तौकते तूफान से 29 गांवों में क्षतिग्रस्त हुआ विद्युत तंत्र

प्रतापगढ़. जिले के निकटवर्ती बांसवाड़ा, डूंगरपुर और उदयुपर से गुजरे तौकते तूफान का असर प्रतापगढ़ जिले में भी रहा। इस कारण कई इलाकों में चार दिन से बारिश हो रही है। तेज हवा के कारण कई इलाकों में बिजली तंत्र को नुकसान पहुंचा है। जिले में तौकते तूफान के कारण 29 गांवों में विद्युत तंत्र को नुकसान पहुंचा है। ऐसे में निगम की टीमों ने सुधार किया है।

By: Devishankar Suthar

Published: 20 May 2021, 07:44 AM IST


-तेज हवा के साथ बारिश से तार टूटे, कई इलाकों में बिजली गुल
-तौकते तूफान का असर
- चार दिन तक अंधड़ के साथ बारिश
प्रतापगढ़. जिले के निकटवर्ती बांसवाड़ा, डूंगरपुर और उदयुपर से गुजरे तौकते तूफान का असर प्रतापगढ़ जिले में भी रहा। इस कारण कई इलाकों में चार दिन से बारिश हो रही है। तेज हवा के कारण कई इलाकों में बिजली तंत्र को नुकसान पहुंचा है। जिले में तौकते तूफान के कारण 29 गांवों में विद्युत तंत्र को नुकसान पहुंचा है। ऐसे में निगम की टीमों ने सुधार किया है। वहीं प्रशासन पूरी तरह से चाक-चौबंद है।
इन दिनों में जिले के 29 गांवों में विद्युत तंत्र में करीब 20 लाख रुपए का नुकसान हुआ है। इस दौरान जिला मुख्यालय, उपखंड मुख्यालयों पर गठित टीमों ने सूचना पर मौके पर पहुंचकर विद्युत लाइन को दुरुस्त कर विद्युत आपूर्ति बहाल की है। जिले में अलग-अलग गांवों में दो दर्जन से अधिक पेड़ गिर गए। वहीं जिले में मंगलवार रात को अंधड़ के साथ बारिश होती रही। सर्वाधिक बारिश धरियावद में ढाई, प्रतापगढ़ व छोटीसादड़ी में दो, अरनोद में एक, पीपलखूंट में एक इंच बारिश हुई।
इन गांवों में हुआ नुकसान
जिले में 29 गांवों में नुकसान अधिक हुआ है। विद्युत निगम के अधीक्षक अभियंता आईआर मीणा ने बताया कि जिले में 33 केवी के 5 पोल धरियावद उपखण्ड में, 11 केवी के 91 पोल, एलटी लाइन के लगभग 38 पोल तथा 8 डीपी सेट क्षतिग्रस्त हुए है। जिसमें शहर के मालीखेड़ा, सन्नोटी, बीलाड़ा, हथुनिया, होस्पीटल कॉलोनी, बजरंगगढ़, बेलारा, बरोठा, अवलेश्वर, जहाजपुर, अमलावद, दीवाला, रामनगर, मोवाई, बेड़मा, कानपुरिया, बारावरदा, बंबोरी, मेरियाखेड़ी, गोठड़ा, बंबोरा, भाटखेड़ा, गजपुरा, बिलडिय़ा, बोरिया, पारसोला, केशरियावद, शिवपुरी गांवों में नुकसान हुआ है।

