोसायटी अध्यक्ष अशोक खोईवाल व भूपेन्द्र सिंह बीलिया मौजूद थे।
संस्थाओं का रहा सहयोग

आजादनगर की माहेश्वरी पब्लिक स्कू ल में 20 मई से 13 जून तक कैंप लगा। विभिन्न कोर्स हुए। शिविर एवं फिनाले में नगर परिषद, माहेश्वरी पब्लिक, वर्सेटाइलइंफो सॉफ्ट, कैलाश एंटरप्राईजेज, किंग्स वाटर पार्क एवं प्रयास इंस्टी्टयूट का सहयोग रहा ।
पाई ने उभारी छिपी प्रतिभाएं

संपादकीय प्रभारी अनिल सिंह चौहान ने अतिथियों का स्वागत किया।उन्होंने कहा कि राजस्थान पत्रिका 17 साल से पाई के जरिए छिपी प्रतिभाओं को सामने लाने में जुटा है। ऐसी प्रतिभाओं ने देश एवं विदेश में अपनी श्रेष्ठता भी साबित की है। अभिभावकों को सलाह दी है कि बच्चों को मोबाइल का उपयोग उतना ही करने दें, जितनी जरूरत है। सिंह ने राजस्थान पत्रिका के अभियान एवं सतत यात्रा का भी उल्लेख किया। चीफ रिपोर्टर आकाश माथुर व नरेन्द्र वर्मा ने आभार जताया।
40 कोर्सेज का प्रशिक्षण

कैंप में सेल्फ डिफेंस, एडवांस व स्पोकन इंग्लिश, जिम्नास्टिक, एरोबिक्स, क्रिकेट, स्केटिंग, घूमर, एंकरिंग, क्विक केलक्युलेशन, वैदिक मैथ्स, स्केचिंग, कथक, रेसीन आर्ट, मेहंदी, क्ले आर्ट / पॉट डेकोरेशन, कैलीग्राफी, गिटार, ग्राफिक्स डिजाइनिंग, शूटिंग, इंटीरियर व फैशन डिजाइनिंग, होममेड चॉकलेट, डिजिटल मार्केटिंग, टैली, हैंड राइटिंग इम्प्रूवमेंट तथा बेसिक कंप्यूटर सहित 40 कोर्सेज का प्रशिक्षण दिया गया।
पाई का रहता इंतजार

पुलिस अधीक्षक राजन दुष्यत ने कहा कि पत्रिका व पाई से सदैव जुड़ाव रहा है। बच्चे हो या बड़ों, पाई का इंतजार रहता है। इससे बच्चों का बौदि्धक विकास होता है। सोच का दायरा बढ़ता है। पत्रिका के सामाजिक सरोकार की सराहना की और कि पाई जैसे आयोजन वर्ष पर्यंत हो रहें।
प्रतिभाओं को मिला मंच

सभापति राकेश पाठक ने कहा कि राजस्थान पत्रिका की अपनी विश्वसनीयता है। पाई छिपी प्रतिभाओं को सामने ला रहा है। मोबाइल की बढ़ती लत पर चिंता जताई और कहा कि बच्चे सामाजिक सरोकार से दूर होते जा रहे हैं। जरूरत अब पाई जैसे आयोजनों की है।
सामाजिक सरोकार होता मजबूत

नगर परिषद के पूर्व सभापति ओमप्रकाश नराणीवाल ने कहा कि मौजूदा परिपेक्ष्य में पाई जैसे आयोजन जरूरी है। ये सामाजिक सरोकार को मजबूती देते हैं। बहुत सीखने का अवसर देते हैं। पाई बच्चों के मानसिक व बौदि्धक विकास का परिचायक भी है।

Hindi News/ News Bulletin / पाई की मस्ती की शाम, रही प्रतिभाओं के नाम

ट्रेंडिंग वीडियो