scriptGulab Kothari Articles sharir hi brahmand 15 january 2022 | शरीर ही ब्रह्माण्ड: तीन शरीर-तीन उपचार | Patrika News

शरीर ही ब्रह्माण्ड: तीन शरीर-तीन उपचार

Gulab Kothari Articles: स्थूल शरीर गौण है, सूक्ष्म शरीर प्रधान है, कारण शरीर सर्वप्रधान है। जो कर्म, द्रव्य और भोग आदि सूक्ष्म शरीर का उपकार करते दिखते हैं, किन्तु आत्मा के लिए हानिकारक अर्थात् पतन की ओर ले जाने वाले हैं, वे त्याज्य हैं। इस दृष्टि से शास्त्रों में आत्मा ही प्रधान कहा जाता है.... शरीर ही ब्रह्माण्ड श्रृंखला में शरीर संरचना की वैदिक व आध्यात्मिक विवेचना समझने के लिए पढ़िए पत्रिका समूह के प्रधान संपादक गुलाब कोठारी का यह विशेष लेख -

Published: January 15, 2022 10:12:09 am

Gulab Kothari Articles: आयुर्वेद का सिद्धान्त है कि 'रोगस्तु दोषवैषम्यं दोषसाम्यमरोगता' अर्थात् दोषों की विषमता रोग तथा समता आरोग्य है। जो द्रव्य शरीर को दूषित करते हैं, वे दोष कहे जाते हैं। वात-पित्त एवं कफ शारीरिक दोष हैं और रज व तम मानसिक दोष हैं। जिस प्रकार ब्रह्माण्ड में सूर्य, चन्द्रमा तथा वायु की गतियों से जगत् का धारण, पोषण और नियमन होता है, उसी प्रकार शरीर में वात-पित्त एवं कफ से शरीर का संचालन एवं नियमन होता है। 'त्रयो वा इमे त्रिवृतो लोका:' के अनुसार द्युलोक, पृथ्वीलोक, अन्तरिक्ष लोक तीनों त्रिधातु युक्त औषधियों के उत्पादक हैं।

'उच्छिष्टाज्जज्ञिरे सर्वम्' अथर्व सिद्धान्त के अनुसार उच्छिष्ट (प्रवग्र्य भाग) से ही विश्व का निर्माण हुआ है। चन्द्रमा का जो भाग अलग होकर वायु धरातल में प्रतिष्ठित हो जाता है, वही प्रजा का उत्पादक बनता है। गतिधर्मा वायु ही सूर्य-चन्द्रमा के आग्नेय-सौम्य-रसों को छिटका हुआ बनाकर विश्व का निर्माण करता है। इसलिए सूर्य, चन्द्रमा के साथ-साथ वायु भी सृष्टि निर्माण में अहम् तत्त्व है।

सूर्य चन्द्रमा जहां अपने प्रवग्र्य भाग से विश्व के (रोदसी ब्रह्माण्ड के) केवल उपादान कारक हैं। वहां वायु उपादान होने के साथ-साथ प्रवग्र्य भाव सम्पादन से निमित्त कारण भी है। मानव प्रजा की उत्पत्ति का सिद्धान्त भी वायु तत्त्व के आधार पर ही प्रतिष्ठित है। एकमात्र वायु से ही वृष्टि (वर्षा) होती है। मानव प्रजा के चैतन्य का आधार वायु तत्त्व (श्वास-प्रश्वास) ही माना गया है।

यह भी पढ़ें - शरीर ही ब्रह्माण्ड: नाड़ियों में बहते कर्म के संकेत

शरीर ही ब्रह्माण्ड: तीन शरीर-तीन उपचार
शरीर ही ब्रह्माण्ड: तीन शरीर-तीन उपचार
सौर तत्त्व अग्नि प्रधान है। चान्द्र तत्त्व सोम प्रधान, (जल प्रधान) है। वायु तत्त्व उभयप्रधान है। अग्नि उष्ण तत्त्व है, सोम शीत तत्त्व है, वायु अनुष्णशीत (ठण्डा न गर्म) तत्त्व है। इन तीनों तत्त्वों के तारतम्य से ही सभी पदार्थ बने हैं। पृथ्वी में अग्नि (सूर्य), जल (चन्द्र), वायु तीनों तत्त्वों का समन्वय हो रहा है। जलीय परमाणुओं ने पार्थिव मृत परमाणुओं को अपने स्नेह धर्म से एक सूत्र में बांध रखा है। आग्नेय परमाणु धनता (टुकड़े-टुकड़े) के प्रवर्तक हैं। वायु के आवरण ने भूपिण्ड की इस आग्नेय, जलीय स्थिति को सुरक्षित बना रखा है।

इस वायु को एमूष वराह कहा गया है। वायु गर्भ में ही दोनों विरुद्ध तत्त्वों के समन्वय से भूपिण्ड पिण्ड, रूप से परिणत हो रहा है। इस प्रकार तीनों के साम्य से ही पृथ्वी अपने स्वरूप में बनी हुई है। अग्नि तत्त्व की वृद्धि ज्वालामुखी के दृश्य उपस्थित कर सकती है। जलीय परमाणुओं की वृद्धि पृथ्वी को वज्र के समान कठोर बनाकर इसे ऊसर बना सकती है। वायु तत्त्व की वृद्धि इसे खण्ड-खण्ड रूप में परिणत कर सकती है।

इन्हीं तीनों पार्थिव धातुओं से औषधि-वनस्पतियों का निर्माण होता है। खायी हुई औषधियां ही शुक्र रूप में परिणत होते हुए पुरुष का उपादान कारण बनती हैं। इस प्रकार पुरुष शरीर में प्राणात्मक (तत्त्वात्मक) सौर अग्नि धातु ही 'पित्त' है। प्राणात्मक चान्द्र सोम धातु ही 'श्लेष्मा' (कफ) है। प्राणात्मक वायु ही 'वात' है। तीनों धातु प्राणात्मक हैं। ये ही तीनों धातु स्थूल शरीर के प्रतिष्ठापक हैं। साथ ही तीनों एक-दूसरे पर आश्रित हैं। तीनों की साम्यावस्था निरोगता है। विषमता रोग का कारण है।

ये वात-पित्त-श्लेष नामक तीन धातु प्राणवायु-प्राणाग्नि-प्राणसोम रूप से शरीर के धारक हैं। पंचभौतिक स्थूल शरीर अन्नमय कोश है। इस अन्नमय कोश की प्रतिष्ठा प्राणमय कोश माना गया है। रस, असृक्, मांस, मेद, अस्थि, मज्जा, शुक्र इन सातों धातुओं की समष्टि अन्नमय कोश है। सप्तधातु शरीर के स्थूल धातु हैं। त्रिधातु सूक्ष्मतत्त्व हैं। इन सूक्ष्म धातुओं की (प्राणमयकोश की) प्रतिष्ठा मनोमय कोश है, जिसे हम 'अन्तरात्मा' (कर्मात्मा) कह सकते हैं।

यह भी पढ़ें - शरीर ही ब्रह्माण्ड: ज्ञान-कर्म-अर्थ हमारे अन्न

अन्तरात्मा शरीर में है। जब तक सूक्ष्म शरीर प्रतिष्ठित है तभी तक स्थूल शरीर के स्वरूप की रक्षा है। ठीक इसी भांति स्थूल शरीर का स्वास्थ्य सूक्ष्म शरीर के स्वास्थ्य का कारण है। मनोमय कोश की शान्ति अन्तरात्मा शान्ति की मूल प्रतिष्ठा है। तीनों में परस्पर उपकार्य-उपकारक सम्बन्ध है। यही इनका परस्पर आश्रय-आश्रयी भाव है.

एकमात्र इसी आधार पर आयुर्वेद शास्त्र ने चेतना को शरीर का धातु मान लिया। चेतना युक्त अन्न रसमय शरीर ही आयुर्वेद का चिकित्सक है। कारण शरीर से युक्त स्थूल शरीर ही चिकित्सा के योग्य है। स्थूल शारीरिक चिकित्सा करते हुए प्रत्येक दशा में दोनों संस्थाओं की प्राकृतिक स्थिति को ध्यान में रखना अनिवार्य है। स्थूल शरीर की चिकित्सा आयुर्वेद शास्त्र करता है। यही पहली काय चिकित्सा है। वात-पित्त-कफ ही इस चिकित्सा का मूल है.

