scriptसर गौर की मूर्ति क्षतिग्रस्त हुई, लोगों में आक्रोश | Sir Gaur's statue was damaged, people were angry | Patrika News
समाचार

सर गौर की मूर्ति क्षतिग्रस्त हुई, लोगों में आक्रोश

प्रशासन बोला- सिविल लाइन चौराहे की रोटरी को व्यवस्थित कर रहे- स्थानीय लोगों ने पुलिस में दर्ज कराई शिकायत सागर. सिविल लाइन चौराहे पर रोटरी के अंदर लगी डॉ. सर हरिसिंह गौर की प्रतिमा शनिवार की सुबह जब स्थानीय लोगों को गायब मिली, तो हड़कंप मच गया। रोटरी का मलबा बीचोंबीच बिखरा पड़ा था। यह […]

सागरJun 16, 2024 / 06:32 pm

अभिलाष तिवारी

प्रशासन बोला- सिविल लाइन चौराहे की रोटरी को व्यवस्थित कर रहे- स्थानीय लोगों ने पुलिस में दर्ज कराई शिकायत

सागर. सिविल लाइन चौराहे पर रोटरी के अंदर लगी डॉ. सर हरिसिंह गौर की प्रतिमा शनिवार की सुबह जब स्थानीय लोगों को गायब मिली, तो हड़कंप मच गया। रोटरी का मलबा बीचोंबीच बिखरा पड़ा था। यह दृश्य जैसे ही लोगों ने देखा तो उनका आक्रोश भड़क उठा। शाम को डॉ. हरिसिंह गौर विवि के पुरा छात्र व स्थानीय लोग लामबंद हुए। पहले तो उन्होंने नारेबाजी की और फिर सिविल लाइन पुलिस को ज्ञापन सौंपकर सर गौर की मूर्ति चोरी होने की बात कही। इधर प्रशासनिक अधिकारियों का कहना है कि सर गौर की मूर्ति को जिपं कार्यालय के सामने शिफ्ट किया गया है। रोटरी यातायात की दृष्टि से सही नहीं थी, इसलिए उसको व्यवस्थित किया जा रहा है।

मूर्ति क्षतिग्रस्त हो गई

अचानक से रात में की गई कार्रवाई के कारण सर गौर की मूर्ति क्षतिग्रस्त हो गई है। जब लोग नए स्थल पर मूर्ति को देखने को पहुंचे और उन्हें प्रतिमा क्षतिग्रस्त मिली तो उनका गुस्सा भड़क उठा। विवि के पुरा छात्र समेत अन्य ने नगर निगम प्रशासन और स्मार्ट सिटी प्रशासन के विरुद्ध प्रदर्शन करने की योजना बनाना भी शुरू कर दिया है।

21 साल पहले लगी थी मूर्ति

बताया जा रहा है कि जून-2003 में सिविल लाइन चौराहे पर सर गौर की मूर्ति जनसहयोग से लगाई गई थी। इसको पूर्व में झांसी बस स्टैंड पर लगाया जाना था लेकिन जब एनओसी आदि नहीं मिली तो 2003 में छात्रों ने चौराहे पर लगवा दी।

10 साल में तीसरी दफा तोड़ी रोटरी

सिविल लाइन की रोटरी पर सालों से प्रयोग चल रहे हैं। पिछले 10 सालों में यह तीसरा मौका है जब रोटरी के अव्यवस्थित होने की बात कहते हुए उसे तोड़ा गया हो। दो दफा जब रोटरी का काम हुआ था तो सर गौर की मूर्ति से छेड़छाड़ नहीं की गई थी लेकिन इस बार हटा दी गई।

पुलिस में की शिकायत

घटना के बाद डॉ. अंकलेश्वर दुबे, पार्षद शिवशंकर यादव, अमन गौतम, नीलेज राजपूत, निदेश दुबे, दीपक स्वामी आदि ने सिविल लाइन पुलिस को ज्ञापन सौंपकर कार्रवाई की मांग की है।
  • आज जिन भी अधिकारियों, कर्मचारियों द्वारा सर गौर की प्रतिमा को रातोंरात चौराहे से हटाने का काम किया गया है, वह बहुत ही दुखद है। निंदनीय है। ऐसी कौन सी आफत आ गई थी कि स्मार्ट सिटी या निगम प्रशासन ने उसको रातोंरात सड़क के एक ओर शिफ्ट कर दिया। सर गौर हमारे के लिए आस्था का विषय हैं। हम उन्हें भगवान मानते हैं। मूर्ति का क्षतिग्रस्त भी कर दिया गया है। इसलिए हमने मूर्ति चोरी होने का ज्ञापन दिया है। सर गौर के अनादर को हम किसी भी कीमत पर सहन नहीं कर सकते। – डॉ. अंकलेश्वर दुबे, पुरा छात्र व पूर्व अध्यक्ष, जिला अधिवक्ता संघ
  • दो दशक से सिविल लाइन चौराहे पर सर गौर की प्रतिमा लगी है। शहर में दर्जनों विकास कार्य अधूरे पड़े हैं। ऐसे क्या जरुरत थी कि रात में सर गौर की प्रतिमा को अनादर भाव से शिफ्ट कर दिया गया। सर गौर की प्रतिमा वापस चौराहे पर लगाई जाए और जो जिम्मेदार हैं, उनके विरुद्ध कार्रवाई की जाए। – डॉ. विवेक तिवारी, राष्ट्रीय अध्यक्ष, गौर यूथ फोरम
  • सर गौर के प्रति जनभावनाएं किसी से छिपी नहीं हैं। जिसने भी ये निर्णय लिया बहुत ही दुखद है। कम से कम स्थानीय लोगों से चर्चा कर लेनी चाहिए थी और सर गौर की मूर्ति को सम्मान के साथ शिफ्ट करना चाहिए था। इस घटना से निश्चित रूप से ठेस पहुंची है। – रघु ठाकुर, समाजवादी चिंतक

Hindi News/ News Bulletin / सर गौर की मूर्ति क्षतिग्रस्त हुई, लोगों में आक्रोश

ट्रेंडिंग वीडियो