छोटीसादड़ी. उपखंड क्षेत्र में तौकते चक्रवात तूफान का असर देखने को मिला है। गर्मी के मौसम में सुबह से आसमान में घनघोर काले बादल छाए। कभी रिमझिम तो कभी तेज बारिश का दौर चला। मंगलवार शाम के समय तेज हवा चलने लगी और इसके साथ ही रातभर मूसलाधार बारिश हुई। बारिश और हवा के कारण कई इलाकों में बिजली भी बंद हो गई। हवा के कारण क्षेत्र में कई जगहों पर पेड़ धराशायी हो गए। उपखंड क्षेत्र के हडमतिया जागीर गांव में बुधवार को हवा के कारण आम का पेड़ विद्युत ट्रांसफॉर्मर पर गिर गया। लेकिन गनीमत रही कि कोई बड़ा हादसा नहीं हुआ। तार टूटने और करंट लगने की संभावना को देखते हुए विद्युत विभाग द्वारा थ्रीफेस की बिजली बंद की गई। इसके बाद सुधार किया गया।
धरियावद. धरियावद तहसील क्षेत्र में तौकते तूफान के चलते मंगलवार रात्रि को 20 से 25 किमी प्रति घंटा की रफ्तार से तेज हवा के साथ बारिश हुई। इस दौरान बीते चौबीस घंटों में धरियावद में 65 मिमी बरसात दर्ज की गई। बरसात के बाद बुधवार अलसुबह करमोई नदी में पानी की मामुली आवक देखी गई। इधर बुधवार दिनभर आसमान में बादलों की आवाजाही के बीच मौसम में ठंडक रही। तूफान के चलते धरियावद क्षेत्र में कई जगह पेड़ उखड गए। वही तेज हवाओं के चलते कही जगह बिजली के पोल क्षतिग्रस्त एवं गिरने की सूचना मिली। क्षेत्र में 5 विद्युत पोल 11 केवी के तथा 3 पोल एलटी के गिर गए। वहीं 11 केवी शिवपुरी लाइन बंद होने पर आपूर्ति बाधित रही।

पारसोला. कस्बे एवं आस-पास के क्षेत्रों में तूफान ने आम जनजीवन को प्रभावित किया है। बरसात का दौर शाम तक जारी रहा। बरसात से खेतों मे पानी भर गया है। वहीं मंगलवार रात को आधा कस्बा अन्धेरे में रहा। ग्रामीण क्षेत्र में बिजली गुल रही। कस्बे में दोपहर बाद बिजली बहाल हुई। पारसोला से धरीयावद वाया माण्डवी मार्ग पर निमार्णधीन वैण पुलिया के बायपास पर पानी भरा होने से कटाव हो गया। जिससे आने जाने मे लागों को परेशानी का सामना करना पड़ा।

=======
जिले में बुधवार सुबह नौ बजे तक हुई बारिश
तहसील बारिश
प्रतापगढ़ 48
अरनोद 28
धरियावद 65
पीपलखूंट 25
छोटीसादड़ी 48
(बारिश के आंकड़े एमएम में कंट्रोल रूम के अनुसार पिछले 24 घंटों में)
========
आपदा से निपटने के लिए विद्युत निगम अलर्ट
प्रतापगढ़.
तौकते तूफान के अलर्ट एवं भारी बारिश की आशंका के चलते अजमेर विद्युत वितरण निगम वृत प्रतापगढ़ की टीम अलर्ट मोड़ पर रहते हुए कार्य कर रही है। अधीक्षण अभियन्ता इन्द्रराज मीणा ने बताया कि प्रबंध निदेशक वीएस भाटी ने तूफान से निपटने के लिए मानक संचालन प्रक्रिया तथा दिशा-निर्देशों जारी किए गए है। इसके तहत प्रतापगढ़ वृत में जिला स्तर पर केन्द्रीय नियंत्रण केन्द्र स्थापित किया गया है जो कि 24 घंटे कार्य कर रहा है। इसी तरह खण्ड स्तरीय, उपखण्ड स्तरीय नियंत्रण केन्द्र भी स्थापित किए गए है। उपखण्डवार सहायक अभियन्ता, कनिष्ठ अभियंता, फीडर इन्चार्ज आदि को शिकायत पर त्वरित कार्यवाही के लिए निर्देश दिए गए है। जिला मुख्यालय द्वारा निगरानी के लिए अतिरिक्त मुख्य अभियंता एमएस झाला अजमेर को नियुक्त किया गया है। जिला कलक्टर के निर्देशानुसार जिला अस्पताल तथा जिले के अन्य स्वास्थ्य केन्द्रों पर विद्युत सप्लाई सुचारू बनाए रखने के लिए अलग से कर्मचारियों की ड्यूटी लगाई गई है। इसी तरह ऑक्सीजन प्लांट की नियमित सप्लाई के लिए छोटी सादड़ी से कनिष्ठ अभियन्ता की ड्यूटी लगाई गई है।

Devishankar Suthar
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned