scriptAdmission taken under RTE, but 21.45 percent students left school | RTE के तहत लिया दाखिला, पर 21.45 प्रतिशत स्टूडेंट्स ने बीच में ही छोड़ा स्कूल | Patrika News

RTE के तहत लिया दाखिला, पर 21.45 प्रतिशत स्टूडेंट्स ने बीच में ही छोड़ा स्कूल

Right to Education News: छत्तीसगढ़ के निम्न परिवार के बच्चों को उत्कृष्ट शिक्षा मिले, इसलिए शिक्षा के अधिकार अधिनियम (RTE) के तहत पिछले 10 वर्षों में 4 लाख से ज्यादा छात्रों को प्रवेश दिया गया। आरटीई नियम के तहत छात्रों ने प्रवेश तो लिया

रायपुर

Published: January 21, 2022 05:33:43 pm

रायपुर. Right To Education News: छत्तीसगढ़ के निम्न परिवार के बच्चों को उत्कृष्ट शिक्षा मिले, इसलिए शिक्षा के अधिकार अधिनियम (RTE) के तहत पिछले 10 वर्षों में 4 लाख से ज्यादा छात्रों को प्रवेश दिया गया। आरटीई नियम (RTE Rule) के तहत छात्रों ने प्रवेश तो लिया, लेकिन मनमाफिक सुविधा नहीं मिलने पर पिछले 10 वर्षों में प्रदेश के स्कूलों में पढ़ने वाले 21.45 प्रतिशत बच्चों ने शिक्षा बीच में छोड़ दी।
education.jpg
RTE के तहत लिया दाखिला, पर 21.45 प्रतिशत स्टूडेंट्स ने बीच में ही छोड़ा स्कूल
शाला त्यागी बच्चों का आंकड़ा 21.45 प्रतिशत आने पर विभागीय अधिकरियों ने चिंता जाहिर की है। विभागीय अधिकारियों का कहना है, बच्चों को स्कूल बुलाने का प्रयास किया जा रहा है। आने वाले दिनों में शाला त्यागी बच्चों का आंकड़ा कम हो, इसी प्रयास में स्कूल शिक्षा विभाग के अधिकारी लगे हुए हैं।
वनांचल के छात्रों ने ज्यादा छोड़ा स्कूल
स्कूल शिक्षा विभाग के अधिकारियों ने बताया कि शहरी इलाके के अपेक्षा ग्रामीण इलाकों में शाला त्यागने वाले छात्रों की संख्या ज्यादा है। प्रदेश के नारायणपुर, सुकमा, दंतेवाड़ा और सक्ती में बड़ी संख्या में बच्चों ने स्कूल छोड़ा है। इन बच्चों को स्कूल वापस बुलाने के लिए विभागीय अधिकारियों द्वारा पिछले दिनों अभियान चलाया जा रहा था। कोरोना की वजह से यह अभियान अभी बंद है।
इस वजह से छोड़ रहे स्कूल
स्कूल शिक्षा विभाग के अधिकारियों ने बताया कि छात्र स्कूल क्यों छोड़ रहा है? इसका आकलन विभागीय अधिकारी-कर्मचारियों द्वारा किया गया। आकलन के दौरान पता चला कि स्कूल में पढ़ने के दौरान निम्न तबके के जिन छात्रों का पढ़ाई में मन नहीं लगता, वो धीरे-धीरे स्कूल जाना छोड़ देते हैं। ग्रामीण इलाको में परिजन भी ज्यादा ध्यान नहीं देते और बच्चों का स्कूल छूट जाता है।
कई परिजन काम के लिए पलायन करते है, तो अपने बच्चों को साथ लेकर जाते है और उनका स्कूल बंद करवा देते हैं। शिक्षा के प्रति छात्र और परिजन जागरूक हो, इसलिए विभागीय अधिकारियों द्वारा जागरूकता अभियान चलाया जाता है। कोरोना काल में कई छात्रों ने पलायन किया है। संक्रमण के प्रकोप के कारण छात्र-परिजनों से संपर्क नहीं हो रहा, जिस वजह से वर्तमान में परेशानी हो रही है।
ड्रॉप आउट रोकने का चल रहा है प्रयास
स्कूल शिक्षा विभाग के प्रमुख सचिव डॉ. आलोक शुक्ला ने कहा, बच्चों की जब पढ़ाई नहीं होती या जो बच्चा सीख नहीं पाता है। वो बीच में स्कूल छोड़ देता है। कई बार परिजनों के पलायन से छात्रों का स्कूल छूट जाता है। कोरोना काल में यह चुनौती बढ़ गई है। ड्रॉप आउट को कम करने का लक्ष्य रखा गया है और इस कम करने के संबंध में निर्देश अधीनस्थ अधिकारियों को जारी किए हैं।
फैक्ट फाइल
कक्षा शाला त्यागियों की संख्या
नर्सरी- 705
केजी- 12 हजार 364
केजी 2- 24 हजार 708
पहली 6 हजार 150
दूसरी 7 हजार 531
तीसरी 6 हजार 710
चौथी 5 हजार 518
पांचवी 4 हजार 438
छठवी 4 हजार 109
सातवीं 2 हजार 551
आठवी 1 हजार 504
नौवीं 488
दसवीं 42
पिछले 10 सालों में आरटीई में इतना दाखिला
साल दाखिला
2011-12 22 हजार
2012-13 25 हजार 84
2013-14 33 हजार 560
2014-15 44 हजार 117
2015-16 25 हजार 875
2016-17 37 हजार 933
2017-18 41हजार 935
2018-19 40 हजार 216
2019-20 48 हजार 119
2020- 21 52 हजार 676
2021-22 47 हजार 382
शैक्षणिक सत्र आरटीई की सीट भरी हुई सीटें दाखिला प्रतिशत
2018-19 80 हजार 109 40 हजार 216 50.20
2019-20 84 हजार 468 48 हजार 119 56.97
2020- 21 81ं हजार 356 52 हजार 676 64.75
2021-22 83 हजार 6 47 हजार 382 53.60

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

मौसम अलर्ट: जल्द दस्तक देगा मानसून, राजस्थान के 7 जिलों में होगी बारिशइन 4 राशियों के लोग होते हैं सबसे ज्यादा बुद्धिमान, देखें क्या आपकी राशि भी है इसमें शामिलस्कूलों में तीन दिन की छुट्टी, जानिये क्यों बंद रहेंगे स्कूल, जारी हो गया आदेश1 जुलाई से बदल जाएगा इंदौरी खान-पान का तरीका, जानिये क्यों हो रहा है ये बड़ा बदलावNumerology: इस मूलांक वालों के पास धन की नहीं होती कमी, स्वभाव से होते हैं थोड़े घमंडीबुध जल्द अपनी स्वराशि मिथुन में करेंगे प्रवेश, जानें किन राशि वालों का होगा भाग्योदयमोदी सरकार ने एलपीजी गैस सिलेण्डर पर दिया चुपके से तगड़ा झटकाजयपुर में रात 8 बजते ही घर में आ जाते है 40-50 सांप, कमरे में दुबक जाता है परिवार

बड़ी खबरें

Maharashtra Political Crisis: एकनाथ शिंदे की याचिका पर SC ने डिप्टी स्पीकर, महाराष्ट्र पुलिस और केंद्र को भेजा नोटिस, 5 दिन के भीतर जवाब मांगाMaharashtra Political Crisis: सुप्रीम कोर्ट से शिंदे खेमे को मिली राहत, अब 12 जुलाई तक दे सकते है डिप्टी स्पीकर के अयोग्यता नोटिस का जवाबMaharashtra Political Crisis: क्या महाराष्ट्र में दो-तीन दिनों में सरकार बना लेगी बीजेपी? यहां पढ़ें पूरा समीकरणPresidential Election: यशवंत सिन्हा ने भरा नामांकन, राहुल गांधी-शरद पवार समेत विपक्ष के कई बड़े नेता मौजूदPunjab Budget 2022: 1 जुलाई से फ्री बिजली; यहां पढ़ें पंजाब सरकार के पहले बजट में क्या-क्या है खासपटना विश्वविद्यालय के हॉस्टलों में छापेमारी, मिला बम बनाने का सामानMumbai News Live Updates: शिवसेना नेता आदित्य ठाकरे का बड़ा बयान, कहा- ये राजनीति नहीं है, ये अब सर्कस बन गया हैMaharashtra: ईडी के समन पर संजय राउत ने कसा तंज, बोले-ये मुझे रोकने की साजिश, हम बालासाहेब के शिवसैनिक
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.