scriptबेखौफ रफ्तार : हर साल 200 से ज्यादा युवाओं की हो जाती है मौत | Patrika News
रायपुर

बेखौफ रफ्तार : हर साल 200 से ज्यादा युवाओं की हो जाती है मौत

सड़क हादसे के 70 फीसदी मामले अधिक रफ्तार के चलते हो रहे हैं। इसमें हर साल कई युवकों की जान जा रही है। इसके बावजूद रफ्तार कम नहीं हुई है।

रायपुरJun 28, 2024 / 06:55 pm

narad yogi

Exident
रायपुर से लगे तीन रिंग रोड, बिलासपुर मार्ग, बलौदाबाजार मार्ग, महासमुंद मार्ग, धमतरी-अभनपुर मार्ग, दुर्ग-भिलाई मार्ग में सबसे ज्यादा सड़क हादसे हो रहे हैं। इन मार्गों में रोज किसी न किसी की जान जा रही है। इन मार्गों में रोज भारी वाहनों के अलावा हजारों गाडि़यां गुजरती हैं। इन मार्गों में सर्विस लेन भी नहीं हैं। रिंग रोड में सर्विस लेन हैं, लेकिन कई जगह छोड़ दिया गया है। रिंग रोड में अवैध पार्किंग की भी समस्या है।
5 माह में 250 मौतें

रायपुर जिले के अलग-अलग सड़कों में पिछले 5 माह में ही सड़क हादसे में 250 लोगों की मौत हो गई और 684 लोग घायल हो चुके हैं। कुछ सड़क हादसे 906 हैं। इनमें दोपहिया, चौपहिया और भारी वाहनों के चलते सड़क हादसे शामिल हैं।
साढ़े करोड़ जुर्माना, फिर भी नहीं मान रहे

ट्रैफिक पुलिस ने जनवरी से मई 2024 तक अलग-अलग जगह वाहन चेकिंग और आईटीएमएस कैमरों की मदद से 45 हजार 763 कार्रवाई की है। इसमें ट्रैफिक नियमों के अलग-अलग उल्लंघन में साढ़े 4 करोड़ जुर्माना वसूला गया है। इनमें सबसे ज्यादा चालान तेज रफ्तार, गलत दिशा में गाडी चलाने और नो पार्किंग में वाहन खड़ी करने के हैं। अन्य ट्रैफिक उल्लंघनों के चलते भी चालान काटे गए हैं। इतना चालान कार्रवाई होने के बाजवूद ओवरस्पीड में वाहन चलाना नहीं छूटा है। नवा रायपुर में आईटीएमएस के कैमरों के जरिए भी स्टंटबाजी और ओवरस्पीड बाइकर्स के खिलाफ अपराध दर्ज किया गया है।
पुलिस की अपील

सभी लोगों से अपील है कि ओवरस्पीड में वाहन न चलाएं। इससे सड़क हादसे की आशंका रहती है। इससे स्वयं के और दूसरों के जान भी जोखिम डालते हैं। यातयात पुलिस जागरूकता अभियान के अलावा आईटीएमएस कैमरों के अलावा चौक-चौराहों में भी ट्रैफिक नियमों के उल्लंघन पर कार्रवाई करती है।
-गुरजीत सिंह, डीएसपी-ट्रैफिक, रायपुर

Hindi News/ Raipur / बेखौफ रफ्तार : हर साल 200 से ज्यादा युवाओं की हो जाती है मौत

ट्रेंडिंग वीडियो