सूक्ष्म शरीर दूसरी लक्ष्यभूमि है, इसे ही सत्व भी कहा गया है। सत्व, रज, तम, नामक तीन धातु इस शरीर की मूल प्रतिष्ठा माने गए हैं। सत्व लक्षण सूक्ष्म शरीर को महाभारत में सप्तदश राशि से युक्त माना है। पांच ज्ञानेन्द्रियां वर्ग, पांच कर्मेन्द्रिया वर्ग, पांच प्राण, मन (प्रज्ञान), बुद्धि (विज्ञान) इन 17 कलाओं से युक्त तैजस आत्मा ही सत्त्वात्मा है-'स सप्तदशकेनापि राशिना युज्यते पुन:।'

सत्त्वात्मा की प्रतिष्ठा सत्व-रज-तम युक्त धातु त्रयी है। इस संस्था की स्वरूप रक्षा तीन धातुओं के साम्य पर ही टिकी है। सत्त्वभाग रजोगुण तथा तमोगुण से नित्य प्रभावित रहता है। सत्त्व ज्ञान प्रधान है, रज क्रिया प्रधान है, तम अर्थ प्रधान है। वात के समान ये भी तीनों अविनाभूत हैं। इन तीनों धातुओं की स्वरूपरक्षा काम, क्रोध, लोभ, मोह, मद और मात्सर्य इन छह दोषों के समूह पर आधारित है। रजोगुण से काम, क्रोध, लोभ ये तीनों दोष उत्पन्न होते हैं-
काम एष क्रोध एष रजोगुणसमुद्भव:।
महाशनो महापाप्मा विद्ध्येनमिह वैरिणम्।।
(गीता ३.३७)।

यह भी पढ़ें - शरीर ही ब्रह्माण्ड: सूर्य जैसा हो यज्ञ-तप-दान

तमोगुण से मोह, मद, मात्सर्य ये तीनों उपधातु उत्पन्न होते हैं। काम और मोह समान हैं। इसी प्रकार क्रोध और मद दोनों समान हैं। लोभ तथा तम दोनों समान हैं। जिस प्रकार सप्त स्थूल धातुओं की प्रतिष्ठा वात-पित्त-कफ वैसे ही कामादि छह शत्रुओं की प्रतिष्ठा-सत्त्व-रज-तम है। सूक्ष्म शरीर की चिकित्सा धर्म शास्त्र करता है। यही दूसरी सत्त्व चिकित्सा है। छह शत्रुओं की समानता ही इस चिकित्सा कर्म का मूल है।

कारण शरीर तीसरी लक्ष्य भूमि है। इसे ही आत्मा भी कहा गया है। विद्या, काम, कर्म ये तीन धातु इसकी मूल प्रतिष्ठा माने गए हैं। विद्या अव्यक्त के, कर्म यज्ञ के, काम महान के धातु हैं। विद्या-काममय प्राज्ञ ही कारण शरीर है। काम का साम्य ही इस संस्था की शान्ति का उपाय है। स्थूल-सूक्ष्म-संस्थाओं को अपनी प्रतिष्ठा बनाने वाले दोनों से नित्य युक्त इस कारण शरीर की चिकित्सा दर्शनशास्त्र करता है, यही तीसरी आत्म चिकित्सा है। काम साम्य ही इस चिकित्सा की मूल प्रतिष्ठा है।

आत्मा-सत्त्व-शरीर तीनों का परस्पर उपकार्य-उपकारक सम्बन्ध है। स्थूल शरीर गौण है, सूक्ष्म शरीर प्रधान है, कारण शरीर सर्वप्रधान है। जो कर्म, द्रव्य और भोग आदि सूक्ष्म शरीर का उपकार करते दिखते हैं, किन्तु आत्मा के लिए हानिकारक अर्थात् पतन की ओर ले जाने वाले हैं, वे त्याज्य हैं। इस दृष्टि से शास्त्रों में आत्मा ही प्रधान कहा जाता है।
क्रमश:

यह भी पढ़ें - शरीर ही ब्रह्माण्ड: त्याग में देना नहीं, लेना है

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Video Weather News: कल से प्रदेश में पूरी तरह से सक्रिय होगा पश्चिमी विक्षोभ, होगी बारिशVIDEO: राजस्थान में 24 घंटे के भीतर बारिश का दौर शुरू, शनिवार को 16 जिलों में बारिश, 5 में ओलावृष्टिदिल्ली-एनसीआर में बनेंगे छह नए मेट्रो कॉरिडोर, जानिए पूरी प्लानिंगश्री गणेश से जुड़ा उपाय : जो बनाता है धन लाभ का योग! बस ये एक कार्य करेगा आपकी रुकावटें दूर और दिलाएगा सफलता!पाकिस्तान से राजस्थान में हो रहा गंदा धंधाइन 4 राशि वाले लड़कों की सबसे ज्यादा दीवानी होती हैं लड़कियां, पत्नी के दिल पर करते हैं राजहार्दिक पांड्या ने चुनी ऑलटाइम IPL XI, रोहित शर्मा की जगह इसे बनाया कप्तानName Astrology: अपने लव पार्टनर के लिए बेहद लकी मानी जाती हैं इन नाम वाली लड़कियां
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.