1100 साल पुराना है 'सास-बहू मंदिर', नहीं है एक भी भगवान की प्रतिमा

भारतवर्ष में पूजा स्थलों का भरमार है। शायद ही कोई ऐसा गली-मोहल्ला होगा, जहां धार्मिक स्थल नहीं होगा।

भारतवर्ष में पूजा स्थलों का भरमार है। शायद ही कोई ऐसा गली-मोहल्ला होगा, जहां धार्मिक स्थल नहीं होगा। कुछ तो इतने पुराने हैं कि जिनकी कल्पना भी नहीं की जा सकती है। ऐसा ही एक मंदिर राजस्थान के उदयपुर में है। बताया जाता है कि यह मंदिर लगभग 1100 साल पुराना है।


इस मंदिर का नाम सहस्त्रबाहु मंदिर है। वैसे इस मंदिर को लोग सास-बहू मंदिर के नाम से भी जाना जाता है। बताया जाता है कि आस-पास कभी मेवाड़ राजवंश की स्थापना हुई थी, जिसकी राजधानी नगदा थी। बताया जाता है कि यह मंदिर मेवाड़ राजवंश के वैभव को याद दिलाता है।

sas_bahu_temple3.jpg

इतिहासकारों की मानें तो इस मंदिर का निर्माण राजा महिपाल और रत्नपाल ने करवाया था। 1100 साल पुरानी इस मंदिर का निर्माण रानी मां के लिए करवाया गया था। जबकि इसके बगल में एक और मंदिर का निर्माण करवाया गया था, जो छोटी रानी के लिए करवाया गया था।

sas_bahu_temple2.jpg

इस देवता को समर्पित है 'सास-बहू' मंदिर

बताया जाता है कि सास-बहू मंदिर में त्रिमूर्ति ( ब्रह्मा, विष्णु और महेश ) की छवियां एक मंच पर खुदी हुई है जबकि दूसरे मंच पर राम, बलराम और परशुराम के चित्र लगे हुए हैं। इतिहासकर बताते हैं कि मेवाड़ राजघराने की राजमाता ने मंदिर भगवान विष्णु को और बहू ने शेषनाग को समर्पित कराया था।

बताया जाता है कि इस मंदिर में भगवान विष्णु की 32 मीटर ऊंची और 22 मीटर चौड़ी प्रतिमा थी। लेकिन आज के समय में इस मंदिर में भगवान की एक भी प्रतिमा नहीं है। अर्थात इस मंदिर परिसर में भगवान की एक भी प्रतिमा नहीं है।

sas_bahu_temple.jpg

सहस्त्रबाहु से बना 'सास-बहू' मंदिर

इतिहासकारों की मानें तो इस मंदिर में सबसे पहले भगवान विष्णु की स्थापना की गई थी। यही कारण है कि इस मंदिर का नाम सहस्त्रबाहु पड़ा। सहस्त्राबहु का मतलब होता है 'हजार भुजाओं वाले' भगवान का मंदिर। बताया जाता है कि लोगों के सही उच्चारण नहीं कर पाने की वजह से सहस्त्रबाहु मंदिर सास-बहू मंदिर के नाम से फेमस हो गया।

sas_bahu_temple1.jpg

रामायण काल की घटनाओं से सजा है मंदिर

'सास-बहू' के मंदिर की दिवारों पर रामायण काल की अनेक घटनाओं से सजाया गया है। मंदिर के एक मंच पर ब्रह्मा, शिव और विष्णु की छवियां बनाई गई हैं, जबकि दूसरे मंच पर भगवान राम, बलराम और परशुराम के चित्र खुदे गए हैं। वहीं बहू की मंदिर की छत को आठ नक्काशीदार महिलाओं से सजाया गया है।

Show More
Devendra Kashyap
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned